Friday, March 28, 2014

Happy Fathers Day Poem


(1)

As the Father He is God 

Who teaches us to walk 
Secures us like rock.

Who never looks for praises
Every time who encourages.

Who teaches us to read
Who is best friend indeed.

Who brings us new toys
with which we all enjoy.

Who loves us a lot
Scolds at our faults.

Who is loving and kind 
can read our minds. 

Who shows us true ways
to brighten our days.

Who is patient, helpful and strong 
When the things go wrong.

Who helps us and hold
at the time of every odd.

Who makes us very bold
As the father he is God.

By Monika Jain 'Panchi'

(2)

Who is a Father

Who is gentle, polite and intelligent
Gives us informations about the world’s incidents.

Who is affectionate, dutiful and source of strength
Who is a driving force behind all our achievements. 

Who listens, suggests and defends 
and support like a best friend. 

Who is responsible, caring and sometimes strict 
Whenever we need he always assist. 

Who is our guiding light we turn to whom
When things are not going right.

Who is outstanding for a variety of reasons 
Who is always logical in making decisions. 

By Monika Jain ‘Panchi’ 

Father is one of the most important persons in our life. He shares very deep and faith filled relation with us. Father’s day is celebrated in the honor and respect of all the fathers on the third sunday in the month of june. The above poems are dedicated to all the fathers of this world. Our dads sacrifice a lot for us. So Let’s make this day special for our daddies. 

Thursday, March 27, 2014

Laghu Kahaniyan in Hindi


Laghu Kahaniyan in Hindi Language, Intelligence, Emotional Mental Development, Mind, Power, Strength, Direction, Panini, Luck, Efforts, Karma, Purusharth, Mehnat, Bhagya, Stories, Short Tales, Chhoti Kathayen, Kahani, Small Story, Tale, Katha, बुद्धि, बल, हिम्मत, भावनात्मक विकास, पुरुषार्थ, भाग्य, कर्म, मेहनत, पाणिनि 

(1) 

भावनात्मक विकास 

एक व्यक्ति था हिम्मत सिंह. नाम के अनुरूप ही साहसी और हिम्मत वाला. वह अक्सर कहता था कि इस दुनिया में कोई भी कार्य मुश्किल नहीं है. पर वह यह कथन अपने शारीरिक बल के चलते कहता था, बुद्धि के बल पर नहीं. उसके बड़बोलेपन की वजह से कुछ लोग परेशान थे. उन्होंने उसे नसीहत देने की सोची. 

वे सब मिलकर हिम्मत सिंह के पास गए और बोले, ‘ हिम्मत सिंह, तुम बड़े साहसी हो. मुश्किल से मुश्किल काम को चुटकियों में कर देते हो. पर आज एक सरल काम करके दिखाओ.’

हिम्मत सिंह ने कहा, ‘बताओ क्या काम है ?’ 

युवकों ने कहा, ‘ तुम्हें बस यह जो दो कदम की दूरी पर तुम्हारी छाया दिख रही है, उसे छूकर बताना है. तुमने ऐसा कर दिया तो हम तुम्हारी वीरता और साहस का लोहा मान जायेंगे.’ 

हिम्मत सिंह ने कहा, ‘लो अभी करके दिखाता हूँ’ और यह कहकर उसने अपनी परछाई को छूने के लिए कदम बढ़ाये पर छाया हाथ नहीं आई. जितना वह आगे बढ़ता उतनी ही परछाई आगे खिसक जाती. 

हिम्मत सिंह अब दौड़ने लगा. उसे इस तरह दौड़ते हुए देखकर एक व्यक्ति ने पूछा, ‘तुम दौड़ क्यों रहे हो ?’ 

हिम्मत ने उसे सारी बात बता दी. व्यक्ति ने समस्या सुनकर कहा, ‘ये तो आसान सा काम है. तुम जहाँ खड़े हो वही रुक जाओ और अभी जो तुम्हारा मुख पूर्व दिशा में है उसे पश्चिम दिशा में फेर लो. फिर देखो.’ 

हिम्मत सिंह ने अपना मुंह पश्चिम की ओर किया और छाया उसके कदम चूमने लगी.

Moral : दिशा बदलो, दशा अपने आप बदलेगी. मस्तिष्क की अनेक परतें हैं जिनका परिष्करण जरुरी है ताकि भावनात्मक विकास हो सके. 

(2)

पुरुषार्थ 

पाणिनि जो कि संस्कृत व्याकरण के रचयिता थे, उनका जन्म एक श्रेष्ठी के यहाँ हुआ था. एक बार बालक का भविष्य जानने के लिए उन्होंने एक ज्योतिषी को बुलाया. रेखाशास्त्र में निपुण उस ज्योतिषी ने कहा, ‘यह बालक निरा मुर्ख रहेगा क्योंकि इसके हाथ में बुद्धि रेखा नहीं है. तीन-चार वर्ष बीत गए. बालक का विकास नहीं हुआ. पिता ने स्वीकार कर लिया कि यह बालक अब मुर्ख शिरोमणि ही रहेगा. 

