My English Blog : Poems Poetry Rhymes. Send your unpublished creations to p4panchi@gmail.com to get published here.

Poem on Parents in Hindi


Poem on Parents Anniversary in Hindi Language, Mata Pita par Kavita, My Family Poetry, माता पिता पर कविता, माँ पापा, Mother Father, Mera Parivar, Mom Dad, Maa Papa Shayari 

घर मेरा एक बरगद है
मेरे पापा जिसकी जड़ है
घनी छाँव है मेरी माँ
यहीं है मेरा आसमाँ.
पापा का है प्यार अनोखा
जैसे शीतल हवा का झोंका
माँ की ममता सबसे प्यारी
सबसे सुन्दर, सबसे न्यारी.
हाथ पकड़ चलना सिखलाते
पापा हमको खूब घुमाते
माँ मलहम बनकर लग जाती
जब भी हमको चोट सताती. 
माँ पापा बिन दुनिया सूनी
जैसे तपती आग की धूनी
माँ ममता की धारा है
पिता जीने का सहारा है.

Monika Jain 'पंछी' 

2 comments:

  1. Jaha prem hota h, vahi par 'Ishwar' hota h,
    Jaha Ishwar hota h, vahi par swarg hota h,
    Jaha swarg hota h, vahi par hamari 'Maa' hoti h.

    ReplyDelete
  2. mom dad you rock

    ReplyDelete

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)