Friday, April 10, 2015

Badal Poem in Hindi

बादलों पर कविता, बरसते काले बादल गीत, मेघ आये शायरी, बारिश, प्रेम, बिजली. Badal Rag Poem in Hindi. Clouds Love Poetry, Romantic Rhymes, Rain Thunder Lines.

बादलों की सेर करने का मन कभी-कभी हम सब का करता है। जब हमारा कोई प्रिय हमसे दूर होता है और उसकी याद सताती है तो मन करता है बादलों पर सवार होकर बस उस तक पहुँच जाएँ। सपनें, प्यार, और कल्पनाओं से सजी एक ऐसी ही कविता :

बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास

बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास
फिर हम तुम सवार हो चलेंगे उसके पास
नीदों में उसे जी भर के देखेंगे
सपनों में छोड़ आयेंगे मुस्कुराहटों की उजास
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास।

सपनों में होगी एक बादलों की दुनिया
बादल ही नाव और बादल ही नदियाँ
बादलों की ओट में उसकी-मेरी लुकाछिपी
पल-पल बढ़ाएगी मिलने की प्यास
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास।

छिपते-छिपाते जब होंगे हम सामने
चमका के बिजली तुम यूँ गरजना
सहम के उसके सीने से लग जाऊँ
बनकर यूँ पानी फिर तुम बरसना
हर बूँद के साथ लाना भरोसे का अहसास
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास।

बारिश में नाचेंगे बन के मयूर
बूंदों से छलकेगा प्यार का नूर
नूर में होंगे विश्वास के मोती
प्रेममयी दुनिया की आस के मोती
इन मोतियों को लुटाना है जब तक है सांस
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास।

बादल के पंखों से भरके उड़ान
उस संग मैं गाऊँगी प्रेम का गान
नफरत की मिट्टी को बूंदों से धोकर
ईर्ष्या और घृणा को हर दिल से खोकर
हर फिर जगायेंगे प्रेम की आस
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास।

हर दिन यूँ उसके सपनों में जाकर
जगाना है मुझको उसमें भी प्रेम
प्रेम में कितनी होती है शक्ति
इसका उसे दिलाना है विश्वास
बादल तुम रात छुपके से आना मेरे पास
फिर हम तुम सवार हो चलेंगे उसके पास।

Monika Jain ‘पंछी’
(10/04/2015)

The immense power of love can solve all the problems of this world. We just need to generate everyone’s faith in love. Feel free to add your views about this poem on clouds and love.