Monday, May 19, 2014

Poem on Time in Hindi


Poem on Time in Hindi Language for Kids, Children, Samay Prabandhan par Kavita, Vakt, Importance of Time Management, Save Moment, Time is Precious, Clock, Slogans, Lines, Short Poetry, Rhyming Rhymes, Dohe, Kundli, Sms, Messages, Words, Proverbs, Quotes, Thoughts, Sayings, समय प्रबंधन पर कविता, हिंदी शायरी, वक्त की कीमत, कुंडलियाँ 

(1)

वक्त का धोखा 

सालों पहले 
अपने-अपने सपनों के साथ 
हमने कदम बढ़ाये थे
मिलते रहेंगे यूँ ही हमेशा 
ख़्वाब कुछ आँखों में बसाये थे.

तुम चले गए और 
वक्त मेरे पैरों में जंजीरे बांध 
बहुत आगे बढ़ गया.

मैं आज भी वहीँ खड़ी हूँ 
तुम्हारे इंतजार में 
कि शायद तुम एक दिन आओगे 
और मुझे वक्त की उन बेड़ियों से 
आज़ाद कराओगे.

पर मैं भूल गयी थी 
जो बढ़ गया है आगे 
वो कब लौट कर आया है 
जिसे वक्त ने ही बुरी तरह छला हो 
भला उसका साथ किसने निभाया है.

By Monika Jain ‘पंछी’ 

(2)

समय प्रबंधन 

समय की बर्बादी है जीवन का अपमान 
करेगा समय प्रबंधन तो रोशन होगा नाम 
रोशन होगा नाम समय ना कर तू जाया 
रोज सवेरे उठकर मैंने था समझाया 
कहती पंछी अब पछताने से क्या पायेगा 
निकल गया जो वक्त हाथ से अब ना आएगा. 

By Monika Jain ‘पंछी’ 

(3)

वक्त के साथ 

वक्त का पता नहीं चलता 
अपनों के साथ 
पर अपनों का पता चल जाता है 
वक्त के साथ.

पहले सिर्फ सुना था
अब महसूस भी किया है 
इस रंग बदलती दुनिया में
ना कोई अपना ना पराया है.

बदलते वक्त के साथ
कितना कुछ बदलता है 
कभी था जो अपना
देखो आज जहर उगलता है.

खुली रह जाती हैं आँखें
सिल जाते हैं होंठ 
जब दिल पर करता है
कोई अपना गहरी चोट.

ना पालो किसी से आशा
ना रखो कोई उम्मीद 
वरना ख़्वाब टूटेगा एक दिन 
और उड़ जायेगी नींद.

By Monika Jain ‘पंछी’ 

How are these hindi poems on time ? Feel free to tell via comments.