Poem on Rain in Hindi for Children


Poem on Rain in Hindi for Children, Rainy Season Poetry for Kids, Barish par Shayari, बारिश पर कविता, Barkha Rani Kavita, बरखा रानी, बरसात पर कविता, Barsaat Poems, Barsat Slogans

रिमझिम बारिश से भीगी मिट्टी
और मिट्टी की सौंधी ख़ुशबू से महकी यादें.
खेल-खेल में बनते बिगड़ते मिट्टी के घरोंदों की यादें. 
यादें पानी में बहती-डूबती काग़ज की नावों की 
और छप-छप करते नन्हें पैरों में बजते घूँघरू की यादें. 
चेहरे पे गिरती पानी की बूंदों से बंद आँखों में सिमटी यादें. 
बारिश में शोर मचाते, भागते- दौड़ते बचपन की यादें
यादें टर-टर शोर मचाते, उछलते- कूदते मेंढकों की 
और पंख फैलाकर छत पे नाचते मयूरों की यादें. 
बूंदों को छूते हाथों की बंद मुठ्ठी में कैद यादें. 
बारिश में गिरते ओलो से बचती-बचाती यादें. 
यादें इन्द्रधनुष के रंगों को पहचानती नन्हीं आँखों की 
और मस्ती में झूमते,गाते,थिरकते,बचपन की यादें. 
यादें बस यादें.... 

Monika Jain 'पंछी' 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)