Poem on Tears in Hindi


Poem on Tears in Hindi Language, Aansu par Kavita, Ashru Shayari, Cry, Weep, Crying, Weeping, Blubber, Moan, Sobbing, Sad, Sadness, Poetry, Slogans, Lines, Rhyming Rhymes, Sher, Sms, Messages, Ghazal, Song, Geet, Nazm, Quotes, Thoughts, Sayings, Proverbs, Words, Muktak, अश्रु पर हिंदी कविता, रोना, आँसू बहाना, विलाप, आहें भरना, कराहना, सिसकना, रुदन, आँखें नम, उदासी, शोक , शायरी, नज़्म, गज़ल, मुक्तक 

बहुत रोने को दिल करता है

बहुत रोने को दिल करता है,
पर रोना नहीं आता.
और रोना आये भी कैसे ?

आँखों से मोम के दो कतरे 
रिहा करने से पहले
तुझे दिल से बेदख़ल करना
इतना आसां जो नहीं है.

तेरी वो सख्त सी सौ
रूह की तह में आज भी ज़िन्दा है.
बात इतनी सी थी
कि उस दौर में
तुझे मेरा रोना
नागवार गुजरता था,
और तूने 
कभी पलकें गीली ना करने की कसम
सख्त लहजे में पिला दी थी.

तू शायद ये वाकिआ भूल गया होगा.
और उस रोज तेरी रुख्सती पर
मेरे मुस्कुराने को
मेरी रज़ामंदी मान ली तूने.

उस कसम की आंच में
आंसुओं के साथ
ज़िन्दगी भी भाप बन उड़ती गयी.
पलकों पर बस कुछ
ख़राशें बची हैं.
अब तो माजरा ये है कि
बहुत रोने को दिल करता है,
पर रोना नहीं आता.

It's never been easy to forget your words and my vows & promises, which i made when we were together. It's been a long time...days are passing like hell and for all this I want to cry loudly and badly. But I can't. Just because of my promise to you...that i won't cry ever, because you could not see me crying. Living such a hell life and and bearing a worst punishment...and still miss you a lot.

By Malendra Kumar ‘मलेन्द्र कुमार’

Thank you ‘Malendra’ for sharing such a touching poem. 

How is this poem about tears and weeping ? Feel free to share your views.