Saturday, May 31, 2014

Intezar Poem in Hindi


Intezar Poem in Hindi, Intezaar Kavita, Wait, Waiting in Love, Shayari, Poetry, Rhymes, Slogans, Lines, Sms, Messages, Proverbs, Words, Quotes, Thoughts, Sayings, इंतज़ार हिंदी कविता, प्रतीक्षा, शायरी

किसी के इंतजार में दो आँखें 

अँधेरे में वो दो आँखें 
कुछ हैरान, कुछ परेशान 
सहमी हुई और दबी हुई उसकी आवाज़
कुछ कहने को थी.

जैसे एक सदी बीत गयी हो और 
पलकों पर कोई सपना सजा रखा हो 
किसी के इंतजार में 
जिंदगी जैसे थम सी गयी हो. 

इन टूटे हुए शीशों के टुकड़ों ने 
ना जाने कितने राज़ दबा रखे हो 
होंठ है कि हँसना भूल चुके हो 
आंसू लगता है जैसे सूख चुके हो. 

पास ना होकर भी क्यों वो पास लगते हैं 
कानों में उनकी आवाज़ क्यों गूंजती है 
बीत गए वो दिन जब हम थे यहाँ 
अब तो बस ये जिंदगी वीरानी सी लगती है. 

थक गए यूँ चलते चलते 
भटक से गए अपनी मंजिलों से 
वो हवाएं भी अब रोती है 
जो कभी ख़ुशी-ख़ुशी गुनगुनाती हुई मिलती थी हमसे. 

राख हो गए सपने जो सजाये थे कभी 
दिल है कि अब भी अंधेरो में रोशनी ढूंढता है 
दबी हुई यादों में अब भी जिंदा हो तुम कहीं
धुल गए आंसूओ में सब रंग 
पर उमंगें है कि बुझती ही नहीं. 

ऐसा लगता है वो खफ़ा पहले से था 
दर्द सुनने से पहले उन्होंने अपने शिकवे सुना दिए 
खुशियाँ कभी हमारी किसी को रास ना आई 
ज़माने के सामने हम हँसे और घर आकर हम रो दिए.

हारकर भी उम्मीद अभी जिंदा है 
इसको जिद कहूँ या फिर नज़ाकत दिल की 
मालूम है जबकि वो मेरी तकदीर में नहीं 
फिर भी उनका इंतजार क्यों है.

शायद ऐसा पहले भी कहीं सुना हो 
एक टूटे दिल की कविता किसी ने लिखी हो 
पर दर्द सबका एक सा नहीं होता 
सब का प्यार सच्चा होता नहीं. 

माना कि आरज़ू मेरी दिल में रह गयी 
ज़िन्दगी तन्हा और वीरानी सी बन गयी 
बरसों से कोशिश में हैं कि उनको भूल जाएँ 
चलो इसी कोशिश में एक और रात कट गयी. 

By Chetan Dheer 

Thank you Mr. Chetan for sharing this touching poem on wait ( intezar) in love. 


Friday, May 30, 2014

Poem on Broken Relationship


Dry Rose

The rose kept in the pages of my diary 
has dried as our relationship 
But the fragrance coming from it is still alive
as the memories of our companionship.

How much I cried
So much I screamed 
With our separation 
I was never agreed.

I felt like my body was being ripped 
Emptiness you left behind is still unfilled
You took away my smile, laughter and happiness
When I lost you I lost myself. 

Little hopes I had inside you killed
You destroyed more than you helped to built 
You left me alone and scared in the rain
What I felt I can’t explain. 

Loneliness tortured me every moment
But gradually I tried to live 
I didn't forget anything 
But I tried my best to forgive.

Now no tears flow from my eyes 
Life doesn't stop in absence of your care 
I have paid a big amount for it 
The smile of my lips has lost forever.

Today when I saw that dried rose 
It reminded me of my broken dreams 
A tear came from my eyes 
That were waiting for years to stream.

