Friday, October 4, 2013

Poems for Kids in Hindi


Poems for Kids in Hindi Language, Bachchon Ki Bal Kavita, Simple Short Child Recitation Nursery Rhymes, Baal Geet, Small Kid Elocution Poetry, School Children Lines, Baby, Teachers, Sun, Holi, Moon, Slogans, Sms, Shayari, Dohe, Message, Chanda Mama, Suraj, Babies, Kavitayen, Song, Lyrics, बच्चों की छोटी हिंदी कविता, बाल गीत, कवितायेँ, शायरी, दोहे 

1. Hindi Poem on Teacher for Kids / शिक्षक पर बाल कविता 

माँ है मेरी जीवन दाता 
पिता है पालक पोषक 
पर जीने की राह दिखाते 
मुझको मेरे शिक्षक. 

अनुशासन का पाठ पढ़ाते
अच्छी-अच्छी बात सिखाते 
कठिन-कठिन लगते सवाल जो 
सरल बनाकर हल करवाते. 

सच्चा मार्ग दिखाते हमको 
यश की ना वो करते चाह 
ईश्वर से भी ऊपर दर्जा 
दिखलाते जीवन की राह.

Monika Jain ‘पंछी’

2. Nursery Rhyme on Sun / सूरज पर बच्चों की कविता 

सूरज भैया कहाँ छिपे हो 
जल्दी से तुम आओ ना 
ठण्ड लग रही हमको थर-थर 
गर्मी तुम दे जाओ ना.

छत का कौना पड़ा है सूना 
इंतजार सब करते हैं 
छुट रही कंपकंपी हमारी 
राह धूप की तकते हैं.

बैठ धूप में बड़े चाव से 
मूंगफली हम खायेंगे 
खेलेंगे पकड़म पकड़ाई 
और सर्दी दूर भगायेंगे. 

Monika Jain ‘पंछी’

3. Hindi Poetry on Holi for Children / होली पर बालगीत 

रंग बिरंगी आई होली
कितनी खुशियाँ लायी होली. 

नीली, पीली, हरी और लाल
उड़ती है अबीर और गुलाल.

बाजे ढोल, भांग की गोली
धमाचोकड़ी करती टोली.

प्रेम की मीठी-मीठी बोली 
देखो आई-आई होली. 

Monika Jain ‘पंछी’

4. Bal Kavita on Moon for Babies / चंदा मामा पर बाल कविता 

चंदा मामा, चंदा मामा 
लुकाछिपी क्यों करते हो 
कभी अधूरे, कभी हो पूरे 
कैसा जादू करते हो.

गायब होने का ये जादू 
हमको भी सिखलाओं ना 
तारों के संग दुनिया की 
हमको भी सेर कराओ ना. 

माँ जब हमको डाटेंगी 
हम भी झट से छिप जायेंगे 
बरसायेगी जब अपनी ममता
फिर गोल मटोल हो जायेंगे. 

Monika Jain ‘पंछी’

How are these Kids Hindi Poems  ?