Wednesday, December 28, 2016

Essay on Violence against Women in Hindi

महिला घरेलु हिंसा पर निबंध, लेख. Essay on Violence against Women in Hindi. Status, Condition of Female in India Article, Domestic Abuse Speech, Paragraph.
Essay on Violence against Women in Hindi

नारी कैसे बच पाएगी?

(1)

आज मैं खुश नहीं हूँ। वह औरत जो भयंकर सर्दी में भी अपनी दो-तीन साल की बेटी को साथ में लेकर घर-घर काम करती है; जिसके चेहरे पर मैंने कभी शिकन या थकावट नहीं देखी; हमेशा हँसता मुस्कुराता चेहरा...आज सुबह अचानक आई और बोली मैं गाँव जा रही हूँ, मम्मी से कहो जितने दिन के भी पैसे बने हैं वे दे दें।

मैंने पूछा वापस कब आओगे? अपनी भीगी हुई आँखों को चुराती हुई बोली - एक-दो महीने बाद। मैं समझ गयी कुछ गलत हुआ है। पति ने शाम को उसे और उसकी बच्ची को बहुत पीटा था, इसलिए वह पीहर जा रही थी कभी वापस न आने की सोचकर।

पति ठीक-ठाक कमा लेता है पर एक अँधेरी कोठरी किराये पर ले रखी है जिसमें वह खाने-पीने के जरुरी सामान के अलावा और कुछ नहीं लाता। बेटी जिसे देखते ही किसी का भी प्यार उमड़ आये उसके लिए भी कुछ नहीं। शायद बाहरी औरतों से सम्बन्ध हैं उसके और आये दिन बेटी को भी पीटता रहता है।

अपने थोड़े से पैसों की कमाई से कुछ दिन पहले ही वह अपनी उस छोटी सी कोठरी को सजाने के लिए स्टील के बर्तन खरीद कर लायी थी। कितनी खुश थी उस दिन! लेकिन आज पहली बार उसकी भीगी हुई आँखें देखी। उसके चेहरे की चमक आज नदारद थी, जिसकी जगह मानों सालों की थकावट ने ले ली हो। उस स्वाभिमानी औरत के फैसले का सम्मान करती हूँ, पर कबसे उसकी वो भीगी हुई आँखें मेरे दिल और दिमाग में छाई हुई है। मन बहुत बेचैन है। (26/12/2013)

(2)

उस देश में नारी कैसे बच पाएगी जहाँ जन्म लेने से पहले ही उसे कोख में इसलिए मार दिया जाता है क्योंकि वह एक लड़की है और ये न हो पाया तो उसे कचरे के ढेर में फेंक दिया जाता है। जहाँ विवाह के बाद भी उसे इसलिए जला दिया जाता है क्योंकि वह दहेज लोभियों की भूख शांत नहीं कर पाती।

उस देश में नारी स्वतंत्रता की बातें बेमानी है जहाँ सड़क पर कई गिद्ध उस पर दृष्टि जमाए हुए हैं और मौका मिलते ही उसे नोच खाते हैं। जहाँ राजनेता कहते हैं कि जब मर्यादा का उल्लंघन होता है तो सीता हरण होता है। कोई मुझे ये बताए कि सीता जी ने अपने जीवन में कौनसी मर्यादा का उल्लंघन किया? बल्कि उन्होने तो आजीवन अपने धर्म की अनुपालना की।

उस देश में न्याय की आशा करना बेकार है जहाँ की पुलिस न्याय की गुहार लगाने वाले पीड़ित को इतनी मानसिक प्रताड़ना देती है कि वह अपने साथ हुए अन्याय को नियति मानकर चुपचाप स्वीकार कर लेता है। जहाँ साधु बने बहरूपिये दोषियों को माफ़ करने और पीड़िता को दोषी कहने का साहस रखते हैं। ताली एक हाथ से नहीं बजती ये कहने वाले आसाराम जी के कहने का तो यही तात्पर्य है कि लड़की खुद जाती है बलात्कारियों के पास और कहती है, 'मेरा बलात्कार करो'!

जिस देश में शीर्ष पर बैठे लोग इतने संवेदना शून्य हो और उनकी मानसिकता इतनी संकीर्ण और कलुषित हो चुकी हो कि वे अपराध का ख़ात्मा कैसे हो ये सोचने की बजाय मुद्दे को लड़की के कपड़ों की साइज़ में उलझा देते हो या क्षेत्रवाद की राजनीति चमकाने लगते हो ऐसे देश में नारी नहीं बच सकती...बिल्कुल भी नहीं। (08/01/2013)

By Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views about this essay on violence against women in our society.

Friday, December 23, 2016

Pyar par Kavita in Hindi

प्यार पर कविता, शायरी. Changed Feelings in a Relationship Poem. Broken Promise Hindi Poetry, Be Practical Lines, Love is not a Joke or Game to Play with Emotions.
Pyar par Kavita in Hindi

प्यार मेरे लिए बस प्यार ही है।

मैंने कहा था न! -
न करना ऐसे वादें
जो निभा न सको
न कहना ऐसी बातें
जो सिर्फ बाते बनकर रह जाये
न करना ऐसा प्यार
जो स्थायी न रह सके।

हर रोज तो कहती थी तुम्हें,
क्योंकि डरती हूँ मैं खुद से।
नहीं समझा पाती खुद को
जब मेरा भरोसा टूटता है
नहीं बहला पाती खुद को
जब कुछ अपना छूटता है।

मेरे इनकार को बदल ही दिया
तुमने इकरार में
और अपनी प्यार भरी बातों से
कैद कर लिया मुझे अपने प्यार में।

पर अब तुम्हारी बदलती फीलिंग्स
कैसे मैं भी अपना लूँ?
नहीं तुम्हे अब प्यार
ये कैसे खुद को समझा लूँ?

तुम कहते हो - प्रैक्टिकल बनो!
पर तुम्हारे हाथों की मैं कोई गुड़िया तो नहीं?
जब चाहो बदल जाऊं वो जादू की पुड़िया तो नहीं?

मेरी आज़ाद सोच से प्यार था न तुम्हे?
अब तुम्हारी सोच में कैद हो जाऊं
मैं वो चिड़िया तो नहीं?

