Monday, February 24, 2014

Painful Poem in Hindi


Painful Poem in Hindi Language, Broken Trust, Pain, Dard Bhari Kavita, Vishwas, Hurt, Suffering, Sorrow, Sad, Heart, Sadness, Love, Grief, Poetry, Shayari, Lines, Rhymes, Slogans, Sms, Message, Words, Thoughts, हिंदी कविता, दर्द, विश्वासघात, शायरी, विश्वास 

तुम कहते हो 

तुम कहते हो इंतजार करोगे मेरा सारा जीवन 
पर ये तो मुझसे पहले भी किसी ने कहा था.

तुम कहते हो जी नहीं सकते मेरे बिना 
पर ये भी तो मैंने कई बार सुना था. 

मेरा अहसास ही तुम्हारी धड़कने बढ़ा देता है 
पर ये तो सिर्फ अहसास है जो वक्त कभी भी मिटा देता है.

मुझसे अच्छा तुम्हें कोई मिल नहीं सकता 
कैसे मैं मान लूँ कि तुम्हारा दिल फिसल नहीं सकता. 

तुम्हारी जान ले लेती है मेरी नाराजगी 
पर हो सकता है ये हो बस पल दो पल की दिल्लगी.

मेरी उदासी कर देती है तुम्हें भी उदास 
पर मैं नहीं चाहती फिर से टूट जाये मेरी आस.

तुम कहते हो जिन्दगी है तुम्हारी मेरी मुस्कुराहटे
पर दे जाओगे कभी बस आंसू ही आंसू हो रही मुझे आहटे.

मेरी अच्छाई ने छू लिया है दिल तुम्हारा 
पर अच्छाई को कब मिला है किसी का सहारा.

तुम कहते हो कर दोगे मुझे बुरी यादों से दूर 
पर क्या पता तुम भी उन्हीं का हिस्सा बन चल दोगे कहीं ओर.

तुम कहते हो तुम नहीं हो औरो जैसे 
पर ये मानने की हिम्मत अब लाऊं मैं कैसे ? 

तुम कहते हो सच्चा है तुम्हारा प्यार 
पर मैंने तो इस दुनिया मैं देखा है बस व्यापार. 

हाँ नहीं है मुझे तुम पर भरोसा, किसी पर नहीं मुझे विश्वास 
दिल तोड़ने के लिए ही बस लोग आना चाहते हैं मेरे पास.

प्यार, वफ़ा ये सब गुजरे ज़माने के किस्से हैं 
सिर्फ आंसू और दर्द ही बस आता मेरे हिस्से है. 

इससे कई बेहतर है मैं प्यार करूँ उन सबको 
जिनसे कुछ भी पाने की उम्मीद नहीं है मुझको. 

क्योंकि किसी एक से किया प्यार जिन्दगी भर रुलाता है 
हँसते, गाते इंसान को जिन्दा लाश बना जाता है. 

Monika jain ‘पंछी’


How is this hindi painful poem ?