Monday, January 16, 2017

Funny Quotes in Hindi

चुटकुले, हास्य उद्धरण. Funny Quotes in Hindi. Comic Dialogues, Laughing Status, One Liners Jokes, Comedy Lines, Laughter Messages, Sayings, Comments, Sentences.
 Funny Quotes in Hindi
Funny Quotes

  • 'स्टेप हेयर कट' के लिए माँ कहती है - चूहों ने बाल कुतर दिए हो जैसे। :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ (11/01/2016) 
  • बच्चे के रूप में करीब-करीब ईश्वर ही जन्म लेता है। फिर माता-पिता और समाज उसे बिगाड़ने का कार्य करते हैं। :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ (29/12/2016) 
  • कुछ लोगों को आपकी पोस्ट्स इतनी पसंद आती है, इतनी पसंद आती है, इतनी पसंद आती है कि वे उसे अपनी ही बना लेते हैं। उनके लिए यह स्वीकार करना संभव ही नहीं होता कि यह उन्होंने नहीं लिखी है। :) ~ Monika Jain ‘पंछी’ (21/12/2016) 
  • एक ज़माने में मैं इतनी बुद्धू थी (अभी भी कम नहीं :p ) कि एक दोस्त ने मेरे मजे लेने के लिए मुझसे कहा, 'हमारे यहाँ पर बेस्ट फ्रेंड को मुर्गीचोर कहा जाता है।' मैंने थोड़ा संदेह जताया तो उसने कहा, 'चाहो तो किसी और से पूछ लो!' और मैं आराम से वहीँ पर रहने वाले एक कॉमन फ्रेंड से पूछ भी आई कि क्या आपके यहाँ बेस्ट फ्रेंड को मुर्गीचोर कहते हैं? ~ Monika Jain ‘पंछी’ (27/09/2016) 
  • अपने घर में मैं नास्तिक समझी जाती हूँ। मेरी जन्मकुंडली में लिखा है मैं बहुत बड़ी धर्मात्मा बनूँगी और यहाँ फेसबुक पर शायद आध्यात्मिक समझते हैं मित्र। और फिर मैंने इनमें से कुछ भी बनना कैंसिल कर दिया। :p :) ~ Monika Jain ‘पंछी’ (30/08/2016)  
  • मित्र के सालों पुराने नंबर पर कॉल करने...जो कुछ सालों तक बंद रहकर अब किसी ख़तरनाक लड़की :p का नंबर हो चुका हो। जहाँ सामने वाली आपको कोई और लड़की (रिमझिम) समझ रही है (जिससे उसका 36 का आँकड़ा है शायद) और आप उसे मित्र की वाइफ समझ कर बहुत सहजता से बात कर रहे हैं। तब इस ख़तरनाक ग़लतफ़हमी के बीच कुछ अज़ब वार्तालाप के साथ-साथ उसका कहना, 'देखो! तुम इतनी ज्यादा स्वीट मत बनो।'...मुझे रह-रहकर अभी तक हंसी आ रही है। :D अच्छी-खासी आवाज़ का इस तरह से कचरा भी हो सकता है। :'( मन कर रहा था उसे कह दूँ, मैं स्वीट बन नहीं रही...आलरेडी स्वीट हूँ। :p ;) ~ Monika Jain ‘पंछी’ (21/08/2016) 
  • हमारी शिक्षा प्रणाली इतनी बोरिंग है कि बच्चे यह तक कहते पाए जाते हैं कि काश! बाढ़ आ जाए तो स्कूल ही नहीं जाना पड़ेगा। :D ~ Monika Jain ‘पंछी’ (04/09/2016)  
  • बच्चों का स्वागत और बच्चों द्वारा स्वागत आज भी दरवाजे के पीछे छिपकर 'हो' से ही होता है। :p :) ~ Monika Jain ‘पंछी’ (18/08/2016)  
  • जिन्हें शब्दों से अति प्रेम हो या फिर जिनके लिए चर्चा सिर्फ हार या जीत का प्रश्न हो उनके साथ चर्चा में पड़ना मतलब ’आ बैल मुझे मार!’ :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ (01/12/2015)  
  • किचन एक्सपेरिमेंट के नाम पर किसी ने कहा, 'आप आलू-मुर्गा बना लो।' हमने कहा, 'आलू हम बना लेंगे, आप मुर्गा बन जाना।' :o :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ (07/12/2015)  
  • काहें का 'फ्रीडम 251'! सबको तो गुलाम बना छोड़ा है। इत्ते तो अभी शक्ल भी नहीं देखी ढंग से। अफवाहों का बाज़ार भी गर्म है। वैसे टेंशन न लो कोई। कुछ ठीक न रहा तब भी बच्चों के खेलने के काम तो आ ही जाएगा। :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ (19/02/2016) 
  • न सोयेंगे और न सोने देंगे वाले प्राणियों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है। :’( ~ Monika Jain ‘पंछी’ (07/11/2016)

Thursday, January 12, 2017

Small Story in Hindi with Moral

व्यक्तित्व पर कहानी, दान की महिमा कथा, मनुष्यता, मानवता, चरित्र. Small Story in Hindi with Moral for Kids. Donation, Personality, Character, Humanity Tales.
Small Story in Hindi with Moral
(1)