मैंने कहा था न कई बार
प्यार मेरे लिए कोई मजाक नहीं है
प्यार मेरे लिए बस प्यार ही है।

By Monika Jain ‘पंछी’

Wednesday, December 21, 2016

Christmas Story in Hindi for Kids

क्रिसमस की कहानी, सांता क्लॉज़. Merry Christmas Story in Hindi for Kids. Santa Claus Tales, Jesus Christ Birthday, Xmas Festival, Saint Nicholas Day. 
Christmas Story in Hindi for Kids
खुद बनो सेंटा क्लॉज़

हर वर्ष की तरह जिम्मी और जॉनी दिसम्बर के आते ही बहुत उत्साहित थे। क्रिसमस का त्यौहार जो आने वाला था। पर क्रिसमस का उनका सारा उत्साह उनके मामा जॉन से जुड़ा था जो हर साल क्रिसमस पर सेंटा बनकर उनके घर आते और बच्चों के लिए ढेर सारे उपहार लाते। उसके बाद सब मिलकर खूब धूम और मस्ती से क्रिसमस मनाते।

लेकिन आज ही शाम को डिनर के समय मम्मी ने बताया कि इस बार मामा को बहुत जरुरी काम है इसलिए वे नहीं आ पायेंगे। यह सुनते ही जिम्मी और जॉनी का चेहरा उतर गया।

‘मामा के बिना तो बिल्कुल भी मजा नहीं आएगा।’ जिम्मी बोली।

‘हाँ, और मामा ही तो सेंटा बनते है, गिफ्ट्स लाते हैं और गेम्स खिलाते हैं। बिना सेंटा के कैसा क्रिसमस?’ जॉनी रूहासा हो गया।

‘कोई बात नहीं बेटा, पापा तो गिफ्ट्स लायेंगे ही न?’ मम्मी बोली।

‘नहीं मम्मा, पापा तो हमेशा ही लाते हैं लेकिन क्रिसमस पर तो हमें हमारे सेंटा मामा से ही गिफ्ट लेना है।’ यह कहकर जिम्मी और जॉनी रूहासे से अपने कमरे में चले गए।

घर में क्रिसमस ट्री लाया जा चुका था, पर उसे सजाने में जिम्मी और जॉनी को कोई दिलचस्पी ही नही थी।

क्रिसमस से दो दिन पहले मामा का फिर फोन आया बच्चों का हालचाल और तैयारी के बारे में पूछने के लिए। जिम्मी और जॉनी की मम्मी ने उन्हें बताया कि दोनों बच्चे इस बार कोई तैयारी नहीं कर रहे। कह रहे हैं मामा के बिना नहीं मनाएंगे क्रिसमस। जॉन ने बच्चों को फोन देने को कहा। जिम्मी ने मामा से कहा, ‘मामा, आप ही तो सेंटा क्लॉज़ बनते हो। हम लोगों को इतना हंसाते हो। इतने गेम्स खिलवाते हो। हर बार नए-नए गिफ्ट्स लाते हो। अब आपके बिना हम क्या करेंगे?’

मामा ने कहा, ‘कुछ नहीं! इस बार तुम सेंटा बन जाना।’

जॉनी चौंका। ‘हम सेंटा?’

‘हाँ, क्यों नहीं? बच्चों, गिफ्ट्स लेने में जितना मजा आता है उससे कई अधिक मजा आता है गिफ्ट्स देने में। तुम बनकर तो देखो एक बार?’ मामा बोले।

फिर बच्चे मामा से बात कर अपने सोने के कमरे में चले गए। सोते-सोते एक दूसरे से बातें करने लगे।

जॉनी बोला, ‘जिम्मी दीदी, सेंटा तो हम बन जायेंगे लेकिन हम गिफ्ट्स क्या लायेंगे और किसे देंगे?’

जिम्मी ने कहा, ‘जॉनी, गिफ्ट्स तो हम बोलेंगे तो पापा दिला देंगे। लेकिन मैंने सोचा है कि हम इस बात को सरप्राइज रखते हैं। हमारे घर जो रोली आंटी आती है न काम करने के लिए, उनके मोहल्ले में बहुत बच्चे हैं। उनके वहां कोई सेंटा भी नहीं जाता और वो हमारी तरह कोई फेस्टिवल बहुत अच्छे से मना भी नहीं पाते। हम उनके मोहल्ले में चलेंगे। हम मम्मा और पापा के लिए भी गिफ्ट्स लायेंगे और मामा भी कुछ दिन बाद आयेंगे तो उनके लिए भी।’

‘लेकिन पैसे? वो कहाँ से आयेंगे?’ जॉनी ने कहा।

‘अरे! हमारे पिग्गी बैंक कब काम आयेंगे? अब तक तो उनमें खूब पैसे जमा हो गए होंगे। मैंने सोचा है उन सब बच्चों के लिए हम रंग-बिरंगी पेंसिल्स, रबर और शार्पनर लायेंगे।’ जिम्मी बोली।

‘अरे वाह दीदी! यह तो बहुत अच्छा आइडिया है। मैंने सोचा है - मम्मा, पापा और मामा के लिए हम न्यू ईयर की डायरी और पेन लायेंगे। मम्मी और मामा को तो लिखने का भी शौक है और पापा को सब हिसाब-किताब के लिए डायरी की जरुरत होती ही है।’ जॉनी ने कहा।

‘हाँ जॉनी। यह तुमने बहुत अच्छा सोचा। चलो अब हम सो जाते हैं। कल हमें बहुत सारी तैयारियाँ करनी है।’ यह कहकर जिम्मी ने लाइट बंद कर दी।

अगले दिन दोनों से सबसे पहले अपने-अपने पिग्गी बैंक तोड़ दिए। कुल 500 रुपये उसमें जमा थे। अपने दोस्त से मिलने जाने की कहकर वे सुबह ही घर से निकल गए। फिर उन्होंने एक स्टेशनरी की शॉप पर जाकर सारा सामान खरीदा और कुछ देर बाद घर लौट आये। आते ही दौड़कर सामान को छिपाकर रख दिया। बाकी सारा दिन अगले दिन की तैयारियों में गुजरा।

