Thursday, August 25, 2016

Poem on Krishna in Hindi

कृष्ण पर कविता, कृष्णा शायरी. Poem on Shri Krishna in Hindi for Kids. Lord Kanhaiya Shayari, Kanha Bhakti Kavita, Lines, Poetry, Rhymes, Slogans, Status.
 
Poem on Krishna in Hindi

हे कृष्णा!

हे कृष्णा!
तुमने कहा था न
जब-जब भी बढ़ेगा अन्याय और अधर्म
तब-तब लोगे तुम इस धरा पर जन्म!

आज अधर्म ने अपना जाल बिछा दिया है
और धर्म का नामो निशां मिटा दिया है
अन्याय सर चढ़ कर बोल रहा है
न्याय तो बस सूली पर डोल रहा है।

हे कृष्णा!
क्या तुम्हें नहीं सुनाई दे रही
दीन दुखियों की दर्द से भरी चीत्कारें
क्या तुम्हें नहीं दिखाई दे रही
हर तरफ खड़ी नफरत की दीवारें

अपने उस वादें को पूरा करने
एक बार आओ तो सही
निराश हृदयों में आशा की ज्योत
जलाओं तो सही।
भगवान मानकर पूजते हैं लोग तुम्हें
उनकी श्रद्धा को यूँ
झुठलाओं तो नहीं।

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views via comments about this poem on Krishna.