By Monika Jain 'Panchi' 

When a relationship ends painfully it feels devastating. Breaking up can literally break your heart. The one who experiences this pain feel like his /her heart has been shattered into millions of pieces. It is most painful when you love someone who used to love you. You may feel like end of your world. 

How is this poem about a broken relationship ? Feel free to tell via comments. 

Saturday, May 24, 2014

Broken Heart Poem in Hindi


Broken Heart Poem in Hindi Language, Toota Dil Kavita, Dreams, Trust, Short Sad Poetry, Toote Khwab Shayari, Broken Hearted Rhymes, Touching Love Slogans, Break Up Lines, Sms, Messages, Words, Proverbs, Quotes, Thoughts, Sayings, टूटा दिल हिंदी कविता, टूटे ख़्वाब शायरी

डरती हूँ मैं 

इन आँखों में बसने लगी 
सपनों की दुनिया फिर एक बार
डरती हूँ कहीं फिर से ना टूट जायेंगे दिल के तार
टूटे सपनों का दर्द सह चुकी हूँ कई बार
अब ना समेट पाऊँगी दिल के टुकड़े हजार.

टूटा ख़्वाब मेरी आँखों में आंसू दे जाता है 
नया सपना डर-डर के इन पलकों में समाता है
नयी आशा आँखों में चमक दे जाती है 
कड़वी यादों में कहीं वो भी गुल जाती है
कड़वी यादें कुछ इस तरह याद आती है 
होठों की मुस्कान एक पल भी ना ठहर पाती है.

रोशनी से जब आँखों को भरती हूँ 
ढलती शाम का अँधेरा याद आता है
कैद कर ख्वाबों को आँखों में जब सोती हूँ
टूटा हुआ ख़्वाब और सवेरा याद आता है
जब साथ किसी अपने का कुछ पल पाती हूँ
तनहाई का घनघोर अँधेरा याद आता है.

देखती हैं आँखें एक खिलखिलाता चेहरा 
पलकों में समेट लेती हूँ एक मुस्कुराता चेहरा 
उठते हैं कदम चीर कर अँधेरा
नज़र आता है रोशनी से भरा सवेरा 
अगले ही पल आंधी की एक बयार आती है 
अश्क बहते हैं और आँखें सूनी रह जाती है. 

इन आँखों में बसने लगी 
सपनो की दुनिया फिर एक बार
डरती हूँ कहीं फिर से ना टूट जायेंगे दिल के तार. 

By Monika Jain 'पंछी'

Its not only the heart that breaks. Broken heart results in broken dreams, broken desires and broken hopes too. Broken hearts never fully mend. Fear always remains there. If once our trust is broken badly by someone then it damage the word trust itself for forever in the dictionary of our life. How is this hindi poem of a broken heart ? Feel free to tell via comments. 


Monday, May 19, 2014

Poem on Time in Hindi


Poem on Time in Hindi Language for Kids, Children, Samay Prabandhan par Kavita, Vakt, Importance of Time Management, Save Moment, Time is Precious, Clock, Slogans, Lines, Short Poetry, Rhyming Rhymes, Dohe, Kundli, Sms, Messages, Words, Proverbs, Quotes, Thoughts, Sayings, समय प्रबंधन पर कविता, हिंदी शायरी, वक्त की कीमत, कुंडलियाँ 

(1)

वक्त का धोखा 

सालों पहले 
अपने-अपने सपनों के साथ 
हमने कदम बढ़ाये थे
मिलते रहेंगे यूँ ही हमेशा 
ख़्वाब कुछ आँखों में बसाये थे.

तुम चले गए और 
वक्त मेरे पैरों में जंजीरे बांध 
बहुत आगे बढ़ गया.

मैं आज भी वहीँ खड़ी हूँ 
तुम्हारे इंतजार में 
कि शायद तुम एक दिन आओगे 
और मुझे वक्त की उन बेड़ियों से 
आज़ाद कराओगे.

पर मैं भूल गयी थी 
जो बढ़ गया है आगे 
वो कब लौट कर आया है 
जिसे वक्त ने ही बुरी तरह छला हो 
भला उसका साथ किसने निभाया है.

