Tuesday, February 5, 2013

Poem on Aakash in Hindi


 Keywords : Poem on Aakash in Hindi for Kids , Akash par Kavita, Sky Poetry for Children , Aasman Shayari, Aasmaan Sms, Messages, हिंदी बाल कविता, आकाश, आसमान, शायरी, Big Heart, Slogans, Bal Kavita

कहो कहाँ दुनिया में होगा 
इतना ह्रदय विशाल 
आकाश सरीखा कोई नहीं 
ना धरती ना पाताल 
सूरज की तपन को सहकर जो 
देता हमें उजास 
बादल की धुंध में खोकर जो 
हरता हमारी प्यास 
चंदा को चमकने का हक़ देता 
तारों को झिलमिलाने का 
पंछी को अवसर देता ये 
पंख अपने फड़फड़ाने  का 
कितना कुछ समेटे हैं खुद में 
ना करता कभी शिकायत 
सबके सपने पूरे करता 
ना खुद की कोई जरुरत 

Monika Jain 'पंछी'