Poem on Terrorism in Hindi


Keywords : Poem on Terrorism in Hindi, Terrorist Poetry, Aatankwad par Kavita, Terror Attack, Shayari, Sms, Messages, Slogans, आतंकवाद पर हिंदी कविता, शायरी, आतंकवादी, आतंक, Dohe, Poems 

हाँ मैं मिलना चाहती हूँ एक आतंकवादी से 
और पूछना चाहती हूँ कुछ सवाल 
क्यों हैं तुम्हे खून से इतना प्यार 
क्यों करते हो तुम लाशों का व्यापार 
क्या चीखो से भरे शहर 
नहीं करते तुम पर कोई असर 
क्या खून से लथपथ लाशे 
तुम्हारे लिए है बस खेल तमाशे 
बूढ़े बाप से उसका जवान बेटा छीन 
कैसे आती है तुम्हे चैन की नींद 
क्या माँ का सूना आँचल 
नहीं करता तुम्हे घायल 
लोगों को जिंदा जला कर 
बुझा देते हो उनके सपने 
मौत बांटते हो जब तुम 
क्या याद नहीं आते तुम्हें अपने 
खत्म नहीं हुए हैं मेरे सवाल 
पूछूंगी तुमसे मिलकर 
खौफ नहीं है मुझे तुझसे 
बल्कि तरस आता है तुझ पर


Monika Jain 'पंछी'


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)