By Monika Jain ‘पंछी’ 

(2)

समय प्रबंधन 

समय की बर्बादी है जीवन का अपमान 
करेगा समय प्रबंधन तो रोशन होगा नाम 
रोशन होगा नाम समय ना कर तू जाया 
रोज सवेरे उठकर मैंने था समझाया 
कहती पंछी अब पछताने से क्या पायेगा 
निकल गया जो वक्त हाथ से अब ना आएगा. 

By Monika Jain ‘पंछी’ 

(3)

वक्त के साथ 

वक्त का पता नहीं चलता 
अपनों के साथ 
पर अपनों का पता चल जाता है 
वक्त के साथ.

पहले सिर्फ सुना था
अब महसूस भी किया है 
इस रंग बदलती दुनिया में
ना कोई अपना ना पराया है.

बदलते वक्त के साथ
कितना कुछ बदलता है 
कभी था जो अपना
देखो आज जहर उगलता है.

खुली रह जाती हैं आँखें
सिल जाते हैं होंठ 
जब दिल पर करता है
कोई अपना गहरी चोट.

ना पालो किसी से आशा
ना रखो कोई उम्मीद 
वरना ख़्वाब टूटेगा एक दिन 
और उड़ जायेगी नींद.

By Monika Jain ‘पंछी’ 

How are these hindi poems on time ? Feel free to tell via comments. 


Sunday, May 18, 2014

Poem about Books for Kids


(1)

It's a book no need to mention

Fellow of sorrow
Partner of happiness
Friend of joy
Companion of loneliness.

It becomes lamp
when there is darkness
Fills our future with
beauty and brightness.

It's a light
which shows the way
Ignorance and dullness
chasing away.

Increases our knowledge
and paves the way
Keeps our foolishness
far away.

Removes our worries
Removes our tension
Brings the answer of
all the questions.

Shows the truth
and finds the solution
It's a book
no need to mention.

By Monika Jain 'Panchi'

(2)

Books are Our Best Friends

Books are the gold mines of art, literature, science and information
They are the source of enlightenment and life blood of a nation.

Books never desert us, they are wonderful gift to mankind
They awaken our conscience and develop our mind. 

Books give us an insight into various aspect of life
Books are our best friends, philosophers and guides

Books sharpen our intellect and broaden our mind
They are treasure house open to us day and night.

They enrich our experience and widen our knowledge
They uplift our morals and fill us with courage. 

Books lift the poor out of poverty
Books uphold us at the time of adversity. 

Fair weather friends fall off when our time is bad
But books encourage us when we feel sad.

The friendship of good books is the medicine of life
While selecting the books we should be judicious and wise. 

By Monika Jain ‘Panchi’

Books are useful in many ways. They are indeed our best companions. How are these poems on books for kids ? Feel free to tell via comments. 

Saturday, May 17, 2014

Poem on Save Daughters in Hindi


Poem on Save Daughters in Hindi Language, Daughter, Unborn Baby, Betiyan, Beti Bachao, Girl Child, Women, Female Infanticide, Foeticide, Fetus Cry, Gender Selective Abortion, Kanya bhrun Hatya, Sex Discrimination, Kavita, Short Poetry, Shayari, Rhymes, Slogans, Lines, Messages, Sms, Words, Proverbs, Quotes, Thoughts, Sayings, बेटी बचाओ कविता, कन्या भ्रूण हत्या, शायरी, मुक्तक, नारे

मुझे धरा पर आने दो

सुनो करूण भरी मेरी एक मूक पुकार
माँ के गर्भ में हूँ मैं विवश लाचार
निर्बल, निरीह, निसहाय नन्हीं सी जान
हूँ पर परमपिता परमात्मा की सन्तान
मुझे भी पृथ्वी के हर दृश्य देखने दो
मुझको अब यह जीवन धारण करने दो
मुझे मत मारो मुझको धरा पर आने दो.

