Monday, December 24, 2012

Story of Ashoka in Hindi


History of Great King Ashoka in Hindi, Story of Non Violence, Asoka Conversion to Buddhism Tale, Ashoka Indian Emperor, Kalinga War Tales, मौर्य सम्राट अशोक, अहिंसा, कलिंग युद्ध, Ahinsa, Ahimsa

सम्राट अशोक कलिंग विजय करके लम्बी अवधि के बाद घर लौटे. इस बार राज्यारोहण का उत्सव बड़े शानदार ढंग से मनाया जा रहा था. अशोक अपनी माता का बहुत सम्मान करते थे. इस अवसर पर उनका विशेष आशीर्वाद पाने के लिए वे उनके कक्ष में गए और संक्षेप में अपनी विजय एवं कलिंग के ढाई लाख लोगों के संहार का किस्सा कह सुनाया. यह सुनकर राजमाता फफक फफक कर रोने लगी. बोली- मारे गए ढाई लाख लोगों में से एक तू भी रहा होता तो मेरे ऊपर क्या बीतती? माता के रुदन से अशोक का दृष्टिकोण उलट गया. उन्होंने उत्सव के आयोजन को रद्द कर दिया. अहिंसा के मार्ग पर चलने के लिए वह भगवान् बुद्ध का उपदेश लेने पहुंचा और जो कमाया तथागत को सौंप दिया. माता की करुणा का था यह चमत्कार. 

Courtesy : स्वाध्याय सन्देश