Tuesday, January 29, 2013

Poem on Courage in Hindi



Keywords : Poem on Courage in Hindi, Sahas par Kavita, Determination Poetry, Difficulties in Life, Problems, Shayari, Sms, Messages, हिंदी कविता, साहस, दृढ़ संकल्प, निश्चय, शायरी, Never Give Up Slogans

चल रही है ये धरा 
चल रहा है ये गगन 
एक क्षण भी ना रुके जो 
चल रही है वो पवन 
ऐ मुसाफिर! हार कर 
सांस जब तक चल रही है 
दर्द के बादल हैं छाये 
गम के ये साये रुलाये 
पर इन्हें तू ना बनाना 
बैठ जाने का बहाना 
गम के इन सायों में डूबा 
तू समय बेकार ना कर 
साँस जब तक चल रही है 
मुश्किलों को पार कर।

Monika Jain 'पंछी'