बालक ने जब यह भविष्यवाणी सुनी तो उसने ज्योतिषी से कहा, ‘बताओ बुद्धि रेखा कहाँ होती है ? ‘ ज्योतिषी ने रेखा की ओर संकेत किया. बालक ने उसी समय चाक़ू से काटकर उस रेखा को बड़ा कर दिया और बोला, ‘अब तो मेरी विचार रेखा बड़ी हो गयी है.’ ज्योतिषि आश्चर्य से देखता रहा. बालक बोला, ‘ भाग्य का निर्माण रेखाओं से नहीं पुरुषार्थ से होता है.  

Courtesy : Swadhyay Sandesh 

How are these short inspirational stories ? 

Note : The above stories ( Laghu Kahaniyan ) are not my own creations. 

Wednesday, March 26, 2014

Happiness Quotes, Thoughts, Sayings



Happiness Quotes, Thoughts, Sayings

  • Don't count your troubles ..count your joys. 
  • Detachment is the only key to peace and happiness. 
  • If a man can control his mind. He can find the ways to happiness. 
  • Happiness resides in the soul. 
  • The only person who can make you happy is you yourself. 
  • Be honest with yourself and be courageous.
  • Start focusing on how blessed you are instead of thinking about your troubles.
  • The quality of your thoughts can bring happiness in your life. 
  • While making others happy you find happiness for yourself. 
  • Happiness has nothing to do with perfection. Its looking beyond the imperfections. 
  • Happiness is not destiny. It's a decision. 
  • Be determined to be cheerful and happy in whatever situation you find yourself. 
  • A positive attitude may not solve all the problems but it can guarantee happiness. 
  • Adapt your surroundings and get best out of it.
  • You can't buy happiness but you can create it. 
  • Happiness is not relevant with what you are. It depends on how you think. 
  • Search for happiness is step towards unhappiness. 
  • Have an attitude of forgiveness to feel the happiness. 
  • Jealousy is a disease. Its the enemy of happiness so get rid of jealousy to bring happiness.
  • Love the people. Accept them as they are. 
  • Be grateful towards all the good things and good persons you have in your life. 
  • Don't depend on others for your happiness. Create it within yourself. Have least expectations from others. 
  • Forget the past with lessons. Make your mistakes your motivator. Live in present and think positively about the future. 
  • Don't be sad for what you don't have. Just try to get it with a positive attitude and always live happily with what you have. 
  • Welcome the change. Don't afraid of it. 
  • You can't always control the happenings and circumstances around you. You can only control your attitude towards whatever happens. So have a positive attitude towards everything. 
  • Let the hopes never die. 
  • Don't take a path just because others are choosing it. Listen to your heart. Choose the path that best suits you. 
  • Do the right things, no matter what other people think. 
  • Plan your actions. Don’t plan the result. 
  • Be kind towards all. Love all the creatures and have a helping nature but don’t allow yourself to be used. 
  • Always keep your childhood alive. 
  • Last but not least. Always keep Smiling :) 

Friday, March 21, 2014

Essay on Raksha Bandhan



Raksha Bandhan / Rakhi Celebration Ideas

Raksha Bandhan is the indian festival of celebrating bond between brothers and sisters. On this occasion sisters tie rakhi on the wrist of their brothers and pray for the happiness, long life and success of their brothers and brothers take the responsibility of protecting their sisters. This sacred thread of rakhi is considered even stronger than the iron chain. Its the sign of love and trust between siblings. So how are you going to celebrate this rakhi ? This festival is an occasion to make your relation stronger and lively with your siblings and can add some beautiful moments in your life. So don't celebrate this festival as a formality but it should be an unforgettable celebration. Here I am telling you some ideas to make the rakhi celebrations special for your family and siblings. 
  • What can be better than a handmade rakhi greeting card and a handmade rakhi thread. If your brother is a kid then you can use cartoon figures to decorate the cards and rakhi threads. Write some thoughtful and cute messages on the greeting card and decorate it with beads, images, glitter and colorful flower pictures. 
  • You can prepare a special unique dish for your brother/sister on this occasion. Prepare delicious cuisine and sweets keeping in mind the taste and choice of your brother/Sister or can take your siblings to a restaurant and have a grand lunch and dinner party. 
  • You can celebrate rakhi with your relatives and can plan a small function and fill it with enjoyment by dancing, playing games, cracking jokes, singing songs etc. You can also plan a family picnic or a family movie and dinner. 
  • Without gifts we can't imagine a festival so choose a special unique gift for your brother or sister. You need not to buy an expensive gift beyond your budget but it should be straight from your heart because your feelings behind the gift are much more important than the price of the gift. For your kid brother you can choose games, toys, chocolates and cute kids wears. and for elders brother you can choose shirts, watches, mobiles, perfumes, portfolio bags, a nice novel if he is fond of reading, leather jackets, wallets, belts, ties and cufflinks etc. For your kid sister you can buy cute teddy bears, chocolates, barbie dolls and cute kids wears and for elder sister you can go for jewelry items like rings, bracelet, anklet, earrings, necklaces or can buy perfumes, fancy tops etc. If there is anything your sibling has been planning to purchase for a long time but not managed to purchase it yet then its a better day to surprise him / her by making his / her wish come true. 
  • You can make a photo collage of your childhood memories with your brother or sister. Gift it to your sibling and see the expressions of his/her face. You can also make a video of the beautiful childhood moments captured in photos. 
  • Wear a traditional outfit on this occasion. You can also gift a unique traditional outfit to your sister or brother. Ask them to wear it then celebrate the whole day with joy and happiness. 
In today's busy life festivals bring the moments of happiness in our life. So these festivals should be celebrated in such a way that can leave remarkable and unforgettable impressions on the mind of our loved ones. I wish this festival of Raksha Bandhan will bring lots of happiness in your family. Wish you all a very Happy Rakhi :)

