Essay on Charity Begins at Home in Hindi



Keywords : Essay on Charity Begins at Home in Hindi, Social Work, Family, Help, Society, Nation, Social Issues, Donation, Article, Speech, Write Up, Paragraph, Anuched, Nibandh, Samajik Karya, हिंदी निबन्ध, लेख, परोपकार, दान, Lekh 

एक परिवार है जिसमें 4-5 भाई बहन है। सबकी शादी हो चुकी है। well settled हैं पर एक बहन है जो विधवा है और एक बच्चे की माँ है। वह आर्थिक तंगी से गुजर रही है। खुद का घर नहीं है। बड़ा भाई करोड़पति है। सामाजिक कार्यों में लाखों का दान करता है। बहन की बस इतनी सी इच्छा है कि भाई उनके खुद के नाम से ही एक छोटा सा घर खरीद ले और उसे बस वहां रहने की जगह मिल जाए ताकि किराये के घरों की परेशानियों से निजात मिल सके. लेकिन सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़ के दान करने वाले उस भाई के लिए अपनी सगी बहन की मदद के लिए ना पैसा है ना समय। 

एक दूसरा परिवार है जिसमें एक बेटे ने शादी के बाद प्रॉपर्टी के बंटवारे से जुड़े किसी विवाद को लेकर माता पिता से आजीवन के लिए सम्बन्ध विच्छेद कर लिया। वह खुद एक बहुत बड़ा businessman है। सामाजिक कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेता है। अनाथालय, वृद्धाश्रम के लिए खुले दिल से दान करता है। कई स्कूल, कॉलेज के कार्यक्रमों में अथीति बनकर शिरकत करता है पर उसकी माँ जो कई सालों से आर्थिक तंगी और भयंकर बिमारियों से संघर्ष करती रहीं उसे देखने के लिए, उसका ईलाज करवाने के लिए, उसके पास आकर 5 मिनट बैठने के लिए उसे कभी समय नहीं मिला। 

ऐसे कई उदाहरणों से हमारा समाज भरा पड़ा है। जहाँ लोग  दिखावे और प्रसिद्धि के लिए सामाजिक कल्याण में अपना भरपूर योगदान देते हैं पर अपने परिवार के जरुरतमंदों के लिए ना उनके पास समय होता है ना ही बड़ा दिल जो वो पूरी दुनिया में दिखाते फिरते हैं। 

कहते हैं " Charity Begins at Home ". हमारा सबसे पहला कर्त्तव्य होता है हमारे परिवार के प्रति। एक समृद्ध, खुशहाल और सुखी परिवार ही एक सशक्त समाज का निर्माण करता है और एक सशक्त समाज  ही एक सशक्त  राष्ट्र का। इसलिए बहुत जरुरी है कि हम अपने ही परिवार और अपने आसपास के लोगों से शुरुआत करें। अपनी surroundings को छोड़कर हमारा वहां रुख करना जहाँ मीडिया है, कैमरा है हमारे दौहरे चरित्र को उजागर करता है। जिसे आप सामाजिक कल्याण की आड़ में बिल्कुल नहीं छिपा सकते। 

Monika Jain 'पंछी'

No comments:

Post a Comment

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)