Monday, July 22, 2013

Poem on Camel in Hindi


Poem on Save Camel in Hindi, Registan ka Jahaz Oont, Ship of Desert,   Conservation, Livestock Breeding, Cattle, Herding, Animals, Pashu, Kavita, Poetry, Slogans, Sms, Messages, Shayari, हिंदी कविता, पशुधन, मवेशी, रेगिस्तान का जहाज़ ऊँट, पशुपालन, संरक्षण  

रेगिस्तान का जहाज माना जाने वाला 
बन गया है उपेक्षा का शिकार 
मानव का था जो सच्चा साथी 
उसकी उपयोगिता हुई दरकिनार। 

ऊँट से मिलने वाला दूध 
करता असाध्य रोगों को दूर 
ऊन से बनते ढेरों सामान 
फिर हम क्यों हैं इतने क्रूर। 

ऊँटों को नहीं है कोई संरक्षण 
माँस के रूप में हो रहा है भक्षण 
पशुपालकों का नहीं कोई संगठन 
अंधी सरकार अपने में है मग्न। 

ऊँट पालक घुमक्कड़ ठहरे 
वोटों पर ना उनका प्रभाव 
वोट बैंक ना होने से 
उनकी नहीं कोई खैरख्वाह।

आओ नये विकल्प तलाशें 
पशुधन का हम करे बचाव 
अन्न, दूध पर भी होगी विदेशी निर्भरता 
समय रहते ना किया गर कोई उपाय। 

Monika Jain 'पंछी'