Sunday, January 6, 2013

Zindgi Shayari in Hindi


Zindgi Shayari in Hindi, जीवन पर कविता, जिंदगी शायरी, Jeevan Poem, Jindgi Poetry, Kavita, Sms, Message, Slogans, Poems

कभी-कभी होता है ऐसा भी….. 
तूफान उठे रहते हैं मन में 
पर दिल हमारा महसूसता,कुछ नहीं
किरचियों में फंसी पड़ी है जिंदगी 
और निकलने का रास्ता कोई नहीं 
टूटे काँच पर सेकड़ों अक्स आते हैं नज़र 
मैं खुद देखता हूँ, पहचानता किसी कों नहीं 
तुझे महताब, खुद को आफताब कहते रहे 
बदरी ऐसी छाई की चमक सका कोई नहीं 
चार दिन की ज़िंदगानी, जी लो जी भर के 
हमेशा के लिए, जमीन पर रहता, कोई नहीं

By Randhir 'Bharat' Chaudhary