दान की महिमा

वैशाख महीने की भीषण गर्मी में एक बार महाकवि कालिदास किसी कार्यवश भयानक जंगल में पहुँचे। उन्होंने वहां एक रुग्ण व्यक्ति को देखा। वह फटेहाल था। वह चल रहा था किन्तु भूमि इतनी तपी हुई थी कि उससे चला नहीं जा रहा था। मुंह से आह निकल रही थी। इसे देखकर महाकवि पसीज गए। उसे उठाकर एक वृक्ष के नीचे रख दिया और अपने पदत्राण भी उसे दे दिए और वे औषधि लाने चल पड़े। वे कुछ चले ही थे कि एक महावत हाथी लेकर आ रहा था। महाकवि को देखकर उसने उन्हें हाथी पर बिठा लिया। राजा भोज ने कालिदास को हाथी पर आरूढ़ देखा तो पूछा- हाथी पर कैसे बैठे हो? कवि ने कहा - ‘जो व्यक्ति नहीं देते, उनकी संपत्ति नष्ट हो जाती है’।


Source : स्वाध्याय सन्देश

(2)

व्यक्तित्व

जब विवेकानंद जी विश्व शिकागो धर्म सम्मलेन में भाग लेने के लिए शिकागो (अमेरिका) गए तो उनके साफे और भगवा वेशभूषा को देखकर एक महिला ने खिल्ली उड़ाई और पूछा - यह क्या है? स्वामी जी हाजिर जवाब थे। उन्होंने तुरंत कहा, ‘मैडम! यह आपका देश है जहाँ दर्जी व्यक्तित्व का निर्माण करता है पर हमारे देश में चरित्र व्यक्तित्व का निर्माण करता है।’


Source : Unknown

(3)

मनुष्यता का रिश्ता

रूस में सड़क के किनारे एक मेजर खड़े-खड़े शराब पी रहा था। तभी वहां एक आदमी आया जो अपने कपड़ों से ग्रामीण लग रहा था। उसने मेजर से किसी स्थान का पता पूछा। मेजर के अहंकार को ठेस लगी। उसने सोचा, ‘एक साधारण से आदमी की हिम्मत कैसे हुई कि उससे बात करे।’

मेजर कुछ बोला नहीं, बस उंगली के इशारे से उस जगह का पता बता दिया। पर वह व्यक्ति वहीँ का वहीँ खड़ा रहा। इससे मेजर को गुस्सा आ गया। वह बोला, ‘अब जाते क्यों नहीं?’

व्यक्ति ने कहा, ‘जा रहा हूँ। बस ये जानना चाहता था कि आप किस पद पर कार्यरत हैं?’

मेजर अहंकार से हँसते हुए बोला, ‘तुम खुद ही अनुमान लगाओ।’

ग्रामीण व्यक्ति ने कहा, ‘आप जरुर केप्टन होंगे?’ मेजर ने ना में सिर हिलाया। ‘तो आप लेफ्टिनेंट होंगे?’ ग्रामीण ने कहा। मेजर ने फिर से इनकार में सिर हिलाया। ग्रामीण बोला, ‘तब तो आप मेजर होंगे?’ मेजर ने खुश होकर कहा, ‘हाँ, तुमने सही पहचाना।’

ग्रामीण व्यक्ति ने मेजर को सलाम किया तो मेजर को संतोष हुआ। ग्रामीण व्यक्ति बोला, ‘आप बता सकते हैं कि मैं कौन हूँ?’

मेजर ने उसे हिकारत भरी नजर से देखते हुए कहा, ‘तुम गाँव के चोकीदार वगैरह होंगे।’ ग्रामीण ने ना में सर हिलाया। मेजर ने पूछा ‘सिपाही?’ ग्रामीण ने कहा, ‘उससे ऊपर।’ मेजर ने आश्चर्य से पूछा ‘कैप्टन?’ ग्रामीण ने कहा, ‘उससे भी ऊपर।’ इस तरह बात जनरल तक पहुँच गयी। ग्रामीण ने कहा, ‘मैं जनरल से भी ऊपर यहाँ का राजा हूँ।’

मेजर का नशा टूटा। उसने राजा को सलाम किया।

राजा ने कहा, ‘मेजर बनकर तुम यह भूल गए कि सबसे पहले तुम एक मनुष्य हो। मैं भी एक मनुष्य हूँ। कोई चाहे किसी भी पद पर कार्यरत हो पर मनुष्यता का रिश्ता सबसे बड़ा है।’

मेजर को अपने व्यवहार पर पछतावा हुआ। उसने राजा से माफ़ी मांगी।


Source : Unknown

Feel free to add your views about these moral stories on donation, humanity, personality and character. 

Wednesday, January 11, 2017

Poem on Basant Ritu in Hindi for Kids

बसंत पंचमी पर कविता, ऋतुराज वसंत गीत, मधुमास शायरी. Poem on Basant Ritu in Hindi for Kids. Spring Season Rhymes Lines, Vasant Panchami Festival Slogans, Poetry.
 Poem on Basant Ritu in Hindi for Kids

ऋतुओं की रानी है आई

ऋतुओं की रानी है आई
धानी चुनर अपने संग लायी
जिसे ओढ़ धरती मुस्काई
कण-कण में उमंग है छायी।

डाल-डाल नव पल्लव आया
जैसे बचपन फिर खिल आया
रंग-बिरंगे फूलों पर
देखो! भँवरा फिर मंडराया।

तितली भी मुस्काती है
बहती हवा बासंती है
नील गगन में उड़ते पंछी
के मन को हर्षाती है।

रंग-बिरंगे फूल खिले हैं
पीले, लाल, गुलाबी, हरे हैं
कोयल की कूंकूं के संग
स्वर गीतों के भी बिखरे हैं
स्वर गीतों के भी बिखरे हैं।

By Monika Jain 'पंछी'

(19/03/2013)

Watch/Listen the video of this poem about Spring Season (Basant Ritu) in my voice :