Saturday, September 26, 2015

Motivational Poem in Hindi


Motivational Sailor Poem in Hindi for Students. Motivating Kavita, Success Shayari, Inspiring Motivation Quotes, Inspiration Poetry Sms, Motivated Rhymes, Inspirable Ghazal. प्रेरणादायक प्रेरक कविता.
 
तू ना कहीं रुक जाना

तूफ़ानों से घबराकर नाविक पथ से ना डिग जाना 
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.
 
चाहे हो आंधी की बयार, चाहे हो तूफ़ानी वार
चाहे हो अग्नि की मार, चाहे हो काँटों की धार
तू ना कभी घबराना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.
 
सच और साहस को अपना शस्त्र बनाकर
दियें आशाओं के नयनों में जलाकर
आत्मविश्वास को हृदय में बसाकर
हर विषमता में धैर्य को अपनाकर
तू ना कहीं रुक जाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.
 
आंधी जो आये तो तू , बन पर्वत टकरा जाना
सागर जो आये तो, बन कश्ती तू अड़ जाना
काँटों के पथ को राही, फूल समझ बढ़ते जाना
अंधियारी राहों में तू, बन दीपक जलते जाना
तू ना कहीं बुझ जाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.

पूर्वा भी आएगी, मस्ती भी छाएगी
तेरे ख्वाबों को पूरा करने, मंजिल तुझे बुलाएगी
तेरे साहस और हिम्मत से, सब सपने सच हो जायेंगें 
जमीं, आसमां और फिज़ा, तेरी जीत का जश्न मनायेंगें
तू बस जीत का गीत सुनाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.

By Monika Jain 'पंछी'

How is this motivational poem? 

10 comments:

  1. very nice line written by u ...........

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन... उत्साहवर्धक कविता।



    सादर

    ReplyDelete
  3. bahut hin khub...jeevan men utarne yogya...abhaar...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन कविता...

    ReplyDelete
  5. एक सुन्दर अभियान /प्रयाण गीत ..ओज उत्साह उमंग से ओतप्रोत ...और आपके आवाज ने इसमें जादुई रंग भरे हैं !

    ReplyDelete
  6. कल 20/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. तू बस जीत का गीत सुनाना,
    लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना.waah.....bahut badhiya....

    ReplyDelete
  8. लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
    कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

    नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
    चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
    मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
    चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
    आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
    कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

    डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
    जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
    मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
    बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
    मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
    कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

    असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
    क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
    जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
    संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
    कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
    कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

    --हरिवंशराय बच्चन

    ReplyDelete

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)