जिम्मी और जॉनी को अचानक इस तरह से उत्साहित और ख़ुश देखकर मम्मी ने राहत की सांस ली और वह भी दिल से मिठाई आदि तैयार करने में जुट गयी।

अगले दिन सुबह जिम्मी और जॉनी ने उठते ही पापा और मम्मी को विश किया और उन्हें गिफ्ट दिया। पापा-मम्मी की ख़ुशी का ठिकाना न रहा। पापा-मम्मी ने भी जिम्मी और जॉनी को गिफ्ट्स दिए। उन्होंने खोलकर देखा तो उसमें से दोनों के लिए सेंटा क्लॉज़ की ड्रेस थी। सेंटा क्लॉज़ की ड्रेस देखते ही जिम्मी और जॉनी दोनों हैरान रह गए। उन्होंने मम्मी-पापा को अचरच भरी निगाहों से देखा तो मम्मी ने बताया कि मामा ने ही उन्हें यह आईडिया दिया था कि इस बार बच्चों के लिए सेंटा की ड्रेस ले आये।

‘भैया, हम तो सेंटा की ड्रेस के बारे में भूल ही गए थे। मामा कितने अच्छे हैं। अब हम शाम को रोली आंटी के मोहल्ले के बच्चों के साथ और भी मजे से क्रिसमस मनाएंगे।’ जिम्मी बोली।

इसके बाद दोनों बच्चों ने अपने प्लान के बारे में पापा-मम्मी को बताया और मार्केट से लायी गयी पेन्सिल्स, रबर और शार्पनर सब लाकर दिखाये। पापा-मम्मी को अपने बच्चों पर बेहद गर्व महसूस हुआ। पापा भी मार्केट जाकर उन मोहल्ले के बच्चों के लिए खिलौने और मिठाई ले आये।

इसके बाद सब शाम को रोली आंटी के मोहल्ले में गए और वहां एक क्रिसमस ट्री मंगवाकर सबके साथ उसे सजाया। प्रार्थना के बाद सेंटा बने जिम्मी और जॉनी ने सब बच्चों को गिफ्ट्स और मिठाई बांटी। सबने मिलकर कई गेम्स खेले और इसके बाद सब ख़ुशी-ख़ुशी घर आ गए। घर आकर जिम्मी और जॉनी ने मामा को फ़ोन किया और कहा, ‘मामा आपने बिल्कुल सही कहा था। गिफ्ट्स लेने से भी कई ज्यादा ख़ुशी तो गिफ्ट्स देने में होती है। इस बार का क्रिसमस हम कभी नहीं भूलेंगे और अबसे आपके साथ-साथ हम भी सेंटा बनेंगे।’ मामा ने बच्चों को खूब प्यार और आशीर्वाद दिया और मधुर यादों को मन में संजोये दोनों बच्चे सोने चले गए।

By Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views about this story. Wish you all a Merry Christmas. :) 

Poem on Blood Donation in Hindi

विश्व रक्तदान दिवस पर कविता, महादान शायरी, खून. Poem on World Blood Donation Day in Hindi. Donating Slogans, Donor Poetry Lines, Rakt Daan Maha Daan Rhymes.
Poem on Blood Donation in Hindi
अच्छा लगता है

माँ!
बात नाराज़ होने की नहीं है
गर्व करने की है माँ!

तेरा बेटा रक्त नहीं देता
दुआएँ लेता है
तुम्हारी ही जैसी कई माँओं की।

माँ!
बात चिन्तित होने की नहीं है
बल्कि समझने की है माँ!
रक्तदान से कोई कमजोरी नहीं होती
वरन, किसी की जिंदगी बच रही होती है।

माँ!
दान की गयी रक्त की मात्रा
हमारा शरीर निर्मित कर लेता है
महज अगले 24 घंटो में
और पूरे शरीर में फ़ैल जाती है
नए रक्त के साथ, ऊर्जा और स्फूर्ति भी
और पहुँच जाता है
महादान का आनन्द...रोम रोम में।

माँ!
तीन महीने में, रक्तदान कर सकते हैं
तुम भी कर के देखो माँ!
अच्छा लगता है।

By Randhir 'Bharat' Chaudhary

To read the english version of this poem about blood donation click here
 

Friday, December 16, 2016

Story of Saint Eknath in Hindi (संत एकनाथ)

संत एकनाथ महाराज की कथा, दृष्टिकोण गाथा. Story of Saint Eknath in Hindi. Positive Attitude Tales, Point of View, Sakaratmak Soch par Kahani, Information. 

Story of Sant Eknath in Hindi

दृष्टिकोण

महाराष्ट्र के प्रसिद्ध संत एकनाथ गोदावरी नदी में स्नानकर लौट रहे थे कि एक मनचले ने उन पर थूक दिया। एकनाथ पुनः स्नान करने गए। स्नान कर पुनः उसी रस्ते से लौटे। उस युवक ने पुनः थूक दिया। एकनाथ फिर से स्नान करने चले गए। ऐसा युवक ने इक्कीस बार किया। संत जब स्नान कर लौट रहे थे तो वह युवक उनके चरणों में गिर गया और क्षमा मांगने लगा। तब संत ने उसे बाहों में भरकर कहा - तुम तो मेरे बड़े उपकारी हो। मैं प्रतिदिन एक बार ही गोदावरी माँ की गोद में जाता था, आज मुझे इक्कीस बार उसकी गोद मिली। क्या यह कम उपकार हैं?

ऐसे दृष्टिकोण वाले व्यक्ति का कौन क्या बिगाड़ सकता है?

