Thursday, March 13, 2014

Bewafa Shayari in Hindi


Bewafa Shayari in Hindi Language for Boyfriend, Gilrfriend, Love, Bewafai, Sad Bewafaa Sms, Betrayal, Wafa, Disloyalty, Dhoka, Cheating, Deception, Breaking Trust, Pain, Painful Poetry, Dard Bhari Shero Shayari, Broken Heart, Unfaithful, Lines, Slogans, Message, Poems, Muktak, हिंदी शेर-ओ-शायरी, कविता, बेवफ़ा, बेवफ़ाई, धोखा, वफ़ा 

बेवफ़ा

मेरे भरोसे को तार-तार करने वाला 
शिकायत करता है कि मैंने उसपे भरोसा नहीं किया. 

वह किताब के पन्नों की तरह बदलता है अपना प्यार 
हैरत में हूँ, क्या इसलिए वह कहता-फिरता है खुद को दिलदार. 

अहसानमंद हूँ मैं तेरी बेवफाई की 
तूने ही सिखाया है पत्थरों को तरहीज ना देना.

हीरे से बन गया है वो पत्थर 
कभी चमकता था जो आँखों में अब जख्म दे रहा है. 

बड़ा अजीब है उसका प्यार जताने का ढंग 
मतलबी प्यार भी करता है तो बस मतलब के लिए. 

मेरी अच्छाई और सच्चाई को नज़रंदाज़ करते-करते 
दिनोदिन वह अपनी क़द्र घटाता चला गया. 

बेदर्द ही होते हैं इस ज़माने में सब लोग 
प्यार, वफ़ा ये सब गुजरे ज़माने के किस्से हैं.

अहसास ही नहीं होता हमको अब कोई 
वो बेवफा सारे अहसास मिटा के चला गया.

खुद को खो चुकी हूँ 
उस बेवफ़ा से वफ़ा करते-करते 
लोग कहते हैं दर्द छिपा है मेरी आँखों में 
पर मुस्कराते हुए मेरे होठ जाने क्यों नहीं थकते. 

दिल जला गया वो रौशनी की आड़ में 
भरोसे की हमने अच्छी कीमत पायी है 
हम वफायें निसार करते रहे 
उसने बेवफाई भी शिद्दत से निभायी है.

अपनी बेबसी पर हम रोते रहे 
अपने ही सपनों की कब्र पर सोते रहे 
समझ नहीं पाये जिंदगी के दाँवपेंच 
लोग बनकर अपने पराये होते रहे.

प्यार बनकर आया था जो ज़िन्दगी में 
वादा किया रहूँगा साँसे है जब तक 
उसी दिये ने जलाये हैं मेरे हाथ 
जिसे हाथों से बचाती रही हूँ अब तक.

हंसाने के बाद रुलाते हैं लोग 
आकर करीब भूल जाते हैं लोग 
देकर गम-ए-जुदाई का जख्म 
अक्सर दिल जलाते हैं लोग.

Monika Jain ‘पंछी’

How is this post ‘Bewafa Shayari in Hindi’ ?