Surdas Biography in Hindi



Biography of Sant Surdas in Hindi, Information About Surdas, Kavi Jeevan Parichay, Poet, Introduction, Life History, Story, Autobiography, Writer, Author Profile, संत कवि सूरदास जी का जीवन परिचय 

कृष्ण भक्त कवियों में सूरदास जी का महत्वपूर्ण स्थान है। उनका जन्म 1478 ई० में आगरा-मथुरा के बीच रुनकता में हुआ था। वे गऊ घाट पर रहते थे। वहीँ उनकी भेंट महाप्रभु वल्लभाचार्य से हुई। सूर का गायन सुनकर महाप्रभु वल्लभाचार्य ने उन्हें अपना शिष्य बना लिया। उन्हीं के कहने पर सूरदास ने कृष्णलीला के पदों की रचना की। 

कहा जाता है कि सूरदास जन्मांध थे, पर उनका प्रकृति चित्रण एवं कृष्ण लीलाओं का वर्णन अदभुत है। सूरदास वात्सल्य, प्रेम और सौन्दर्य के अमर कवि हैं। उन्होंने 'सूरसागर' नामक काव्य की रचना की। कहा जाता है कि इसमें सवा लाख पद थे, पर अब पांच हजार पद ही प्राप्त हैं। सूर के पदों में बृजभाषा का निखरा रूप देखने को मिलता है। 

No comments:

Post a Comment

Due to comment moderation It will take time to publish your comments.Your reactions are my inspiration :)