Source ~ Unknown

Wednesday, December 14, 2016

Poem on Sky in Hindi

आकाश पर कविता, आसमान शायरी, मन, विचार, भावना. Poem on Sky in Hindi. Mood Swings Poetry, Moody Mind Lines, Mixed Feelings Rhymes, Emotions Slogans, Sentiments.
Poem on Sky in Hindi

मन आकाश

मन के आकाश में -

कभी बरसते हैं बादल दु:खो के
तो कभी टिमटिमाते हैं तारे ख़ुशी के।

कभी दूर-दूर तक घना कोहरा छा जाता है
तो कभी हर तरफ बस उजेरा नज़र आता है।

कभी उड़ते हैं तम्मनाओं के परिंदे पंख फैलाकर
तो कभी छा जाती है काली घटाएँ अचानक आकर।

कभी पूर्णिमा का चाँद जगमगाने लगता है
तो कभी अमावस का अंधेरा छाने लगता है।

कभी इंद्रधनुषी रंग गाने लगते हैं
तो कभी सुर ये सारे वीराने लगते हैं।

कभी सांझ की हवा सुहानी बहती है
तो कभी आँधी और तूफान की कहानी कहती है।

आकाश समाया है मन में
नित रोज बदलता अपने रंग
कभी सवेरा बन ये खिलता
कभी रात को लाता संग।

By Monika Jain 'पंछी'

To read the english version of this poem about correlation between mind and sky click here.
 
 

Saturday, December 10, 2016

Nariyal Barfi Recipe in Hindi, Coconut Burfi

नारियल बर्फी बनाने की विधि. Nariyal Barfi Recipe in Hindi. How to Make Dry Coconut Burfi with Milk Powder, Khopra Pak, Gole Ki Mithai, Sweets, Dessert, Fudge.
Nariyal Barfi Recipe in Hindi, Coconut Burfi

नारियल की बर्फी

Ingredients :

सूखे नारियल का चूरा : 250 gm
चीनी : 150 gm
मिल्क पाउडर : 2 -3 बड़े चम्मच
पानी : 1 कप
पीसी इलायची : 1 /2 छोटा चम्मच
देसी घी : 2 छोटे चम्मच
पिस्ता और बादाम कतरन सजाने के लिए

Method :

सबसे पहले एक बड़ा पैन लें और उसमें पानी और चीनी मिलाकर गैस पर रखें। चीनी के घुल जाने पर इसमें नारियल चूरा, मिल्क पाउडर और इलायची पाउडर मिलाकर मंद आंच पर चलाते हुए गाढ़ा होने तक पकाएं। अब इसमें घी मिलाकर तब तक चलाये जब तक मिश्रण किनारा न छोड़ने लगे। अब इसे गैस से उतार लें। अब एक समतल प्लेट में चिकनाई लगाकर इस मिश्रण को डाल कर फैला दें। ऊपर से पिस्ता व बादाम कतरन डालकर दबा दें। जब मिश्रण ठंडा होकर जम जाये तो इसे मनचाहे आकार में काट कर सर्व करें।

Thursday, December 8, 2016

Poem on Save Water in Hindi

जल ही जीवन है कविता, संरक्षण, पानी बचाओ नारे, बचत शायरी. Poem on Save Water for Kids in Hindi. Importance of Saving Slogans, Conservation Rhymes, Poetry Lines.
Poem on Save Water in Hindi
(शरद कृषि, CITA में प्रकाशित)
पानी 

पानी पानी पानी पानी
जीवन का आधार है पानी।

गर्मी से राहत दिलवाता
हर प्राणी की प्यास बुझाता
अकुलाहट को दूर भगाता
सबको निर्मल स्वच्छ बनाता।

पानी पानी पानी पानी
धरती का श्रृंगार है पानी।

बादल बन अमृत बरसाता
बन झरना यह सबको भाता
नदियाँ बन यह कल-कल गाता
सीप का यह मोती बन जाता।

पानी पानी पानी पानी
सबका पालनहार है पानी।

पेड़ों को हरियाली देता
जीवों को नवजीवन
धरती को खुशहाली देता
करता सबको पावन।

पानी पानी पानी पानी
नहीं है कोई इसका सानी।

पानी की कीमत पहचानों
सीमित है पानी ये तुम जानो
पर्यावरण को अपना मानो
अपने दायित्वों को जानो।

वर्ना एक दिन आएगा
जब पानी ना बच पायेगा
धरती का हर एक प्राणी
पानी-पानी चिल्लाएगा।
पानी-पानी चिल्लाएगा।

By Monika Jain 'पंछी'


To read the english version of this poem about saving water click here.

Watch/Listen the video of this poem on importance of water in my voice. 



Sunday, December 4, 2016

Poem on Politics in Hindi

भारतीय राजनीति पर कविता, शायरी. Poem on Indian Politics in Hindi for Kids. Rajneeti par kavita, Political Shayari, Policy Poetry, Lines, Rhymes, Slogans. 
Poem on Politics in Hindi

राजनीति

राजनीति की रैली
हो गयी कितनी मैली
सत्ता हथियाने की सबकी
हो गयी एक ही शैली।

जातिवाद को देकर आग
आरक्षण का गाकर राग
वोट-वोट करते ये नेता
मानवता पर हैं एक दाग।

चालों से भरमाते हमको
नारों में उलझाते हमको
योजनाओं के कागज रंग कर
वादों से बहलाते हमको।

रंग बदलने में हैं निपुण
रंगबाजी है इनका गुण
बस देश लूटते ये नेता
पाप को भी कहते हैं पुण्य।

भारत के ये नेता आज
फूट डाल कर करते राज
फिर भी कहते खुद को अच्छा
कहाँ गयी है इनकी लाज?

By Monika Jain ‘पंछी’ 


Watch/Listen the video of this poem about politics in my voice : 


Saturday, December 3, 2016

Poem on Butterfly for Kids in Hindi

तितली पर कविता, शायरी. Poem on Butterfly for Kids in Hindi. Titli Rani par Kavita, Butterflies Rhyming Words, Nursery Children Rhymes, Poetry Lines, Shayari.
Poem on Butterfly for Kids in Hindi

तितली आई

कल घर में एक तितली आई
उसे देखकर मैं मुस्काई।

मैंने बोला तितली रानी -
शरबत लोगी या फिर पानी?