माता हौवा, बाबा आदम का विस्तार मैं
परनानी, परदादी का पुर्न:अवतार मैं
पिता तुम्हारे वंश बेल की कोपल मैं
माता तुम्हारी परछाईं की कोयल मैं
गुड्डे-गुड़ियों के संग मुझको खेलने दो
मुझको अब यह जीवन धारण करने दो
मुझे मत मारो मुझको धरा पर आने दो.

घर द्वार पर किलकारी मुझको भरने दो
आँगन की तुलसी बन मुझको महकने दो
गगन में उन्मुक्त होकर मुझको उड़ने दो
धरती पर कली बन मुझको खिलने दो
परियों की कहानियां मुझको सुनने दो
मुझको अब यह जीवन धारण करने दो
मुझे मत मारो मुझको धरा पर आने दो

पिताजी तुम्हारे वृद्ध हाथों की लाठी बनूगी
माँ जी तुम्हारी वृद्ध आँखों की रोशनी बंनूगी
घर गृहस्थी के कर्तव्यों का पालन करूंगी
बेटी-बहिन, पत्नी, माँ के फर्ज निभाउंगी
सुख-दुख, गर्मी-सर्दी में पलने बढ़ने दो
मुझको अब यह जीवन धारण करने दो
मुझे मत मारो, मुझको धरा पर आने दो

अश्विनी कुमार वर्मा 
मुख्य रसायनज्ञ , हजीरा संयंत्र

We are witnessing advancement in every field but biased behavior against the girl child is still prevailing in our country. It’s a very serious issue to think about. 

Thank you Mr. Ashwani Kumar Verma for sharing this poem on a very crucial social issue of save daughters. Hope it will have an effect on some people to change their mind set. 

Thursday, May 15, 2014

Spinach Health Benefits in Hindi


Spinach Health Benefits in Hindi Language, Palak Juice ke Fayde, Green Leafy Vegetables, Leaves, Nutritional Facts, Uses, Gun, Labh, Home Remedies, Herbal, Natural Treatment, Cure, Gharelu Upchar, Ilaj, Tips, Food Data, Value, Information, Article, पालक के स्वास्थ्य लाभ, फायदे, गुण 

Spinach Health Benefits / पालक के फायदे 
  • पालक स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी सब्जी है.
  • पालक में पाए जाने वाले मुख्य तत्व कैल्शियम, सोडियम, क्लोरीन, फॉस्फोरस, आयरन, खनिज लवण, प्रोटीन, श्वेतसार, विटामिन ए एवं विटामिन सी आदि हैं.
  • पालक में मौजूद अजैविक नाइट्रेट के कारण मांसपेशियां मजबूत बनती है. यह बाहों को गठीला और मजबूत बनाता है.
  • पालक एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है. पालक डार्क सर्कल्स को कम करता है और झुर्रियों से भी बचाता है. 
  • पालक में आयरन, फॉलेट, फाइटोकेमिकल्स, विटामिन्स आदि होते हैं. यह ह्रदय रोग से सुरक्षा देने के अलावा भी कई रोगों से लड़ने की क्षमता रखता है. 
  • पालक ह्रदय रोग से सुरक्षा देने के अलावा भी कई लोगों से लड़ने की क्षमता रखता है. यह ऊर्जा का अच्छा स्त्रोत है.
  • पालक की सब्जी रुचिकर और शीघ्र पचने वाली होती है. पालक के बीज मृदु, विरेचक एवं शीतल होते हैं. कठिनाई से आने वाली श्वास, यकृत की सूजन और पांडू रोग में फायदेमंद होते हैं. 
  • पालक का पेस्ट अगर चेहरे पर लगाया जाए तो यह झुर्रियों को खत्म करता है 
  • पालक का सेवन पाचन तंत्र के लिए भी लाभकारी है. 
  • खांसी और फेफड़ों में सूजन आने पर पालक के रस के सेवन से लाभ पहुंचता है. 
  • पालक के रस के नियमित सेवन से याद्दाश्त बढ़ती है और आँखों की रोशनी में भी इजाफ़ा होता है.
  • पालक में पाया जाने वाला आयोडीन मानसिक थकावट को दूर करता है. 
  • पालक के आयरन का उपयोग करने के लिए इसका सेवन विटामिन सी के साथ किया जाना चाहिए. 
Note : किसी भी तरह का उपचार / उपाय अपनाने से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें. बिना चिकित्सीय सलाह के किसी भी औषधि का सेवन ना करें. 

