Poem on Nature in Hindi


Short Poem on Beauty of Nature in Hindi Language, Inspiration from Nature Poetry, Shayari, Prakriti par Kavita, Prerna, Prernadayak, Prernadayi Kavita, प्रकृति पर हिंदी कविता, शायरी, प्रेरणा, प्रेरणादायक, प्रेरणादायी, प्रेरणात्मक कविता, सकारात्मक सोच, Positive Thinking, Sakaratmak Soch, Sms, Messages, Slogans

खयालों के समंदर में खोयी सोचती हूँ कभी-कभी 
क्यों रौशनी हर रात अंधेरे में समा जाती है ?
क्यों ओस की बूंदे भाप बनकर उड़ जाती है ?
जब लौटना ही है किनारों पे आकर
तो क्यों लहरे बार-बार थपेड़े खाती है?

सवालों के ज़वाब कुछ यूं भी मिलते हैं कभी-कभी

जो न होता अँधेरा तो रौशनी को कौन सराहता ?
जो न उड़ती ओस तो उसकी सुन्दरता कौन निहारता ?
जो न लौट कर आती लहरे किनारों पे फिर से
तो तूफानों में फँसा नाविक हौंसला कहाँ से पाता ?

Monika Jain 'पंछी'

9 टिप्‍पणियां:

  1. बदरा से बरसी बूंदे, धरती की प्यास बुझाये ,
    सूखे रह गए मेरे नैना , जाने किसकी आस लगाये.
    बहुत कोमल सा अहसास...यह प्यास ही एक दिन मंजिल तक ले जायेगी, मुबारक हो यह आस !

    उत्तर देंहटाएं
  2. नैन परिंदों को आपने एक सुंदर काव्यात्मक अभिव्यक्ति दी है। एकाध ज्स्गह को छोड़कर कविता में प्रवाह है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इन्द्रधनुष से रंग चुराकर ख़्वाब सजाये सपनीले,
    बदरा संग खेले आँख-मिचौनी ये दो नैन सजीले

    beautifully written nice poem

    उत्तर देंहटाएं
  4. i didnt gt my answer but still it was a nice poem awesome

    उत्तर देंहटाएं

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)