By Monika Jain 'Panchi'

Short Kahani in Hindi


Short Kahani in Hindi Language, Laghu Katha, Chhoti Story, Small Tales, Hakeem Luqman, Illusion, Fish, Happiness, Sadness, Joy, Sorrow, Delusion, Misunderstanding, Misconception, Slave, Kahaniyan, Stories, Tale, Kathayen, हिंदी लघु कथा, कहानी, कहानियां, कथाएं , भ्रम, सुख, दुःख 

(1)

भ्रांत धारणा 

एक व्यक्ति हर रोज तालाब के किनारे घूमने जाता था. पानी में उसकी परछाई दिखाई पड़ती थी. तालाब में बहुत सारी मछलियाँ रहा करती थी. एक मछली ने एक दिन उस व्यक्ति के प्रतिबिम्ब को पानी में देखा तो उसे सर नीचे और पाँव ऊपर नज़र आये. वह हर रोज ऐसा ही देखती थी इसलिए उसने यह दृढ़ धारणा बना ली कि आदमी एक ऐसा प्राणी है जिसका सर नीचे और पाँव ऊपर होते हैं. 

एक दिन वह मछली पानी की सतह पर आई. आज उसने कुछ और ही देखा. आज उसे आदमी का सर ऊपर और पाँव नीचे दिखाई दिए. मछली ने सोचा कि यह व्यक्ति जरुर शीर्षासन कर रहा है क्योंकि वैसे तो आदमी का सर नीचे और पाँव ऊपर होते हैं. यह उस मछली की भ्रांत धारणा थी. पर यहाँ स्थिति केवल उस मछली की नहीं हम सब की है.

Courtesy : Swadhyay Sandesh 

(2)

सुख और दुःख 

हकीम लुकमान का बचपन बहुत अभावों में गुजरा था. अपने भरण-पोषण के लिए उन्हें गुलामी भी करनी पड़ी. एक बार उनके मालिक ककड़ी खाना चाहते थे. लुकमान उनके लिए ककड़ी ले आये. मालिक ने जैसे ही ककड़ी को चखा उन्हें पता चला कि वह तो बहुत कड़वी है. मालिक ने ककड़ी लुकमान को देते हुए कहा, ‘इसे तू खा ले.’ 

लुकमान ने मालिक से ककड़ी ली और बिना मुंह बिचकाए आराम से ककड़ी खा ली. मालिक को बहुत आश्चर्य हुआ. वे तो सोच रहे थे कि लुकमान इसे नहीं खायेगा और फेंक देगा. पर जब लुकमान ने आराम से पूरी ककड़ी खा ली तो मालिक ने पूछा, ‘तूने इतनी कड़वी ककड़ी कैसे खा ली ?’ 

लुकमान हँसते हुए बोले, ‘ मालिक, आप हर रोज मुझे इतना स्वादिष्ट भोजन खिलाते हैं. जिसे मैं आनंद से खाता हूँ तो अगर एक दिन आपने कड़वी ककड़ी दे भी दी तो क्या मैं उसे नहीं खा सकता ? मैंने इसे भी और चीजों की तरह ही अच्छा मानकर खा लिया.’

मालिक बहुत समझदार और दयालु थे. लुकमान की बात को स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा, ‘ तुमने आज मुझे जीवन का एक बहुत बड़ा सत्य बताया है. ईश्वर हमें खुश होने के कई कारण देता है. इसलिए अगर कभी दुःख भी आये तो हमें हर्ष से उसे स्वीकार करना चाहिए. तभी हमारा जीवन सार्थक होगा. जाओ आज से तुम गुलामी से मुक्त हो.’

Note : The above short stories are not my own creations. I read it somewhere so sharing it here. 

Wednesday, March 19, 2014

Essay on Female Foeticide


Live and Let Live 

Life is the gift of God. Everyone wants to live and we don't have any right to take anyone's life then how can we kill a totally defenseless and innocent being ? Mother's womb is considered as the safest place on this earth for a child but polythene bags stuffed with the body parts of female foetuses and newly born babies are the question mark on this statement.

