Wednesday, November 5, 2014

Exam Preparation Tips in Hindi


Exam Preparation Tips in Hindi Language for Students, Study Time Strategies, How to Prepare for Exams, Pariksha ki Taiyari, Last Minute Examination Techniques, Pareeksha, Revision Ideas, Food, Diet, Stress, Writing Tricks, Success, Pass, एग्जाम टिप्स, परीक्षा की तैयारी कैसे करें ?

Exam Preparation Tips 
  • पढ़ाई शुरू करने से पहले टाइम टेबल बनाना और उसे फॉलो करना अच्छा रहता है. किसी दिन फॉलो ना भी हो पाए तो आगे का रूटीन नहीं बिगड़ने दें. 
  • परीक्षा प्रारंभ होने के कुछ महीने पहले से ही पढ़ना शुरू कर देना चाहिए. पहली बार पढ़ने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है दोहरान करना इसलिए रिवीजन के लिए पर्याप्त समय दें. 
  • डर को अपने दिल और दिमाग से पूरी तरह निकाल दें. बस मेहनत करते रहें. याद रखें डर हमेशा आपकी ऊर्जा को कम करता है और जितना आप डरते हैं, चिंता करते हैं, नकारात्मक तनाव रखते हैं उतना ही असफलता के नजदीक जाते हैं. परीक्षा के लिए तनाव सिर्फ सकारात्मक रूप से होना चाहिए, जो पढ़ने को प्रेरित करता रहे. 
  • हर 45 मिनट से 1 घंटे के समय बाद खुद को थोड़ा सा ब्रेक देना चाहिए. इस ब्रेक में आप खुली जगह थोड़ा सा टहल सकते हैं. मनपसंद म्यूजिक सुन सकते हैं. ऊर्जा की कमी को पूरा करने के लिए कुछ हैल्दी स्नैक्स ले सकते हैं. बस ब्रेक के समय को निश्चित करें और तरोताजा होकर फिर से पढ़ने बैठ जाएँ. 
  • जिन विषयों की परीक्षा बाद में है उन्हें पहले पढ़ना चाहिए ताकि आखिरी दिनों में वह विषय पढ़े जा सके जिनका एग्जाम सबसे पहले है. इसके लिए टाइम टेबल बना लें. 
  • पूर्व वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए. इससे परीक्षा का पैटर्न समझने में मदद मिलती है. 
  • स्टडी रूम व्यवस्थित होना चाहिए. कुर्सी आरामदायक होनी चाहिए. स्टडी टेबल पर अलार्म घड़ी रखी होनी चाहिए. स्टडी रूम में मोटिवेशनल चार्ट लगे होने चाहिए. रोशनी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए. 
  • जिस भी विषय की तैयारी कर रहे हैं, उससे सम्बंधित सारा स्टडी मटेरियल, पेन, पेंसिल, रबर, रफ़ नोटबुक, और भी जो कुछ जरुरी हो सब पास लेकर बैठना चाहिए ताकि पढ़ाई के बीच-बीच में बार-बार उठना ना पड़े और आप मन लगाकर गंभीरता से पढ़ सकें. 
  • अपने पास पानी की एक बोतल और गिलास लेकर बैठे और बीच-बीच में पानी पीते रहें. 
  • परीक्षा के दिनों में तनाव का माहौल रहता है. तनाव को दूर करने और एकाग्रता बढ़ाने के लिए योग, व्यायाम आदि का सहारा लें और पर्याप्त मात्रा में नींद लें. माता-पिता और परिवार के भावनात्मक संबल और प्यार की इस समय बच्चे को सबसे ज्यादा जरूरत होती है. अत: इन दिनों माता-पिता जितना संभव हो घर में रहें और बच्चे को बात-बात के लिए टोकने की बजाय ऐसा माहौल बनाये कि बच्चा निर्भय और तनाव रहित होकर अपने एग्जाम की तैयारी कर सकें. 
  • हर बच्चे की अलग-अलग क्षमता होती है और पढ़ने के अलग-अलग तरीके. बच्चों को बस इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि कोर्स समय पर खत्म हो जाए और रिवीजन के लिए पर्याप्त समय रहे. 
  • परीक्षा के दिनों में ऐसा भोजन लिया जाना चाहिए जो सात्विक हो और पोषण से भरपूर हो. रात का खाना जल्दी खा लेना चाहिए. थोड़े-थोड़े अंतराल में पानी पीते रहना चाहिए. माँ को बच्चे के खाने-पीने का विशेष ध्यान इन दिनों रखना चाहिए. 
  • हाथ-पैर और मुंह धोकर पढ़ने बैठना चाहिए. 
  • खुश और तनावमुक्त रहें. सकारात्मक सोच रखें. परीक्षा को हौवा ना बनाये और आत्मविश्वास बनाये रखें. 
  • प्रतिदिन 7-8 घंटे की नींद जरुर लें. ताकि दिमाग तरोताजा रहे. 
  • परीक्षा के दिनों में मोबाइल, कंप्यूटर, वीडियो गेम्स जैसे सभी गैजेट्स को खुद से दूर रखें. जितना संभव हो इनका कम से कम उपयोग करें. मेसेज, चैटिंग इन सब चीजों को कुछ दिनों के लिए भूल जाएँ. 
  • एग्जाम किट में पेंसिल और पेन के साथ रंगबिरंगे जेल पेन भी रखें. ये आपको जवाब को हाईलाइट करने और चित्र बनाने में मदद करेंगे. 
  • एग्जाम हॉल में परीक्षा शुरू होने से 15 मिनट पहले पहुँचे. 
  • एग्जाम हॉल में बिना किसी डर के पूरी ऊर्जा और पॉजिटिव सोच के साथ प्रवेश करें. 
  • प्रश्न पत्र पढ़ने में जल्दबाजी ना करें. धैर्य से काम लें. पेपर और कॉपी पर लिखे गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें. अगर कोई संदेह है तो टीचर से पूछ लें. 
  • साफ़-सुथरी राइटिंग में लिखने का प्रयास करें. ताकि परीक्षक को कॉपी पढ़ने में दिक्कत ना आये. कई बार गन्दी राइटिंग की वज़ह से भी नंबर कम आते हैं. 
  • प्रश्नों के उत्तर में चित्रों, आंकड़ों और रेखांकन आदि का उपयोग करें. इससे उत्तर आकर्षक और प्रभावी बन जाता है. 
  • पेज भरने की बजाय सभी प्रश्नों का स्पष्ट और सटीक जवाब लिखें. 
  • जो प्रश्न सरल हैं और जिनका ज़वाब आपको सबसे अच्छे से आता है उन्हें पहले करें. कठिन प्रश्नों के लिए पर्याप्त समय बचाएं और उन्हें सोच-समझकर आत्मविश्वास के साथ हल करें. 
  • एग्जाम खत्म होने के 10 मिनट पहले तक अपना पेपर पूरा कर लें. ताकि कॉपी को फिर से चेक कर सकें. 
  • पेपर चाहे जैसा भी हो, एग्जाम खत्म होने के बाद उसकी चिंता छोड़ दें और पूरी लगन, मेहनत और सकारात्मक भाव से अगले पेपर की तैयारी शुरू कर दें. माता-पिता भी पेपर अच्छा ना होने पर डांट ना लगायें बल्कि अगले पेपर की अच्छी तैयारी के लिए प्रोत्साहित करें. 
Reference : Newspapers and Magazines
 
Note : If you are also aware about some other tips for the preparation of exams, then feel free to submit here.