Thursday, May 16, 2013

Beti Bachao Abhiyan Kavita in Hindi


Beti Bachao Abhiyan Kavita in Hindi, Beti Bachao Desh Bachao, बेटी बचाओ कविता, बेटी बचाओ नारा, Save Daughters, Girl Child, Female, Poetry, Slogans, Andolan, Campaign, Poem, Nara, Shayari, Daughter, Sms, Messages

वंश-वंश करते मानव तुम
वंश बेल को काट रहे हो
एक फल की चाहत में तुम
पूरा बाग उजाड़ रहे हो

फूल रहे ना धरती पर तो
फल तुम कैसे पाओगे ?
कैसे वंश बढ़ाओगे ?

उम्र की ढ़लती शाम में जब
बेटा खड़ा ना होगा साथ
याद करोगे अंश को अपने
खुद मारा जिसको अपने हाथ

ना कुचलों नन्ही कलियों को
उनको भी जग में आने दो
बनकर फूल खिलेंगी एक दिन

Monika Jain 'पंछी'