Friday, June 14, 2013

Way of Talking Story in Hindi


Way of Talking Inspirational Story in Hindi, Ways of Speaking, Language, Bhasha ka Antar, Manners, Kahani, Katha, Tales, हिंदी कहानी, भाषा का अंतर, बात करने का तरीका, कथा 

एक राजा था। उसने स्वप्न में देखा कि उसके सारे दांत गिर गए हैं। इससे वह चिंतित हुआ प्रातः होते ही उसने ज्योतिषियों को बुलाया और उसका फल पूछा। एक ज्योतिषी ने कहा - महाराज! स्वप्न बड़ा अशुभ है, इसका बुरा फल होने वाला है। क्या फल होगा ? पूछने पर उसने बताया महाराज! इसका फल यही है कि आपके देखते देखते आपकी सारी संतान मर जायेगी। यह सुनकर राजा चिंतित हुआ और अशुभ बात कहने वाले को जेल में डाल दिया। दूसरे ज्योतिषी को बुलाया तो उसने कहा - महाराज! बहुत अच्छा स्वप्न है। राजा आश्चर्य चकित हुआ, पूछा - यह कैसे ? तो उसने उत्तर दिया - आप इतनी दीर्घायु प्राप्त करेंगे कि आपकी मृत्यु कोई नहीं देख सकेगा। राजा उससे प्रसन्न हुआ और उसे पुरस्कार दिया। 
बात एक ही है, सिर्फ कहने में अंतर है। फलितार्थ एक ही है। 

Courtesy : Swadhyay Sandesh