If you are also aware about some other health benefits of spinach then feel free to submit here. 

Monday, May 12, 2014

Poem on Blood Donation


(1)

Make few more blood relations

To do a good deed 
For someone who is in need 
Donate your blood
It’s a great work indeed. 

It’s priceless
It’s painless
Providing blood to a bloodless
is sign of kindness.

Donating blood is a gift from us
in the name of humanity
Blood donation is a noble act 
It’s also a one way of 
losing unwanted weight.

Donating blood is a satisfying feat
Our few pints of blood 
can save some few lives
and our little time can give a person
second chance to survive. 

Blood donation is not hazardous
It proves to be a healthy habit 
It reduces the risk of heart diseases
By donating blood regularly 
One can remain fit. 

It transcend you above all barriers of 
caste, creed and religion
It gives your life a true meaning 
and It makes few more blood relations. 

By Monika Jain ‘Panchi’

(2)

Donate Blood to Feel Good 

Mom!
Don't be angry 
It's something to feel proud 
Your son doesn't give blood 
In fact he takes blessings of many mothers around.

Mom!
There is nothing to worry about 
Please try to realize 
There is no weakness because of blood donation 
In fact it saves someone's life.

Mom!
Our body is able to generate
the amount of donated blood 
just within the next 24 hours
and This new blood spread 
new energy and new power.

In every three months 
We can donate blood 
You can also try mom
It will really make you feel good. 

By Monika Jain 'Panchi' 

How are these poems on blood donation ? Feel free to tell via comments. 


Sunday, May 11, 2014

Giloy Health Benefits in Hindi


Giloy Health Benefits in Hindi Language, Guduchi Uses, Gun, Fayde, Labh, How to Use Tinospora Cordifolia, Nutritional Facts, Value, Information, Ayurvedic Medicine Remedy, Herbal Home Remedies, Natural Herb Treatment, Cure, Gharelu Upchar, Ilaj, Tips, Article, गिलोय के फायदे, स्वास्थ्य लाभ, गुण, उपचार

Giloy Health Benefits / गिलोय के फायदे 
  • गिलोय को कई नामों से जाना जाता है जैसे : गलो, अमृता, टिनोस्पोरा कार्डिफोलिया, गुडूची आदि. 
  • यह बहुवर्षायु, बहुत फैलने वाली, सदाहरी, नीम के पेड़ पर चढ़ने वाली, बहुत कड़वे स्वाद वाली आयुर्वेद की महत्वपूर्ण औषधि है. 
  • इसके पत्ते नागरबेल के पान और मनीप्लांट के पत्तों जैसे होते हैं. 
  • इसे चूर्ण के रूप में, काढ़े में एक अंश या सत्व के रूप में या ताजा निकाले रस के रूप में प्रयोग किया जाता है. यह बहुत गुणकारी औषधि है. 
  • गिलोय के रस को उबालकर, गाढ़ा होने पर बनायीं गयी गोलियां हमेशा बने रहने वाले धीमे बुखार में लाभदायक है. 
  • गिलोय चूर्ण के रस या रात को भिगोकर सुबह निचोड़ कर बनाये गए पानी को पीने से शरीर, हाथ पैरों और आँखों की जलन मिटती है. गर्मी से होने वाले अन्य विकार भी दूर होते हैं.
  • गिलोय, नीम, अनंत मूल और खैर का काढ़ा बनाकर पीने से पुराने चर्म रोग, रक्त विकार, खुजली, शरीर की जलन आदि मिट जाती हैं. 
  • गिलोय के ताजा रस का नियमित रूप से सेवन करने से यूरिन ब्लेडर की सूजन, दर्द, जलन आदि में कमी आती है. ख़ून में क्रिएटिनीन, यूरिक एसिड, यूरिया, मूत्र में रक्त का आना, रक्त विषमता और नेक्राइटिस आदि में भी लाभ पहुंचता है. 
  • गिलोय, आवंला और हल्दी का समान मात्रा में ताजा रस, चूर्ण और काढ़ा लेने से सभी तरह के बहुमूत्र रोग मिटते हैं. मधुमेह में भी लाभ पहुंचता है. 
  • हर तरह के विषम ज्वर जैसे मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और पित्त के बुखारों में आदि में भी गिलोय का रस, काढ़ा या सत्व लाभ पहुंचाता है. 
  • एसिडिटी और पेप्टिक अल्सर में गिलोय का रस और सत्व दोनों ही राहत देते हैं. इसके कड़वेपन को कम करने के लिए इसमें शहद मिलाया जा सकता है. 
  • गिलोय का सेवन बढ़ी हुई तिल्ली व यकृत, अम्लपित्त, जीर्ण ज्वर, गठिया आदि में लाभदायक है. यह ओजवर्द्धक और दीर्घायु प्रदान करने वाली औषधि है. 
Note : किसी भी तरह का उपचार / उपाय अपनाने से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें. बिना चिकित्सीय सलाह के किसी भी औषधि का सेवन ना करें. 

