Saturday, June 21, 2014

Romantic Love Poem in Hindi


Romantic Love Poem in Hindi Language for Him, Husband, Boyfriend, Romance, Feelings, Girlfriend, Wife, Pyar, Her Poetry, Prem Kavita, Shayari, Lines, Slogans, Sms, Messages, Rhymes, Quotes, Thoughts, Proverbs, Sayings, Words, रोमानी हिंदी प्रेम कविता, रूमानी शायरी 

तुम मिले 

तुम मिले तो लगा जैसे
सोया ख़्वाब मेरी पलकों में फिर से जागा है 
दम तोड़ चुका मेरे होने का अहसास फिर से जागा है 
जागे हैं अधूरे सपने पूरे होने की ख्वाइश में 
चलने लगी हैं साँसे तुझसे मिलने की चाहत में.

तुम मिले तो मिल गया मुझे मझधार में एक किनारा 
अरमां मेरे यूँ थामने तू आया है बन सहारा 
मुस्कुराहटें तेरी मेरे होठों पर खिलने लगी 
रोशन तेरी ये आँखें मेरी आँखों में मिलने लगी.

ख़्वाब जो सोये थे अब तक पलकों में जगने लगे हैं 
अरमान जैसे बनके घुंघरू पैरों में बजने लगे हैं 
अब ना रोक पायेगा कोई भी हमारा मिलन 
इस आस में ये फूल देखो सेज पर सजने लगे हैं. 

तेरे हाथों की छुअन से महकते मेरे लोम है 
पंख मेरे जी उठे तेरी बाहों में जो व्योम है 
तेरे स्नेह के बादल की बारिश में भीग जाने को 
खिल उठा, पुलकित हुआ मेरे तन-मन का रोम-रोम है. 

शाम जैसे बन गयी है सुरमई सुहानी 
गा रही है कोकिला तेरी मेरी कहानी
बदली-बदली सी निशायें, बदला मेरा व्यवहार है 
खुशियों की जैसे बारिश हो, ऐसा तेरा ये प्यार है. 

टिकते नहीं हैं पाँव मेरे इस जमीं पर आजकल 
तेरे नशे में उड़ रही हूँ हर घड़ी मैं हर पल 
तितलियाँ और फूल, भँवरें अब मुझे भाने लगे हैं 
गम, उदासी और आंसू दूर अब जाने लगे हैं. 

बन गया हर दिन मेरा जैसे कोई त्योंहार है 
बसंत ही बसंत है, बहार ही बहार है 
चांदनी बिखरी पड़ी जिस ओर भी नज़रे उठे 
तू चाँद मेरा बन गया ये तारों की पुकार है. 

By Monika Jain ‘पंछी’

How is this romantic love poem ?