वो बोली - कोई फूल खिला दो
मुस्कान मेरे चेहरे पर ला दो।

फूलों का मैं गमला लायी
जिसे देख तितली हर्षायी।

मैंने पूछा तितली से -
इतने रंग लायी हो कैसे?
मुझको भी उड़ना सिखलादो
रंग मुझे भी कुछ दिलवादो।

तितली मेरे पास में आई
कलम पे मेरी वो मंडराई -
कलम तुम्हारी उड़ान भरेगी
इस जग का हर रंग लिखेगी
पंख और रंग दोनों है इसमें
तभी तो मुझको लिखा है इसने।

बात मेरी जब समझ में आई
कलम पे मेरी मैं इतराई।

By Monika Jain 'पंछी'

Watch/Listen the video of this poem about butterfly in my voice :


Thursday, December 1, 2016

Poem on Books in Hindi

किताब पर कविता, पुस्तक शायरी. Poem on Books are Our Best Friends in Hindi for Kids. Importance of Kitab, Pustak Kavita, World Book Day Poetry, Nursery Rhymes.
Poem on Books in Hindi
मैं किताब

दुःख की संगी
सुख की साथी
सब प्रश्नों का
हल मैं लाती।

अकेलेपन में
साथ निभाती
सबसे अच्छी
दोस्त कहलाती।

बन गीता मैं
धर्म सिखाती
रामायण बन
सत्य दिखाती।

सरस्वती का
वर बन जाती
जब भी कोई
समस्या आती।

दीपक बन मैं
राह दिखाती
अज्ञान तिमिर को
दूर भगाती।

पढ़ता मुझ को
जो भलीभांति
उन सबका मैं
ज्ञान बढ़ाती।

By Monika Jain ‘पंछी’

To read the english version of this poem about books click here.

Watch/Listen the video of this poem :


Wednesday, November 30, 2016

Thoughtful Quotes in Hindi

विचारणीय बातें, विचारशील उद्धरण, विचार. Thoughtful Quotes in Hindi. Thoughts of the Day, Thought Provoking Status, Sms, Messages, Sayings, Lines, Words.
Thoughtful Quotes in Hindi
Thoughtful Quotes
  • बात आज की नहीं है, सदियों से यही हो रहा है। स्त्री का मुंह बंद करवाना हो, उससे बदला लेना हो, उसके प्रति अपनी नफ़रत उगलनी हो...तथाकथित पुरुषों के पास कुछ गिने-चुने तरीके होते हैं : उसका बलात्कार कर दो, उसे बदनाम करने की धमकी दे दो या उसके चरित्र की बखिया उधेड़ डालो। लेकिन प्यारे तथाकथित पुरुषों! Who the hell you are to define our character? तुम्हारा दिया चरित्र प्रमाण पत्र अपने पास रखो और कागज़ पर बनाया हो तो रद्दी में बेचकर थोड़े छुट्टे इकट्ठे कर लो। इससे ज्यादा तो कोई कीमत नहीं ही है उसकी। ~ Monika Jain ‘पंछी’
  • दुनिया में सबके अपने-अपने युग हैं। कहीं किसी कोने में कोई नरभक्षी बना बैठा है तो कहीं कोई ऐसा भी है जिसका जीवन किसी के भी भक्षण का मोहताज ही नहीं। किसी के आठों प्रहर सावद्य भाषा के प्रयोग में गुजरते हैं तो कोई निरवद्य भाषा की अंतिम परिणीती मौन तक पहुँच चुका है। कोई मन में न जाने कितनी नृशंस हत्यायों की योजनाएँ बनाता है तो कोई कहीं मन से ही मुक्त हो चुका है। दुनिया में सबके अपने-अपने युग हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’
  • अंधसमर्थक या अंधविरोधी भक्त नहीं होते। भक्ति तो जागरूकता के एक विशेष स्तर पर घटित होती है। प्रेम का चरम है भक्ति। इसमें समर्थन या विरोध के लिए कोई स्थान है ही कहाँ? यह तो पूर्ण स्वीकार की अवस्था है। विरलों को मयस्सर है भक्त होना तो। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जो बस विकल्प तलाशते हैं, वे प्रेम क्या कर पायेंगे? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुत्ते, गधे, गिरगिट...नाहक बदनाम हुए। तुम्हारी वासना, बर्बरता और महत्वकांक्षाओं की बलि चढ़े जानवरों की जमात में तो 'मनुष्य' शब्द गाली की तरह इस्तेमाल होना चाहिए। नहीं क्या? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • पुरानी कंडीशनिंग से बाहर निकलना जितना जरुरी है, उतना ही जरुरी है नयी कंडीशनिंग से बचे रहना। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • आयाम बदलते ही सारे मायने बदल जाते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अभयदान से बड़ा दान और क्या हो सकता है? इसमें हम वहीँ देते हैं जो हमारा है या यूँ कहें कि जो खुद हम हैं। बाकी के सारे दान में हम वह देते हैं जो हमारा होता ही नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अजीब इत्तेफाक है न...जो अपने धर्म, अल्लाह/ईश्वर और संप्रदाय के प्रति जितना कट्टर है, उसके मुंह से उतने ही ज्यादा फूल बरसते हैं। इनकी जुबान से निकले शब्द पढ़कर तो इनका अल्लाह/ईश्वर भी शर्म से पानी-पानी हो जाता होगा। जिनका धर्म उन्हें बोलने की तहजीब तक न सिखा पाया, उनसे और कोई उम्मीद बेमानी है। हाँ, ये अपने ही धर्म के सबसे बड़े दुश्मन जरुर है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मृत्यु नहीं, मृत्यु का कारण शहीद बनाता है। ~ नेपोलियन बोनापार्ट / Napoleon Bonaparte 
  • जो व्यक्ति अपने बारे में नहीं सोचता, वह दरअसल सोचता ही नहीं है।~ ऑस्कर वाइल्ड / Oscar Wilde 
  • ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हम फ़ेंक देते यदि हमें इस बात की चिंता नहीं होती कि कोई और उन्हें उठा लेगा। ~ ऑस्कर वाइल्ड / Oscar Wilde 
  • हो सकता है मैं आपके विचारों से सहमत न हो पाऊं पर विचार प्रकट करने के आपके अधिकारों की रक्षा करूँगा। ~ वाल्तेयर / Voltaire 
  • किसी निर्दोष को दण्डित करने से बेहतर है, एक दोषी को बख्श देने का जोखिम उठाना। ~ वाल्तेयर / Voltaire 
  • औसत शिक्षक कहते हैं। अच्छे शिक्षक बताते हैं। बेहतरीन शिक्षक व्याख्यापित करते हैं। ~ William Arthur Ward / विलियम आर्थर वार्ड