If you are also aware about some other health benefits of giloy then feel free to submit here.


Thursday, May 8, 2014

Poem on Birds in English


(1)

I don't need next life on earth

My day begins in sorrow
And day ends in tears.

Sitting alone on a lonely tree
My little house on the top branch
Sometimes, I cry.

When I see
My childs are dying
But there's no one who would help.

Humans are not less than animals
Now I'm enough tired to walk
My wing is broken in half.

And now I see
Where I'm heading
And I'll ask this question to my Lord.

Why you created
This monster on earth
Their edacity is out of control.

See, a human hit me with a gun
I didn't hurt him
But he hurted me just for a fun.

I don't need next life on earth
If there is a human
He would not hesitate to kill me twice.

By Chetan Dheer 

Thank You Mr. Chetan Dheer for sharing such a heart touching poem about the cruelty of humans on innocent birds and animals just for their fun and entertainment. 


(2)

I am a Bird 

I am a bird 
I can touch the sky 
I am free so 
I can fly very high.

Sky is my kingdom
Earth is my bed
Spreading my wings
I am feeling great. 

I don't have to face 
walls of religion and race
No border limits 
can affect my pace.

Mosque, temple and church 
Every wall is my residence 
By becoming Hindu, Muslim or Christian
I don't lose my significance. 

There are no rich 
There are no poor 
In my world 
All are similar.

By Monika Jain 'Panchi' 

How are these poems about birds ? Feel free to tell via comments.



Wednesday, May 7, 2014

Poem on Silence in Hindi


Poem on Silence in Hindi Language, Khamoshi Kavita, Silent, Mann, Man ka Tufaan, Mood, Mind Storm, Heart, Poetry, Shayari, Slogans, Lines, Sms, Messages, Words, Quotes, Thoughts, Sayings, Proverbs, हिंदी कविता, ख़ामोशी शायरी, मन, मौन 

ख़ामोशी क्यों कभी ख़ामोश नहीं रहती ?

ख़ामोशी क्यों कभी ख़ामोश नहीं रहती ?
मन के समंदर में
उठते हैं तूफ़ान
और उमड़ती है अनगिनत लहरें 
किनारों की तलाश में
पर हर लहर को किनारों का
सहारा नहीं मिलता.

खयालों के गणित में
उठते हैं अनगिनत सवाल
अबूझे और असुलझे
जवाबों की तलाश में
पर हर सवाल के नसीब में
सुलझा कोई ज़वाब नहीं होता.

क्यों उलझनों में उलझा मन
सुलझने की चाह में
और उलझ जाता है
क्यों मन की लहरों का तूफ़ान
थमने की बजाय
और उबल जाता है.

