Wednesday, October 9, 2013

Poem on Discipline in Hindi


Short Poem on Self Discipline in Hindi Language for Kids, Vidyarthi ( Chatra ) Jeevan aur Anushasan ka Mahatva par Kavita, Role of discipline in Schools Students Life, Education, Success, Children, Nation, Slogans, Poetry, Lines, Rhyme, Message, Sms, Shayari, Anushasana Parva, अनुशासन का महत्त्व पर छोटी हिंदी कविता, आत्मानुशासन, नारे, शिक्षा, अनुशासन पर्व 

स्वयं पर स्वयं का शासन 
कहलाता है अनुशासन.

यह कोई पराधीनता नहीं 
ना ही है कोई बंधन
यह है नियमों का अनुसरण 
बनता है जिससे आदर्श जीवन. 

अनुशासन चेतना का परिष्करण है 
अनुशासन सिद्धांतों का अनुकरण है 
अनुशासन सुसंस्कार है 
सफल जीवन का यही आधार है. 

अच्छे विद्यालय ही 
अनुशासन के निर्माता है 
सुसंस्कृत परिवार में ही बालक 
अनुशासन पाता है. 

अनुशासित विद्यार्थी 
बढ़ाते हैं देश का मान 
जो दिखाते हैं अनुशासनहीनता 
नहीं पाते कहीं भी सम्मान. 

समाज में बढती अव्यवस्था 
अनुशासनहीनता का परिणाम है 
नियमों को जो करते हैं दरकिनार 
बुद्धिमान नहीं वे नादान है.

अनुशासन राष्ट्र हित में जरुरी है 
ना सोचो कि यह कोई मजबूरी है 
कर्तव्यों का पालन हमारी जिम्मेदारी है 
अनुशासित रहना ही सच्ची समझदारी है. 

अनुशासन सफलता की धुरी है 
प्रशासन, स्कूल, समाज और परिवार 
सबकी सफलता के लिए 
अनुशासन जरुरी है. 

अनुशासन परिवार, समाज और राष्ट्र की आवश्यकता है 
बिना अनुशासन कोई भी आगे नहीं बढ़ सकता है 
अनुशासन से ही समस्यायों का समाधान है 
अनुशासन में ही विकसित होता ज्ञान है. 

अनुशासन जीवन का प्राण है 
सफलता के लिए अनुशासन रामबाण है
अनुशासन पशुता से ऊपर उठाता है 
अनुशासन ही मानव को मानव बनाता है. 

Monika Jain ‘पंछी’ 

In short, discipline is controlling our mind. Self discipline in every field of life helps us to get good health, true happiness, peace, success and enlightenment. It has a great role in students life. The best place to learn discipline is our schools. Children are same as raw pitcher. Discipline helps to give them good shape and turned them into good and responsible citizens, who help in building a good and developed nation. The above hindi poems on ‘anushasan’ is dedicated to all the kids.