India an IT superpower and one of the fastest developing country represent one of the most adverse Child Sex Ratio (CSR) amongst the southeast asian countries. The child sex ratio in the country is now 914 females per 1,000 males, said to be the lowest since Independence. The government has banned prenatal sex determination tests since 1996 but, as the data shows, this hasn't been very effective. According to a study, up to 8 million unborn females may have been killed -- either before or immediately after birth -- during the last ten years.The number of girls is continuously decreasing and if we won't take any step then there may be a time when boys won't get any girl to marry with.

The process of abortion is a painful reality. Sometimes doctors have to cut the baby into several pieces in order to get it out. The larger parts are cut into smaller pieces and spooned out piece by piece and then discarded. American Portrait Film education presentation ' The silent scream' is a film which depicts the story of abortion. It shows how the fetus during abortion attempts to defend themselves. Mother also feels this hustle and bustle of the baby who is being killed.

Murder is murder whether the person killed is 60 years old, 6 years old, 6 months old or a 6 weeks fetus. The unborn baby is also a human being. He/she is not a potential human being rather he/she is a human being with potential. Any of them can become Mother Teresa, Kalpana Chawla, P. T. Usha or Lata Mangeshkar.

The possible causes of this crime are poverty, ignorance of family planning and dowry system etc. But instead of removing these causes we are involving ourselves in another crime of killing unborn daughters. Is it reasonable? Why don't we kill the demon of dowry ? Why don't we make people aware about family planning ? Why innocent beings have to suffer for our doings ? How a physician who has taken an oath to preserve life can perform abortion ? 

It is said that God created mothers because he could not be present everywhere but I am failed to understand How a mother can be so ruthless and vulnerable ?

By Monika Jain 'Panchi'

How is this essay on Female Infanticide, Foeticide and Save Girl Child ?

Thursday, March 13, 2014

Essay on Humanity


Humanity The Best Religion 

Humanity : the only religion that can make this world worth living as the religions we are following today are not serving their real purpose. Religions today are developing as a business and for some people religions are just a product to sell and to market. Spreading love and peace and bringing us closer to ourselves and to God should be the purpose of a religion but instead of uniting religions today are dividing us. Even a single religion has so many divisions.The attachment to a particular religion makes an individual narrow minded and prejudiced towards others and thus keep him away from the truth. Because of his attachment to a particular religion doesn't allow himself to be a liberal and an open minded person. Religious extremists are destroying our peace, freedom and happiness. We should understand what the religion originally desire from us. The essence of all the religions is humanity and we all should practice only humanity to serve the real purpose of all the religions.

Man is not the creation of these religions but religions are created by man. The truth is that all the living beings and our human body is the constituent of five elements kept alive by heat and light. Our source is one and our destination is one. Thus why to adopt different paths ? Why to pursue different ideologies?

The best thing about humanity is that it can unite all , whether they are atheists or theists. Love, peace, happiness and God (atheist can replace god with good) all are within us so we don't need to search it anywhere. If we will sow the seeds of love, peace and happiness we will reap tons of love, peace and happiness.A person should not bother himself for the existence of God. One should become a good human being first then it won't matter whether he/she believe in god or not.

I find many people who are full of pride, anger, jealousy, cruelty are also engaged in spiritual pursuits. Most of these worship god to attain materialistic success and some of them have a false notion that ritualistic worship would give them the license to do whatever they like. Such people are not religious at all. 

A selfish man who always care for himself, his family, his religion and party can never become impartial, open minded and well wisher of others. Such a man is not useful and advantageous to the humanity in general. I saw some people who don't give food to dogs or poor and search for cows. May be their religion prefers the needs of cows over dogs and humans. I can never understand the logic behind this. 

In some religions innocent animals are killed in the name of 'bali'. I can never understand how killing can make god happy. But when you follow humanity all the living beings are alike for you. Humanity is about equality, well wishing of all and selfless thinking. Humanity not only take us closest to god it also helps us in our personal growth.

No religion is greater than 'Humanity' , 'Manavta' or 'Insaniyat'. So let's embrace humanity and begin a new way of life full of love, peace and happiness.

By Monika Jain 'Panchi'

Bewafa Shayari in Hindi


Bewafa Shayari in Hindi Language for Boyfriend, Gilrfriend, Love, Bewafai, Sad Bewafaa Sms, Betrayal, Wafa, Disloyalty, Dhoka, Cheating, Deception, Breaking Trust, Pain, Painful Poetry, Dard Bhari Shero Shayari, Broken Heart, Unfaithful, Lines, Slogans, Message, Poems, Muktak, हिंदी शेर-ओ-शायरी, कविता, बेवफ़ा, बेवफ़ाई, धोखा, वफ़ा 

बेवफ़ा

मेरे भरोसे को तार-तार करने वाला 
शिकायत करता है कि मैंने उसपे भरोसा नहीं किया. 

वह किताब के पन्नों की तरह बदलता है अपना प्यार 
हैरत में हूँ, क्या इसलिए वह कहता-फिरता है खुद को दिलदार. 