खुद जवाब ही कभी कभी
समय के झंझावातों में उलझ
सवाल बन जाते हैं 
लहरों से टकराते-टकराते
सागर के किनारें भी
एक दिन बदल जाते हैं.

इस ख़ामोशी में छिपे हैं 
सेकड़ों अहसास
चाहते हैं बोलना बेहिसाब 
सुबकते हैं, चिल्लाते हैं 
शोर मचाते हैं 
कुछ ना कहकर भी 
कितना कुछ बोल जाते हैं.

दर्द भी है, तकरार भी है 
इस ख़ामोशी में कई चुप्पे 
इकरार भी हैं 
ना जाने कितने महरूम ख़्वाबों की 
ये सख्त पहरेदार भी है. 

कभी छलकती है आँखों से 
कभी होठों पे दम तोड़ जाती है 
कभी तड़पती है बातों में 
कभी कलम से कागज़ पर उतर आती है 
कितना कुछ कहती है ये ख़ामोशी 
फिर भी सदा खुद को बेचैन पाती है. 

तूफ़ान के आने से पहले और 
तूफ़ान के जाने के बाद भी 
अश्कों के बहने के साथ और 
आँखें सूख जाने के बाद भी 
शोर भरे दिन में 
और सन्नाटे की रात में भी 
ना जाने कितना दर्द ख़ामोशी है सहती 
ख़ामोशी क्यों कभी ख़ामोश नहीं रहती ? 

By Monika Jain 'पंछी'

How is this poem on silence (Khamoshi) ? Feel free to tell via comments. 


Tuesday, May 6, 2014

Poem about Society Today


I can't say I was a good soul

After two and a half hour
Still on the chair
But didn't write anything, yet
And I call myself a writer.

Even I have learned to walk
Now I know what is good and bad
But I didn't take steps against bad, yet
And I call myself a human.

Yeah, I go to temples
I beg for mercy, I ask for happiness
I pray for myself not for you or anyone
And I call myself a true devotee.

I can see there is a thief 
I know what is he gonna do
But I turn my face on other side
And I call myself a good civilian.

I know the meaning of appetite
Eating fast food cause I bought it
But I ignore a beggar who may hungry from two days
And I call myself a rich man.

I know when I'm in pain
I come to you and share my feelings
But I don't ask how are you
And I call myself a true friend.

I know one day I'll go back into dirt
There will be my deeds with myself
And when God will ask what was I
I know I can't say I was a good soul.

By Chetan Dheer 

This dual character can be seen everywhere today. Society is changing rapidly and we humans are becoming more and more self centred with the passes of time. 

Thank you Mr. Chetan Dheer for sharing such a thought provoking poem about the society today. How is this poem on double character of today’s world ? Feel free to tell via comments.

Monday, May 5, 2014

Poem on Indian Village in Hindi


Poem on Indian Village in Hindi Language, Bharat ke Gaon par Kavita, Culture of India, Villages Life, Mera Gram, Poetry, Shayari, Slogans, Lines, Messages, Sms, Proverbs, Quotes, Thoughts, Sayings, हिंदी कविता, मेरा गाँव, भारत के गाँव, शायरी

खुशनुमा ज़िन्दगी के अहसास हैं गाँव

गाँव का वो खुशनुमा वातावरण 
तपती दुपहरी में घने वृक्षों की शरण. 

वो पेड़ों के झुरमुट और वो बाग़ बगीचे
जो किसान ने अपने खून पसीने से सींचे.

वो सुन्दर सा मिट्टी का कच्चा घर 
मनभावन मांडने सजते जहाँ आँगन पर.

सृष्टि का अद्भुत नेसर्गिक सौन्दर्य 
जामुन, अमरुद, आम-मंजरी का माधुर्य. 

बसंत में सरसों के फूलों की महक 
कोयल की कूंक और चिड़ियों की चहक.

पनघट पे जाती पनिहारियों की बोली 
तालाब में नहाते बच्चों की टोली.

वो बरगद के नीचे बड़ा सा चबूतरा 
हंसी के ठहाके और मनोरंजन जहाँ बिखरा.

