Saturday, October 12, 2013

Veer Ras Kavita in Hindi


Veer Ras Kavita in Hindi Language, Revolutionary Poems, Krantikari Kavitayen, Veerta, Inspirational Revolution Poem, Kranti, Freedom Movement Poetry, Andolan, Nav Srijan Sms, Nav Nirman Slogans, Reformation Rhymes, National Social Reforms Lines, Halchal Shayari, Message, क्रांति दिवस कविता, क्रांतिकारी कवितायेँ, हलचल, आन्दोलन, शायरी, विचार, नारे 

हलचल की आस में जीवित हूँ

इन उन्मादों से डरा नहीं
सन्नाटों पे विचलित हूँ
चुभती है शांति कानो में
हलचल की आस में जीवित हूँ.

है श्वासों में हुंकार भरा 
कुतूहल रगों का पानी है
संगीत है बस सैलाबों में
विध्वंसों में लिप्त वाणी है.

लाचारी की बीमारी को
इस बेबस दुनियादारी को
शांति के क्रियाकलापों को
वरदानो को अभिशापों को.

पंखो में दबा के उड़ता हूँ
राखों में बिखर फिर जुड़ता हूँ.

है बैर नहीं अभिमान नहीं
है भूत भविष्य का ज्ञान नहीं
क्रांति की हिलोरे है मस्तक में
ये जीव मेरी पहचान नहीं.

शीलता भाए लाशों को
रक्त में बैचेन गर्मी है
मर्यादा सावंग सी लगती है
फितरत मे अपने बेशर्मी है.

प्रतिहिंसा की है प्यास नहीं
बस नव सृजन पर अर्पित हूँ
चुभती है शांति कानों में
हलचल की आस में जीवित हूँ.

Lavkesh Kumar Singh 

With time we have forgotten the wounds given by the britishers at the time of slavery. But what about the wounds that we are getting even after so many years of independence. Poverty, corruption, biased legal system, unemployment, black money, black marketing, corrupt political system, inappropriate education, inflation, increasing crime rate and many more problems exist in our country and increasing on a rapid pace. Its not the time to sit calm. Its the time of revolution. Only the revolutionary deeds can free us from all these problems. 

These revolutionary poems written by ‘Lavkesh Kumar Singh’ are quite inspirational to light the flame of revolution (kranti). The Veer Ras Kavita ‘हलचल की आस में जीवित हूँ’ reminds me of our freedom fighters and the poem ‘ दोष किसका है ?’ reflects that we are equally responsible for whatever we are facing. If we will strive hard we can achieve anything in this world.