अहसानमंद हूँ मैं तेरी बेवफाई की 
तूने ही सिखाया है पत्थरों को तरहीज ना देना.

हीरे से बन गया है वो पत्थर 
कभी चमकता था जो आँखों में अब जख्म दे रहा है. 

बड़ा अजीब है उसका प्यार जताने का ढंग 
मतलबी प्यार भी करता है तो बस मतलब के लिए. 

मेरी अच्छाई और सच्चाई को नज़रंदाज़ करते-करते 
दिनोदिन वह अपनी क़द्र घटाता चला गया. 

बेदर्द ही होते हैं इस ज़माने में सब लोग 
प्यार, वफ़ा ये सब गुजरे ज़माने के किस्से हैं.

अहसास ही नहीं होता हमको अब कोई 
वो बेवफा सारे अहसास मिटा के चला गया.

खुद को खो चुकी हूँ 
उस बेवफ़ा से वफ़ा करते-करते 
लोग कहते हैं दर्द छिपा है मेरी आँखों में 
पर मुस्कराते हुए मेरे होठ जाने क्यों नहीं थकते. 

दिल जला गया वो रौशनी की आड़ में 
भरोसे की हमने अच्छी कीमत पायी है 
हम वफायें निसार करते रहे 
उसने बेवफाई भी शिद्दत से निभायी है.

अपनी बेबसी पर हम रोते रहे 
अपने ही सपनों की कब्र पर सोते रहे 
समझ नहीं पाये जिंदगी के दाँवपेंच 
लोग बनकर अपने पराये होते रहे.

प्यार बनकर आया था जो ज़िन्दगी में 
वादा किया रहूँगा साँसे है जब तक 
उसी दिये ने जलाये हैं मेरे हाथ 
जिसे हाथों से बचाती रही हूँ अब तक.

हंसाने के बाद रुलाते हैं लोग 
आकर करीब भूल जाते हैं लोग 
देकर गम-ए-जुदाई का जख्म 
अक्सर दिल जलाते हैं लोग.

Monika Jain ‘पंछी’

How is this post ‘Bewafa Shayari in Hindi’ ?

Monday, March 10, 2014

Poem on Eye Donation



Let us enlighten someone’s world 

Today when I saw a blind man 
I thought
How lucky we are ? That we can see the whole universe
Think about the people whose life is filled with a curse. 

They are unaware about the colors of life 
To see the beauty of this world they didn't get any eyes
The world we can see, the world we can feel 
But those who can’t see from where they will get the zeal. 

What is blue, what is red 
They don’t know how the colors make us glad 
No trees around, no flowers to bloom 
Their life is like a dark room.

No moon to watch, no books to read
But we can help such people indeed
We can change their life forever 
We just need to do a little favor. 

We can illuminate their darkness 
By donating eyes we can fill their life with lightness
After we are gone our eyes will give them sight
This way our eyes will continue to live a life. 

Instead of destroying our eyes 
Let us donate them to make best use of our life
For the sake of humanity 
Let us donate our eyes to fulfill our responsibilities

How nice it would be when even after our death 
Our eyes will be able to see this beautiful earth
Eyes are best gift of nature to the body 
So let us donate our eyes and make this adorable charity.

Let us donate our eyes as its kindness 
Let us donate our eyes to eradicate blindness
Let us donate our eyes to create belief 
Let us donate our eyes to give someone a big relief
Let us enlighten someone’s world 
Let us give wings to a bird. 

By Monika Jain 'Panchi' 

How is this poem about eye donation ?

Wednesday, March 5, 2014

Sukrat Story in Hindi


Sukrat Story in Hindi Language, About Greek Philosopher Socrates Inspirational Life Incidents, Tales, History, Short Biography, Information, Kahani, Katha, Stories, Tale, Kahaniyan, Kathayen, सुकरात की कहानी, प्रेरक प्रसंग, जीवन परिचय 

(1)

सुकरात के गुरु 

विश्वप्रसिद्ध दार्शनिक सुकरात कुछ ऐसे व्यक्तित्व के धनी थे कि सभी लोग उनके साथ बहुत सहज महसूस करते थे. अपनी समस्याओं का समाधान जानने के लिए उनके पास कई लोग आते और तरह-तरह के सवाल करते थे. सुकरात समान भाव से सभी की समस्याओं का समाधान करने और उन्हें संतुष्ट करने की कोशिश करते. 

एक बार एक व्यक्ति ने सुकरात से प्रश्न किया, ‘आपके गुरु कौन है ?’ 

सुकरात ने हँसते हुए जवाब दिया, ‘ तुम मेरे गुरु के बारे में जानना चाहते हो तो सुनो, सारी दुनिया में जितने भी मुर्ख है वे सब मेरे गुरु हैं.’ 

व्यक्ति ने सोचा कि सुकरात मजाक कर रहे हैं. क्योंकि वे अक्सर ऐसा करते थे. इसलिए उस व्यक्ति ने फिर से वही सवाल दोहराया और उनसे आग्रह किया कि वे कृपया गंभीरता से प्रश्न का उत्तर दें. पर सुकरात ने फिर से वही उत्तर दोहराया तो व्यक्ति को बड़ा आश्चर्य हुआ. 