खेतों में गेहूं की बालियाँ लहराती 
बागों के झूलों में कोई गोरी इठलाती. 

गोधूली में घर आते पशुओं के बजते घुंघरू 
मिट्टी के चूल्हे पर सिकती रोटी की मीठी खुश्बूँ.

मक्खन से भरे बर्तन से उठती सुगंध 
वो भूनी हुई मूंगफली की सौंधी सी गंध. 

ढलता सूरज और नीड़ को लौटते पंछी 
कहीं दूर बजाता कोई ग्वाला बंसी. 

मंद-मंद बहती शीतल बयार
हर तरफ बिखरा बस प्यार ही प्यार.

छल रहित, साफ़-सुथरे, भोलेपन के भाव 
खुशनुमा ज़िन्दगी के अहसास हैं गाँव. 

By Monika Jain ‘पंछी’

India is the land of villages. Despite of some drawbacks village life is the most natural life. We can’t find the touch of a village and it’s simplicity anywhere in the world. Villages are full of affection, love, peace and happiness. The sweet songs of birds, the whistle of squirrels, beauty of rising sun, gentle breeze, blooming flowers and shed of banyan trees all add divine beauty to the villages. How is this poem about Indian Villages ? Feel free to tell via comments. Thanks 

Poem about Mom



A Tribute to Mom 

Mom,
May be sometimes I embarrassed you
Probably, I didn't listen when you say something
But still you say you proud on me
Even though I made you angry.

Mom,
Now I realize and I'm sorry
If I ever hurted you or said anything stupid
And I'm way too old to cry.

Foster care, you did your best to raise your sons
Our every little wish you tried to fulfill
Been a Santa on all christmas's
But you never let us see what you are hiding.

So many stresses and pain behind your smile
Thank you for being my mom and dad
Mom, please accept this as a tribute
My life is always owe to you
But I know I can't repay you.

Now it's my responsibility to treat you as a God
Give you every little thing
So just put finger on any spot
Even I would sell myself... No matter what the cost.

Now if I get a new life
One without any cause
I'd spend it to fulfil your hopes.

Though, if it's my last ride
I am not afraid to die
Remember Mama,
you made me strong
And if you get this message
After I gone
Just know, I proudly say
I am your son.

And I'll introduce myself to God
I'm Chetan Dheer and son of Suman
And pointing at you from there
There she is my Mom. 

By Chetan Dheer 

Mother is the most important person in our life. Moms are strong, loving, caring, kind, our best friend, teacher and like god for us. They are uncomparable. Thank you Mr. Chetan Dheer for sharing such a lovely and heart touching poem about Mom. 

Saturday, May 3, 2014

Poem about Animals



Animals vs Humans 

Animals are better than we humans
They don't hunt creatures of their own race
Behind attack on other species 
Their motive is only hunger and self defense.

But we humans are filled with 
Envy, greed, hatred and selfishness
We are jealous with 
Our brothers development and success.

Animals have no caste, religion and creed 
In their world there is no discrimination of poor and rich
But on many issues we humans are divided
Despite of a sharp mind we are very narrow minded.

Animals live a regular life 
They don't eat more than their appetite 
But we humans starved of money 
We kill our brothers like enemy.

Our blood and sweat is full of poison 
Our senses are dead and frozen 
By saying ourselves animals 
We are insulting those innocent creatures. 

By Monika Jain 'Panchi'

Animals love is untainted and unconditional. We can learn many valuable lesson about forgiveness, generosity, dignity, peace, trust and love from animals. Our pets accept us whole. They are cool with however we look and feel. They make us feel important. They respond better to our care, love and friendship. They are honest, helpful and faithful. 

Animals, birds and other creatures are never ungrateful. Even in time of danger and tragedy they save our lives. When they love someone it’s clear. When they don’t it's also clear. They don’t play with feelings and emotions of anyone. They don’t know betrayal, deceit and foul play. They are better than we humans on many grounds. I love animals and birds. 

How is this poem on animals vs humans ? Feel free to tell via comments.