Tuesday, January 22, 2013

Poem on Bhartiya Nari in Hindi


Keywords : Poem on Bhartiya Nari in Hindi, Indian Women Independence, Freedom, Woman  Safety, Nari Shakti par Kavita, Shayari, Sms, Messages, Slogans, Mahila Suraksha, हिंदी कविता, नारी शक्ति , महिला सुरक्षा, आज़ादी, स्वतंत्रता, शायरी, Poems

जिस देश में अजन्मी बिटिया को 
कोख में मारा जाता हो 
जिस देश में दहेज़ का दानव 
बहु को लील जाता हो 
उस देश में दुर्गा पूजा की 
बातें बेमानी लगती है 
नारी की आज़ादी बस इक 
झूठी कहानी लगती है।
जिस देश में लड़की का सड़कों पर 
चलना भी दुश्वार हुआ 
गिद्ध लगाये बैठे दृष्टि 
बार - बार बलात्कार हुआ 
उस देश में दुर्गा पूजा की 
बातें बेमानी लगती है 
नारी की आज़ादी बस इक 
झूठी कहानी लगती है।
खुद भारत माँ के भक्षक हो 
पुलिस के पहरेदार जहाँ 
खुद चोरों के ही रक्षक हो 
उस देश में दुर्गा पूजा की 
बातें बेमानी लगती है 
झूठी कहानी लगती है।

Monika Jain 'पंछी'