Tuesday, November 29, 2016

Poem on Corruption in Hindi

भ्रष्टाचार पर कविता, भ्रष्टाचारी. Poem on Corruption in Hindi for Kids. Bhrashtachar Kavita, Corrupt Politicians Poetry, Politics Shayari, Slogans, Lines. 
 Poem on Corruption in Hindi
भ्रष्टाचारी

इस देश की है बीमारी, ये भूखे भ्रष्टाचारी -
जिस थाली में खाना खाते, ये छेद उसी में करते है
लात गरीब के पेट पे मार, घर अपना ये भरते है।

इस देश की है बीमारी, ये धनवान भिखारी -
ले हाथ कटोरा घर घर जाते, मौसम जो चुनावों का आता
अल्लाह के नाम पे दे-दे वोट, गाना इनको बस एक ही आता।

इस देश की है बीमारी, ये मूल्यों के व्यापारी -
नीलाम देश को कर दे ये, जो इनका बस चल जाये
भारत माँ को कर शर्मिंदा, ये उसकी कोख लजाये।

इस देश की है बीमारी, ये दानव अत्याचारी -
खून चूसकर जनता का, ये अपना राज चलाये
जो खाली रह गया इनका पेट, नरभक्षी भी बन जाये।

इस देश की है बीमारी, देखो इनकी गद्दारी -
गाय का चारा खाते ये, कोयले की कालिख लगाते ये
धरती माँ का सौदा कर, उसको भी नोच खाते ये।

इस देश की है बीमारी, ये भूखे भ्रष्टाचारी।

By Monika Jain 'पंछी'

Listen/Watch the video of this poem about corruption : 


Sunday, November 27, 2016

Personality Development Tips in Hindi

व्यक्तित्व विकास पर निबंध. Personality Development Tips in Hindi. Know Yourself Essay. How to Develop Skills, Personal Grooming Speech, Self Improvement Article.
Personality Development Tips in Hindi
दोस्त बनिए पर सबसे पहले खुद अपने

अक्सर कुछ लोग अपनी ज़िंदगी से नाख़ुश होते हैं। उन्हें अपने भाग्य, अपनी किस्मत से शिकायत रहती है जैसे : मैं जो भी चाहता हूँ मुझे कभी नहीं मिलता, मेरा भाग्य मेरा साथ कभी नहीं देता या हर कार्य में मुझे असफलता मिलती है। ऐसे लोग निराशा से घिर जाते हैं और हमेशा उदास और तनावग्रस्त रहते हैं।

कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें अपने आसपास के लोगों, अपने दोस्तों और अपने रिश्तों से शिकायत रहती है जैसे : सभी मुझे इग्नोर करते हैं, मेरा मजाक बनाते हैं या मुझे कोई नहीं चाहता, कोई मदद नहीं करता। ये लोग धीरे-धीरे दुनिया से कटने लगते हैं। एकाकीपन और अवसाद के शिकार भी हो सकते हैं।

कुछ व्यक्तियों के लिए खुद से जुड़ा निर्णय लेना बहुत मुश्किल होता है जैसे : मुझे कौनसा कोर्स करना चाहिए, करियर का निर्माण किस क्षेत्र में करना चाहिए, किस क्षेत्र में मुझे सफलता मिल सकती है? ऐसे लोग अपना लक्ष्य निर्धारित नहीं कर पाते और अपने जीवन से जुड़े निर्णयों में हमेशा खुद को दौराहे पर पाते हैं। असमंजस की वजह से कई बार गलत निर्णय कर लेते हैं जिसका परिणाम सिर्फ पछतावा रह जाता हैं।

ऐसी सभी परेशानियों और समस्यायों से निज़ात पाने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है कि हम सबसे पहले अपने दोस्त बने और अपने साथ समय बितायें। अक्सर ज़िंदगी की भाग दौड़ में हमारे पास खुद के लिए जरा भी वक्त नहीं होता। हमारे साथ जो भी होता है हम बस उस पर अपनी प्रतिक्रिया दे देते हैं और ये नहीं सोचते कि ये क्यों हो रहा है?

हम सभी को चाहिए कि हम रोज कुछ समय सिर्फ अपने साथ बितायें। खुद से बाते करें। हमें क्या अच्छा लगता हैं, क्या बुरा लगता है, किन कार्यों से ख़ुशी मिलती है और किनसे नहीं…ये सोचें। अपने हर कार्य, अपने व्यवहार, अपने मूड, अपनी प्रतिक्रियाओं और अपने प्रत्युत्तर का निरीक्षण करें। हमारी प्रतिक्रियायें हमें कैसे प्रभावित करती हैं, हम दूसरो से कैसे इंटरेक्ट करते हैं, हमारा वातावरण हमें कैसे प्रभावित करता है, इस पर गौर करें। दिन भर हमने क्या किया, किन लोगों से मिले, क्या बात की…इस पर भी ध्यान दें।

किन लोगों का साथ हमें अच्छा लगता हैं और किनके साथ हम असहज महसूस करते हैं? हमारी कौनसी बात दूसरों की तारीफ पाती है और कौनसी बात आलोचना?... इसका भी निरीक्षण कीजिये। अपने व्यवहार, अपनी भाषा, अपने रहन सहन, अपने व्यक्तित्व सभी का पूरी ईमानदारी से निरीक्षण कीजिये। अपने आलोचक बनिये और अपने प्रशंसक भी, पर पूरी ईमानदारी के साथ।

इस विश्लेषण और निरीक्षण का ये फायदा होगा की अब आप अपनी खूबियों और अपनी कमियों से अच्छे से वाकिफ़ हो जायेंगे। अपनी खूबियों को तराशिये और अपनी कमियों को दूर करने का प्रयास करिए फिर देखिये आपके व्यक्तित्व, आपकी भाषा, रहन सहन और आपके व्यवहार में कैसा निखार आता है। स्वतः ही आप लोगों का ध्यान बटोरने लगेंगे और उन सभी की नज़रों में खास बन जायेंगे।

