Friday, February 22, 2013

Poem on Success in Hindi


Keywords : Poem on Success in Hindi, Safalta, Badlav, Parivartan par Kavita, Darkness, Dark,Victory, हिंदी कविता, सफलता, विजय, परिवर्तन, बदलाव, शायरी, प्रकाश, Light, Change Yourself Poetry, Shayari, Sms, Messges, Transformation, Slogans 

परिवर्तन के अपरिवर्तनीय सिद्धांत को 
यदि एक प्रक्रिया से घटना बनाना है
तो परिवर्तन का यह पाठ
पहले स्वयं को पढ़ाना है.
बुझे दीयों से कहाँ जग में
 उजाला होता है
काला जिसपे चढ़ा हो रंग 
काला होता है.
विजय करना हो तम तो 
सूरज बनना होगा
कुछ बदलना है तो पहले 
खुद को बदलना होगा.
हम दीप बन जलें तो 
जोत से जोत जल जाएगी
हम एक-एक कर बदलें तो 
दुनिया बदल जाएगी
आशा की एक किरण बनें 
घनघोर भले अँधियारा हो
हम जो अपना दीप बनें तो 
हर तरफ उजियारा हो.

By Suchhit Kapoor 'सुचित'