व्यक्ति ने पूछा, ‘ मूर्ख आपके गुरु कैसे हो सकते हैं ?’ 

सुकरात ने जवाब दिया, ‘ मैं हमेशा यह जानने की कोशिश करता हूँ कि किस दोष की वजह से किसी को मुर्ख कहा जा रहा है. अगर मुझे लगता है कि यह दोष मेरे भीतर भी है तो मैं अपने भीतर के उस दोष को दूर कर लेता हूँ, जिससे कि मुझे मूर्ख ना कहा जाए. इस तरह मैंने जो भी ज्ञान प्राप्त किया है वह मूर्खों से ही शिक्षा लेकर किया है. अगर वे ना होते तो मुझे अपने में सुधार करने का मौका कैसे मिलता. अब तुम्हीं निर्णय लो कि मुर्ख मेरे वास्तविक गुरु हैं कि नहीं.’ 

सुकरात का जवाब सुनकर वह व्यक्ति संतुष्ट हो गया और उसने भी यह तरीका अपने जीवन में अपनाने का निश्चय किया. 

(2) 

मन : शत्रु और मित्र

एक बार एक व्यक्ति ने सुकरात से पूछा, ‘ दुनिया में आपका सबसे निकट मित्र कौन है ?’ सुकरात ने कहा, ‘मेरा मन.’ व्यक्ति ने फिर पूछा, ‘आपका शत्रु कौन है ?’ सुकरात ने जवाब दिया, ‘ मेरा मन.’ 

वह व्यक्ति आश्चर्य में पड़ गया. उसने सुकरात से कहा, ‘आपकी बात समझ नहीं आई. मन ही मित्र और मन ही शत्रु कैसे हो सकता है ? कृपया विस्तार से समझाइये.‘ 

सुकरात ने कहा, ‘ मन ही मेरा मित्र है क्योंकि यही मुझे सही रास्ते पर ले जाता है और यही मेरा शत्रु भी है क्योंकि यही मुझे गलत रास्ते पर भी ले जाता है. मन ही व्यक्ति को उच्च विचारों में लगा सकता है और मन ही पाप कर्म भी करवाता है. ‘ 

उस व्यक्ति ने ध्यान से सब कुछ सुना और फिर पूछा, ‘ पर अगर शत्रु और मित्र दोनों एक ही हो तो हम पर किसका असर ज्यादा होगा ?’ 

सुकरात ने कहा, ‘ यह हम पर निर्भर करेगा कि हम मन के किस रूप को हावी होने देते हैं. अगर हम उसके बुरे रूप को हावी होने देंगे तो वह शत्रु की तरह हमें गर्त में ले जाएगा और अगर हम अच्छी बातों पर ध्यान देंगे तो मन हमें सफलता की ओर ले जाएगा.’ 

(3)

संभलकर चलो

सुकरात यूनान के एक बहुत बड़े दार्शनिक थे. एक बार वे किसी मार्ग से जा रहे थे. मार्ग में उन्हें एक शराबी मिला जो एथेंस का प्रसिद्ध शराबी था. वह नशे में धुत लड़खड़ा कर चल रहा था. सुकरात ने उससे कहा, ‘ संभलकर चलो, गड्डे में गिर जाओगे. शराबी ने जब यह सुना तो जवाब दिया, ‘ ओ महात्मा! मैं लड़खड़ाकर चलता भी हूँ तो क्या हुआ. गड्डे में गिर भी गया तो मेरा क्या बिगड़ेगा ? ज्यादा से ज्यादा कपड़े ख़राब हो जायेंगे, तो धो लूँगा. सारा शहर जानता है कि मैं शराबी हूँ. कुछ भी हो. क्या फर्क पड़ता है ? पर तुम एक महात्मा हो, तुम्हें संभलकर चलना चाहिए. अगर तुम लड़खड़ा गए तो ना इधर के रहोगे ना उधर के. इसलिए संभल कर चलो. इस तरह से शराबी ने एक बहुत बड़े रहस्य का उद्घाटन कर दिया. 


How are these stories related with Sukrat ( Socrates ) ?