जहाँ बात आपकी नौकरी या करियर से जुड़े निर्णयों की हो तो उसके लिए जरुरी हैं आप अपनी पसंद, नापसंद, अपनी स्ट्रेंथ और अपनी कमजोरियों को पहचाने। आप किस क्षेत्र में माहिर हैं, क्या करके आपको ख़ुशी मिलती हैं, आपके कौनसे कार्य की हर जगह तारीफ होती है और किस कार्य को करते समय आप पूरे आत्मविश्वास से भरे होते हैं, ये सब जानना बहुत जरुरी हैं।

जब हम खुद को पहचानने लगेंगे तो हमारे लिए लक्ष्य का निर्धारण आसान हो जायेगा। हमसे जुड़े निर्णय करते समय हमें दुविधा का सामना नहीं करना पड़ेगा। समय की बर्बादी से भी बचेंगे और गलत निर्णयों से भी। हम अपने भाग्य के निर्माता बनेंगे। अपने रिश्तों और अपने दोस्तों का चुनाव कर पाएंगे और रिश्तों में मधुरता आएगी। सही दिशा में सही कदम उठाकर अपने सभी सपनों को साकार कर पाएंगे और जीवन के हर क्षेत्र में सफलता हमारे कदम चूमेगी

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views about this article on knowing yourself and personality development.

Saturday, November 26, 2016

Poem on Agriculture in Hindi

भारतीय कृषि समस्या और समाधान पर कविता, खेती. Poem on Agriculture in Hindi. Bhartiya Krishi Poetry, Indian Farming Sector Rhymes, Husbandry Crops Slogans, Lines.
 
Poem on Agriculture in Hindi
 
नूतन सृजन

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने का
दावा करने वाला देश
और इसकी कल्याणकारी योजनायें,
क्यों नहीं बचा पाती
मौत के मुंह में जाने वाले किसानों को?

जहाँ कृषि अर्थव्यवस्था की रीढ़ है,
जिस पर दो तिहाई आबादी की आजीविका है निर्भर।
जहाँ छह ऋतुएं और दर्जनों प्रकार की मिट्टी
बनाती है विविधिकरण को संभव।
जहाँ लगभग हर तरह की फसल का उत्पादन है सुगम।
वहां भी क्यों गहराता है कृषि पर संकट?

सिंचाई के लिए मानसून पर निर्भरता,
प्राकृतिक आपदाएं और पूँजी निवेश की कमी,
जोत इकाइयों का छोटा आकार,
बिजली, परिवहन आदि सुविधाओं का अभाव।

नयी तकनीक और उत्तम बीजों की अनुपलब्धता,
रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का बढ़ता प्रयोग,
मिट्टी की उर्वरता में कमी
और प्राकृतिक संसाधनों का अतिउपभोग

बड़ी तादाद में कृषि के लिए उपयोगी जीवों का खत्म हो जाना,
और किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य न मिल पाना।
कृषि योग्य भूमि का लगातार घटना,
और उस पर निर्भर रहने वालों की संख्या का हर पल बढ़ना।
- यही सब कारण है कृषि के गिरते स्तर के।

रेनहार्वेस्टिंग को अपनाना,
उत्पादन में अस्थिरता को कम करना।
बीमा और सस्ती ऋण सुविधाओं की उपलब्धता,
मानसून पर घटती निर्भरता।
जोतों के आकार को बढ़ाना,
फसलों में विविधिकरण को लाना।
कृषि आधारित उद्योगों को प्रोत्साहन,
बाढ़ और सूखे की रोकथाम के साधन।
गोबर गैस और सौर ऊर्जा का समुचित उपयोग,
नयी उन्नत तकनीकों का प्रयोग।

जरुरत है आज
कृषि ढांचागत व्यवस्था को पुनः परिभाषित करने की।
कृषि का नहीं है कोई भी विकल्प!
इसलिए जरुरत है नूतन सृजन कर देश को
सच्चे अर्थों में विकसित करने की।

By Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views about this poem on problems and solutions of Indian agriculture sector.

Friday, November 25, 2016

Hate Quotes in Hindi

नफ़रत, घृणा, द्वेष. Hate Quotes in Hindi. Anti Hatred Slogans, Hateful, Haters, Nafrat Suvichar, Hating People Status, Dislike Sms, Messages, Lines, Sayings.
Hate Quotes in Hindi
Hate Quotes

