Saturday, August 30, 2014

Dard Bhari Shayari in Hindi


Dard Bhari Shero Shayari in Hindi Language for Love, Girlfriend, Boyfriend, Gam, Dukh, Sad, Painful, Pain, Sadness, Grief, Sorrow, Poetry, Rhymes, Kavita, Poem, Slogans, Lines, Quotes, Thoughts, Sayings, Sms, Messages, Words, Muktak, Proverbs, दर्द भरी शेरो शायरी, दुःख, गम, कविता 

दर्द-ए-रूह

(1)

ना आसूंओं से छलकते हैं
ना कागज पर उतरते हैं 
दर्द कुछ होते हैं ऐसे 
जो बस भीतर ही भीतर पलते हैं.

(2)

खुशियों से कह दो दस्तक ना दे मेरे द्वारे
चाहकर भी स्वागत उनका मैं कर नहीं सकती
सपनों से कह दो ढूंढें कोई और आँखें 
नम हैं मेरी आँखें ख़्वाब देख नहीं सकती.

(3)

ख्वाईशें तुम्हारी, काश ! देख पाती मुश्किलें मेरी 
पर अपने अरमानों के आगे कहाँ कुछ सूझता है तुम्हें 
जो मर चुका है, उसे ज़िन्दा कर, फिर मार देने का तुम्हारा खेल 
कितना तड़पती होगी रूह मेरी, क्या कुछ पता है तुम्हें ?

(4)

कोशिशे आज भी जारी है हर वक्त मुस्कुराने की 
पर कमबख्त ये आँखे धोखा दे ही जाती है
कोशिशे आज भी जारी है जख्मों को छिपाने की 
पर ये कमबख्त दुनिया उन्हें कुरेद जाती है.

(5)

हर रात तेरे खयाल में सोती है 
हर सुबह तेरी आहट से होती है 
दर्द इतना दिया है तूने मुझको 
कि अब नींद में भी रूह मेरी रोती है. 

(6)

भरे थे जो आँखों की गहराइयों में कब से 
छिपाने की चाहत में बरबस बरस पड़े. 

(7)

ना बादलों के गरजने से, ना बिजलियों के कड़कने से 
सहम जाती हूँ, जब भीतर में एक चुप्पा सा शोर होता है
ना ना करके भी अक्सर सुन लेती है मेरी साँसे 
इस चुप्पी में छिपकर एक दिल बहुत रोता है

(8)

ना मंजिल, ना अरमान, ना ख़्वाब अब कोई 
जो दिल को दे सुकून, बस किये जा रहे हैं 
चलती है मेरी साँसे, कोई वजह तो होगी 
बस उस वजह की वजह से जिए जा रहे हैं.

By Monika Jain ‘पंछी’ 

How is this dard bhari (painful) shayari in hindi ?