Saturday, April 25, 2015

Poem on Life in Hindi


‘मन’ फिल्म का एक गाना मुझे बेहद पसंद है. ‘खुशियाँ और गम सहती है, फिर भी ये चुप रहती है, अब तक किसी ने न जाना...जिंदगी क्या कहती है.’ कुछ चीजों की कोई परिभाषा नहीं होती. कविता, लेख, कहानियाँ कुछ भी उनकी सीमायें तय नहीं कर सकते. जीवन भी कुछ ऐसा ही है. जिसे शायरी या दोहे की कुछ पंक्तियों में नहीं समेटा जा सकता. फिर भी कोशिशें कहाँ रूकती है :) 

Hindi Poem : What is Life / Jeevan par Kavita 

(1)

ज़िन्दगी / Zindagi

जो चाहा कभी पाया नहीं
जो पाया कभी सोचा नहीं
जो सोचा कभी मिला नहीं
जो मिला रास आया नहीं
जो खोया वो याद आता है पर 
जो पाया संभाला जाता नहीं 
क्यों अजीब सी पहेली है जिंदगी
जिसको कोई सुलझा पाता नहीं. 

By Monika Jain 'पंछी'

(2)

सीखना है जीवन जीना / Seekhna Hai Jeevan Jeena 

ख़ुशी और गम से परे 
सीखना है जीवन जीना 
अपने और गैरों के बीच का खालीपन 
सीखना है प्रेम से सीना. 
ख़ुशी और गम से परे 
सीखना है जीवन जीना. 

पाने और खोने से ऊपर 
कभी तो उठ पाऊँगी 
कभी तो बन पाऊँगी 
एक निर्मल, निश्छल झरना. 
ख़ुशी और गम से परे 
सीखना है जीवन जीना.

मोह के धागों ने उलझाया 
अपेक्षाओं ने मन को बुझाया 
अब उलझनों से सारी 
मुझे है सुलझना. 
ख़ुशी और गम से परे 
सीखना है जीवन जीना 

बन्धनों ने बहुत तोड़ा 
ख्वाहिशों ने कहीं का ना छोड़ा 
मुक्त होकर सबसे 
निस्पृहता के आकाश में है उड़ना. 
ख़ुशी और गम से परे 
सीखना है जीवन जीना.

By Monika Jain 'पंछी'

How is this poetry about life? You can also share some status and words about life and its struggles. Read some more slogans, lines and messages about life :