Tuesday, July 19, 2016

Story of Two Sisters in Hindi

दो बहनों की कहानी, ईर्ष्या बाल कथा, बहन. Story of Two Twins Sisters in Hindi for Kids. Jealous Sister Moral Tale, Jealousy, Envy, Do Behno ki Kahani, Behan.
 
Story of Two Sisters in Hindi
 
रीना और टीना 
(बालहंस में प्रकाशित)

रीना और टीना दोनों जुड़वा बहनें थी पर स्वभाव से बिल्कुल अलग. रीना जहाँ शांत, मृदु और कोमल स्वभाव की थी वहीं टीना बहुत शैतान थी. दोनों आठवी क्लास में पढ़ती थी. रीना पढ़ाई में बहुत होशियार थी और हमेशा क्लास में अव्वल आती थी. जबकि टीना पढ़ाई की चोर थी. वह सजने-सँवरने, खेलने-कूदने और शैतानी में ही सारा समय निकाल देती थी. उसकी शैतानियों की वजह से उसके मम्मी पापा, टीचर और पड़ौसी सभी परेशान थे. हर रोज कोई न कोई उसकी शिकायत लेकर आ जाता था. मम्मी पापा कभी उसे प्यार से समझाते और कभी डांटते पर उस पर कोई असर न होता. जबकि रीना हमेशा अपने मम्मी पापा का कहना मानती और मन लगाकर पढ़ाई करती. इसलिए घर, स्कूल, पड़ौस हर जगह रीना की ही तारीफ होती.

टीना को बहुत बुरा लगता जब हर कोई रीना की ही तारीफ करता. वह सोचती सभी रीना से ही प्यार करते हैं मुझे कोई नहीं चाहता. वह मन ही मन रीना से कुढ़ने लगी थी. उसका रीना से व्यवहार अच्छा नहीं था और हमेशा वह रीना को नीचा दिखाने की कोशिश में रहती.

परीक्षा के दिन आने वाले थे. रीना हमेशा की तरह बहुत मेहनत कर रही थी. वह एक कॉपी में सभी विषयों के संक्षिप्त नोट्स बनाती जा रही थी ताकि परीक्षा के समय वह इन नोट्स को पढ़ सके जिससे उसके समय की भी बचत हो और वह ज्यादा भी पढ़ पाए.

टीना जब रीना को पढ़ते हुए देखती तो मन ही मन जल जाती. वह सोचती इस बार भी अगर ये अव्वल आएगी तो सभी इसकी तारीफों के पुल बांधते न थकेंगे. परीक्षा शुरू होने के एक दिन पहले टीना ने रीना की वह कॉपी छिपा दी जिसमे उसने सभी विषयों के नोट्स बनाये थे.

रीना ने कॉपी बहुत ढूंढी पर उसे कहीं भी न मिली. वह बहुत परेशान हो गयी क्योंकि उसकी सारी मेहनत बेकार चली गयी थी.

मम्मी ने टीना से पूछा, ‘बेटा तुमने रीना की कॉपी कहीं देखी है?’

टीना झल्ला उठी और बोली, ‘मां, मुझे इसकी कॉपी से क्या मतलब है? मैंने कहीं नहीं देखी.’

रीना को जब कॉपी नहीं मिली तो वह किताब लेकर ही पढ़ने बैठ गयी और रात भर जागकर उसने पढ़ाई की. उसके पेपर अच्छे जा रहे थे.

आज गणित का पेपर था. मम्मी ने दोनों का ज्यामेट्री बॉक्स तैयार करके दोनों को दे दिया. रीना तैयार होकर हॉल में बैठी टीना का इंतजार कर रही थी. टीना ने तैयार होने में देर लगा दी तो मम्मी ने उसे आवाज़ दी और कहा, ‘टीना जल्दी नीचे आओ वरना पेपर के लिए लेट हो जाओगी.’

टीना ने अपना बैग उठाया और नीचे आ गयी और दोनों बहने स्कूल के लिए निकल गयी.

स्कूल पहुँचते ही परीक्षा कक्ष में पहुँचने की घंटी बज गयी. टीना ने ज्यामेट्री बॉक्स निकालने के लिए बैग खोला पर बॉक्स वहां नहीं था. तभी उसे याद आया की वह तो अपना बॉक्स बेड पर ही भूल गयी है. टीना बहुत डर गयी. सभी बच्चे परीक्षा कक्ष में जा चुके थे. जब रीना को पता चला तो उसने तुरंत अपना बॉक्स टीना को दिया और कहा, ‘तुम क्लास में जाओ मैं अभी बॉक्स लेकर आती हूँ.’

‘पर घंटी तो बज चुकी है’, टीना ने कहा.

‘कोई बात नहीं मैं जल्दी ही आ जाउंगी’, यह कहकर रीना घर के लिए निकल गयी.

टीना क्लास में पहुँचकर अपना पेपर करने लगी.

रीना को वापस आने में २० मिनट लग गए. जब वह परीक्षा कक्ष में पहुंची तो टीचर ने उसे लेट आने के लिए बहुत डांटा. पर वह चुपचाप अपनी सीट पर आकर पेपर करने लगी.

टीना ने जब ये सब देखा तो उसे बहुत शर्मिंदगी महसूस हुई. उसने सोचा, ‘जो बहन उससे इतना प्यार करती है उसने उसी के मेहनत से बनाये नोट्स छिपा दिए थे.’ उसे अपनी गलती और व्यवहार पर बहुत पछतावा हुआ.

पेपर ख़त्म होने के बाद जब दोनों बाहर मिले तो टीना रीना के गले लिपट गयी और रोते रोते बोली, ‘तुम कितनी अच्छी हो रीना! मेरे लिए तुमने अपनी परीक्षा की भी परवाह नहीं की और मैं इतनी बुरी हूँ कि मैंने तुम्हारे इतनी मेहनत से बनाये नोट्स छिपा दिए. प्लीज मुझे माफ़ कर दो.’ टीना के मन की सारी नफरत उसके आंसुओ के साथ बह गयी.

आज पहली बार टीना ने अपनी बहन रीना को गले लगाया था. रीना की आँखों में ख़ुशी के आंसू आ गए. उसने टीना का किया सब कुछ भुला दिया क्योंकि इतने दिनों बाद उसे अपनी बहन जो मिल गयी थी. दोनों ख़ुशी ख़ुशी घर चले आये.
 
By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views about this hindi story of two sisters.