Monday, October 13, 2014

Poem on Patriotism in Hindi


Poem on Patriotism in Hindi Language for Kids, Children, Students, Desh Bhakti par Kavita, Deshbhakti, Rashtra Prem, Mera India, Bharat, Hindustan, Pakistan, Patriotic Poetry, Short Rhyming Rhymes, Slogans, Lines, Shayari, Sms, Messages, Quotes, Thoughts, Sayings, Proverbs, Words, Muktak, देशभक्ति पर हिंदी कविता, राष्ट्र प्रेम, भारत, हिंदुस्तान, शायरी, नारे 

खून ये हिन्दुस्तानी है

यही है सागर गंभीर-धीर, दरिया की यही रवानी है
मेरी रग में जो दौड़ रहा है, खून ये हिन्दुस्तानी है.

हम अहिंसा साधक हैं
पर कायर हमें न मानो तुम
मत ललकारो सिंहों को
हमें नज़र खोल पहचानो तुम

अब भी गलियों में भगत सिंह, घर में झाँसी की रानी है
मेरी रग में जो दौड़ रहा है, खून ये हिन्दुस्तानी है.

खुद पर खेल कर लाज बचायी
हर बार हमारी यारी की
पर मौका मिलते ही तुमने
तीन बार गद्दारी की

बेहतर होगा अंजाम समझ लो, फिर तुम्हे ही मुंह की खानी है
मेरी रग में जो दौड़ रहा है, खून ये हिन्दुस्तानी है.

हम देश की रक्षा करने को
आहुति देने से नहीं डरे
तुम जैसे नापाक, नाकारे
और कायर हम में नहीं भरे

यहाँ देश के नाम पे सुन लो, कुरबां हर एक जवानी है
मेरी रग में जो दौड़ रहा है, खून ये हिन्दुस्तानी है.

हम भाई भाई ही होते
गर खुद को ये समझाते तुम
हम आज भी यार तुम्हारे होते
गर साथ हमारे आते तुम

पर कितना ही तुमको समझाओ, हर बार की यही कहानी है
मेरी रग में जो दौड़ रहा है, खून ये हिन्दुस्तानी है

By Malendra Kumar ‘मलेन्द्र’

Patriotism, a feeling of loyalty and pride is one of the best virtue of a person. We must love our country. We must not hate others also. But we must be ready to fight against those who are threatening our country’s security and ideals. 

Thank you ‘Malendra’ for sharing such an enthusiastic poem full of patriotism.