Information About Christmas Festival in Hindi


Information About Merry Christmas Festival in Hindi Language, Essay on Christian Religion for Kids, Santa Claus, Christmas Tree, Jesus Christ Birth Day, Saint Nicholas, Interesting, Fun, Amazing, General Knowledge, Knowledgeable, Strange, Unknown Facts, Article, Paragraph, Write Up, Nibandh, Lekh, Speech, Anuched, Matter, क्रिसमिस त्योहार की जानकारी, ट्री, संत निकोलस, जीसस, हिंदी निबंध, लेख, रोचक तथ्य 

Interesting Information About Christmas Festival 
  • क्रिसमस का त्योहार प्रतिवर्ष 25 दिसम्बर को सारी दुनिया में मनाया जाता है. यह त्योहार ईसा मसीह के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है.
  • रोम के विशप पोप जूलियस प्रथम ने 350 ईस्वी में 25 दिसम्बर को जीसस क्राइस्ट का जन्मदिन मनाने के आधिकारिक दिवस की घोषणा की थी.
  • ईसाई पोराणिक कथा के अनुसार प्रभु ने ग्रैबियल नामक देवदूत मैरी नामक एक कुंवारी लड़की के पास भेजा. जिसने मैरी से कहा कि वह प्रभु के पुत्र जीसस को जन्म देगी जिसके राज्य की कोई सीमायें नहीं होंगी.
  • कैरोल गाने की शुरुआत जीसस के जन्म के साथ हुई. ऐसा माना जाता है कि यीशू का जन्म जैसे ही गौशाला में हुआ, स्वर्ग से दूत आये और उन्होंने यीशू के सम्मान में कैरोल गाना शुरू कर दिया.
  • एक कहानी के अनुसार जब यीशू पैदा हुए थे तब एक तारा टूटकर गिरा था. इसी के प्रतीक के रूप में क्रिसमस ट्री पर सबसे ऊपर गोल्डन स्टार सजाया जाता है.
  • क्रिसमस के दिन घंटियों का प्रयोग बुरी आत्माओं से बचने के लिए किया जाता है. यीशू के जन्म की ख़ुशी में भी परंपरागत रूप से घंटियों का उपयोग किया जाता है.
  • पुराने समय में संत निकोलस नामक एक संत थे जो गरीब बच्चों और नाविकों की मदद और रक्षा करते थे. सेंटा क्लॉज का नाम निकोलस के डच नाम सिंटर क्लास से आया है जिसे बाद में सेंटा क्लॉज कहा जाने लगा.
  • ऐसा माना जाता है कि पूरे वर्ष सेंटा क्लॉज बच्चों के लिए कुकीज, केक, बिस्किट, केंडी और खिलौने बनवाते हैं फिर 24 दिसम्बर की रात को इन सारे गिफ्ट्स को एक झोले में भरकर उड़ने वाले आठ रेनडियर ( रुडोल्फ, डेशर, डांसर, प्रेंसर, विक्सन, डेन्डर, ब्लिटजन, क्युपिड, और कोमेट ) वाले स्लेज पर बैठकर किसी बर्फीले स्थान से आते हैं और चिमनी की मदद से घरों में प्रवेश कर बच्चों के सिरहाने उपहार छोड़ जाते हैं.
  • क्रिसमिस ट्री को उपहारों से सजाने की प्रथा पादरियों ने शुरू की क्योंकि उनका मानना था कि वृक्ष हमें सारी अच्छी चीजें देते हैं.
  • 'जिंगल बेल्स' गाने को पहले 'वन हॉर्स ओपन स्लेज' नाम से जाना जाता था. यह धन्यवाद कहने के लिए लिखा गया था. 
  • 'जिंगल बेल्स' गीत अन्तरिक्ष से ब्रॉडकास्ट किया गया पहला गीत था.
  • नार्वे में 1947 में इंग्लैंड को द्वितीय विश्व युद्ध में उसकी सहायता करने के लिए धन्यवाद के रूप में क्रिसमस ट्री भिजवाया गया था.
  • ग्रीस में प्राचीन जूलियन कैलेंडर के अनुसार क्रिसमस 7 जनवरी अर्थात नव वर्ष के बाद मनाया जाता है. 
  • 1847 में लन्दन के मिठाई विक्रेता टॉम स्मिथ ने पहला क्रिसमस पटाखा तैयार किया था जो कि स्वीट रैपर की डिजाइन का था. 
  • रोम में बहुत पहले से ही क्रिसमस के दिन दरवाजे पर एवरग्रीन रीथ रिंग को टांगा जाता है. यह फूलों की माला जीत और उल्लास का प्रतीक मानी जाती थी.
Did you like these interesting information about christmas festival ?


Monday, March 3, 2014

Laghu Katha in Hindi


Laghu Katha in Hindi Language, Mother in Law, Daughter in Law, Saas Bahu, Poison, Modesty, Humility, Humbleness, Namrata, Vinay, Chhoti Kahani, Small Tale, Short Story, Stories, Tales, Kahaniyan, Kathayen, हिंदी लघु कथा, सास बहु की कहानी, नम्रता, विनय, विष 

(1)

विनम्रता 

कटोरी सदा घड़े के ऊपर रखी रहती है, लेकिन वह हमेशा खाली ही रहती है. अपनी रिक्तता पर दुखी होते हुए एक दिन कटोरी ने घड़े से कहा, ‘ आप अपने निकट आने वाले सभी को जल से भर देते हो पर मुझ पर कभी यह अनुग्रह नहीं करते. ऐसा क्यों ?’ 

घड़े ने कहा, ‘ दूसरे सभी विनम्रता झुकते हैं और मांगते हैं लेकिन तुम हमेशा अहंकार से मेरे सिर पर सवार रहती हो. तुम्हें देना भी चाहूँ तो कैसे दूँ ? विनम्रता के बिना कुछ भी तो नहीं मिलता.

