Poem on Fire in Hindi


Keywords : Poem on Fire in Hindi, Aag par Kavita, Agni Shayari, Flame Poetry, Light, Sms, Messages, आग पर हिंदी कविता, अग्नि, ज्वाला, शायरी, Slogans

कलम से अपनी मैं कागज पर 
आग लिखना चाहती हूँ 
कितनी ताकत है शब्दों में 
आजमाना चाहती हूँ.
चाहती हूँ जल जाये इसमें 
नफ़रत के सारे सौदागर 
चाहती हूँ बन सोना निखरे 
प्यार के है जो ढाई आखर .
चाहती हूँ मैं चिता जलाना 
अन्याय और अनीति की 
चाहती हूँ मैं ज्योत जलाना 
प्यार और प्रीति की.
बरस पड़े अंगारे बनकर 
शब्द मनुजता के दुश्मन पर 
टिम टिम करते तारे बनकर 
भारी पड़े अंधेरों पर.
रोशन कर दे जहाँ जो सारा 
वो दीपक बनना चाहती हूँ 
कलम से अपनी मैं कागज पर 
आग लिखना चाहती हूँ.

Monika Jain 'पंछी'


1 comment:

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)