Courtesy : स्वाध्याय सन्देश 

(2)

मन का विष 

बहुत समय पहले रंजना नाम की एक महिला श्यामनगर में रहती थी. उसके परिवार में तीन सदस्य थे - वह स्वयं, उसका पति और उसकी सास. रंजना की अपनी सास से बिल्कुल भी नहीं बनती थी. समय के साथ-साथ उनके सम्बन्ध सुधरने की बजाय बिगड़ते गए. एक दिन बात इतनी बिगड़ गयी कि रंजना घर छोड़ कर अपने पीहर चली गयी. 

वह अपनी सास से बदला लेना चाहती थी. इसी इरादे से वह एक वैद्य के पास गयी और बोली, ‘ वैद्य जी, मैं अपनी सास से बहुत परेशान हूँ. मैं जो भी कार्य करूँ उसमें कमी निकालना उनकी आदत बन चुकी है. आप किसी भी तरह मुझे उनसे छुटकारा दिलवा दीजिये.’

वैद्य ने कहा, ‘बेटी, मैं तुम्हारी सहायता करूँगा पर जैसा मैं कहूँ तुम्हें वैसा ही करना होगा, नहीं तो तुम किसी समस्या में फंस जाओगी.’ वैद्य ने उसे कुछ जड़ी-बूटियाँ दी और कहा, ‘ये जड़ी बूटियां धीमे विष का कार्य करती है. इससे व्यक्ति की छह-सात माह में मृत्यु हो जाती है. तुम हर रोज एक पकवान बनाकर उसमें इन्हें मिलाकर अपनी सास को खिला देना. लेकिन इस बीच तुम्हें अपनी सास के साथ अच्छा बर्ताव करना होगा और उनकी सेवा भी ताकि तुम पर उन्हें शक ना हो. नहीं तो तुम पकड़ी जाओगी. अब तुम ख़ुशी-ख़ुशी ससुराल जाओ.’

अगले दिन रंजना अपने ससुराल आ गयी. उसने अपना व्यवहार बिल्कुल बदल लिया. और जैसा वैद्य ने कहा वैसा ही करने लगी. उसे गुस्सा भी आता तो वैद्य की बात याद करके खुद पर नियंत्रण कर लेती. धीरे-धीरे घर का माहौल बदलने लगा. सास जो पहले बहु की बुराई करती फिरती थी अब उसकी तारीफ़ करते ना थकती. रंजना भी नाटक करते करते सच में बदल गयी थी. उसे अपनी सास अब अच्छी लगने लगी थी. छह महीने खत्म होने को थे और उसे अपनी सास की मृत्यु का भय सताने लगा. वह वैद्य जी के पास गयी और बोली, ‘मैं अपनी सास को मारना नहीं चाहती. वे मुझसे बहुत प्यार करती हैं. कृपया ऐसी दवा दे दीजिये जिससे उनपर विष का प्रभाव खत्म हो जाए.’

वैद्य ने कहा, ‘मैंने तुम्हें कोई विष नहीं दिया था. विष तो तुम्हारी सोच में था. सुनकर ख़ुशी हुई कि तुम्हारी सेवा और प्रेम से तुम्हारा मन पवित्र हो गया. अब तुम चिंता मत करो और अपने परिवार के साथ ख़ुशी-ख़ुशी रहो. रंजना ने राहत की सांस ली और ख़ुशी-ख़ुशी अपने घर चली गयी. 

ये लघु कथाएं ( laghu katha ) आपको कैसी लगी ?

Note : The above short stories are not my own creations. 

Sunday, March 2, 2014

Poem on Save Water


Save Water to Save Life

Water is the nature’s precious gift to mankind
It is the lifeblood of the planet
No one can live without water
So conserve water to help you and the environment. 

Water is the basis of life 
It relieves us from heat 
It quenches the thirst of every creature 
It makes us clear and neat.

Water is inevitable source of energy
It can recharge our weariness
It can revitalize our skin
It helps to absorb nutrients. 

It's the ornament of earth 
Becomes cloud and sends rain 
It gives pleasure in the form of waterfall 
Becomes river and flows again. 

It becomes pearl of oyster 
It is savior of all 
Gives greenery to trees 
and life to soil. 

Water is a mean of communication
It is used to carry our goods and trade
It is essential for the growth of forests
It is used in the manufacturing of many products. 

Water is a privilege, 
A lot of us taking it for granted
Desperately using of water is a bad sign 
It should be strictly avoided.

Drinking water is a rare commodity
It needs careful planning and management
As water is an integral part of our daily life 
On which we are heavily dependent.

Recognize the value of water 
Save it to save life 
Otherwise the day will come 
When no one will survive. 

Save water for the earth, family and community
Save water to fight against global warming situations
Save water for the social and economic development
Save water for the survival of our future generations.

By Monika Jain 'Panchi'

How is this poem on save water and water conservation ?