  • कुछ लोगों के अतीत के कड़वे गीत कभी नहीं छूटते या यूँ कहूँ कि कुछ लोगों के मन का जहर कभी जाता ही नहीं। तिस पर चित भी मेरी और पट भी मेरी वाला व्यक्तित्व हो तब तो डील करना बहुत मुश्किल। बार-बार चिंगारी भड़काने की किसी की आदत हो, अपनी गलतियों और उनकी गंभीरता का कभी अहसास हो ही नहीं तो ऐसे व्यक्ति से सुलझने/उलझने की कोशिश मतलब...उलझते ही जाना...उलझते ही जाना और उलझते ही जाना।...और इस कथा का कोई अंत ही नहीं। कुछ लोगों से मुक्त होने का बस एक ही तरीका है...खुद से मुक्त हो जाना। जहाँ उनका जहर और चिंगारियाँ सबको बेअसरदार होना ही है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • तुम इतनी अच्छी क्यों हों?
    क्या तुम्हारे जैसे लोग भी दुनिया में होते हैं?
    आप मेरे जीवन की प्रेरणा हैं।
    आपके शब्दों में दुनिया को बदलने की ताकत है।
    बस तुम ही तो एक दोस्त हो।
    ऐसे 999 वाक्य 999 लोगों के मुंह से सुनकर भी दूर कहीं नफरत लिए बैठे एक व्यक्ति का एक वाक्य इन 999 वाक्यों से उपजी ख़ुशी को पल भर में छीन ले जा सकता है। इतने दुःखवादी क्यों हैं हम? और क्यों ऐसा है कि हमारी खुशियाँ किसी के शब्दों की मोहताज है? असल सुख तो वाकई में भीतर का है जो न 999 लोगों की तारीफ से प्रभावित होता है और न ही किसी एक की नफ़रत के झांसे में आकर दुःख में बदल सकता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • घृणित कुछ भी नहीं होता, बस त्याज्य होता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मंदिर कहते समय मस्जिद, गुरुद्वारा न कहा तो शामत
    ईश्वर कहते समय खुदा, अल्लाह न कहा तो शामत
    हिन्दू से जुड़ी बात कर दी, मुस्लिम की न की तो शामत
    उफ्फ, ये धार्मिक लोग!
    एक और शामत को निमंत्रण देने वाली थी पर अच्छा हुआ याद आ गया।
    मस्जिद कहते समय मंदिर न कहा तो शामत
    खुदा कहते समय भगवान न कहा तो शामत
    मुस्लिम कहते समय हिन्दू को भूल गयी तो शामत!...शामत ही शामत! ~ Monika Jain ‘पंछी’
  • कुछ लोग आपको सिर्फ इसलिए पढ़ते हैं ताकि आपके प्रति अपनी नफरत को बाहर निकालने का कोई बहाना ढूंढ सकें। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुछ लोगों के दिल में इतनी नफरत क्यों होती है? न कोई जान पहचान, न कभी पाला पड़ा, न कभी कुछ बिगाड़ा, तब भी बेवजह सीधी-साधी पोस्ट्स पर जहर उगलने लगते हैं। असहमति या तर्कों से कोई समस्या नहीं, पर नफरत और पूर्वाग्रहों से भरे दिलों से है। कुछ लोग कहेंगे बर्दाश्त क्यों करते हो? शायद इस विश्वास में कि हो सकता है कभी पोस्ट्स पढ़ते-पढ़ते उनकी नफरत कम हो जाए, पर ऐसा कुछ भी तो नहीं होता...और तब लगता है लेखक के तौर पर हम बुरी तरह से असफल हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सहमति और असहमति दोनों स्वीकार्य है। लेकिन नफ़रत फैलाने और बात का बतंगड़ बनाने का इरादा नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मेरी किसी पोस्ट पर अगर फ्रेंडलिस्ट के दो मित्र या उनमें से कोई एक आपस में स्वस्थ चर्चा को छोड़कर लड़ने-झगड़ने लगे, और बीच में पड़ने का कोई औचित्य न हो तो मैं पोस्ट ओनली मी या डिलीट कर देती हूँ। जगह ही नहीं मिलेगी तो लड़ेंगे कैसे? :p ;)
    देखिये! मुझे सभी प्रिय हैं। यूँ किसी को लड़ते-झगड़ते देखना अच्छा नहीं लगता। स्वस्थ चर्चा का माहौल बनाईये, अगर वाकई समस्यायों के समाधान के प्रति जागरूक हैं तो। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जानवरों को बक्श दीजिये। उन्हें अपनी कुंठा और नफरत की लपेट में मत लीजिये। खैर! आप तो स्त्रियों को भी कहाँ बख्शतें हैं? माँ-बहनों के रूप में उन्हें भी बात-बात में लपेट ही लेते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • यदि आप और मैं इस क्षण किसी के भी विरुद्ध हिंसा या नफरत का विचार ला रहे हैं, तो हम दुनिया को घायल करने में योगदान दे रहे हैं। ~ दीपक चोपड़ा / Deepak Chopra

Feel free to add your views about these quotes on hate. 
 
 

Thursday, November 24, 2016

Poem on Agni in Hindi

नफरत की आग कविता, अग्नि शायरी, घृणा, प्रेम. Poem on Agni in Hindi. Love and Hate Poetry, Fire of Hatred Rhyme, Flame of Hope Lines, Light Slogans, Bitterness. 
Poem on Agni in Hindi

प्यार की फुहार

कल रात जब पढ़ा मैंने हम सब के मन को
तो एक सिहरन सारे तन में दौड़ गयी
कंपकपाती ठण्ड में भी एक परेशानी
मेरे माथे पर छलकता पसीना छोड़ गयी।

घबराहट और बेचैनी के साथ
न जाने कब तक मैं जागती रही
नफरत की आग से उड़ रहा था जो धुआँ
उसमें सारी रात मैं खांसती रही।

असंख्य विचारों की विरोधाभासी आंधियाँ;
धर्म, संप्रदाय, नीति और मतों के उड़ते पत्ते
नफरत की उस आग को हर एक पत्ता
अपने-अपने तरीके से हवा दे रहा था
मानो दुनिया का हर एक दिल
प्रेम को अलविदा कह रहा था।

‘क्या इसी तरह हो जाएगा
एक दिन इस दुनिया का अंत?’
मेरा मन बस यही सोचकर बैठा जा रहा था
एक अजीब सा खौफ मेरे दिल और दिमाग में
पल-पल पैठा जा रहा था।

मैंने बहुत ढूंढा, हाँ! मैंने बहुत ढूंढा -
मिल जाए कहीं प्यार की एक मीठी बूँद
जो ठंडा करदे इस कड़वाहट की आग को
विचारों में हो चाहे जितनी भी विविधताएँ
पर बस थाम ले इस भीषण विवाद को।

सूरज की किरण ने अचानक मेरा दरवाजा खटखटाया
पर मेरे दिल का खौफ अभी तक भी कहाँ मिट पाया?

बाहर निकलकर देखा -
कबूतरों का एक जोड़ा दुनिया से बेखबर
प्यार में खोया हुआ था
सड़क पर दूसरे शहर को जा रही
एक औरत के आँचल में
उसका नन्हा सा बच्चा चैन से सोया हुआ था।

प्रेम और सुरक्षा के इन भावों ने
दिल को जैसे एक गर्माहट दी
दूर हुआ सारा खौफ और
तन-मन की घबराहट भी।

प्यार की यही फुहार
बस अब हर जगह बरस जाए
नफरत में हर पल जलती ये दुनिया
बस किसी भी तरह से बच जाए।
बस किसी भी तरह से बच जाए।

By Monika Jain ‘पंछी’


Watch/Listen the video of this poem about flame of love and hate in my voice :


Wednesday, November 23, 2016

Poem on About Me, Myself, I in Hindi

मैं कौन हूँ कविता. Poem on About Me, Myself in Hindi. Who I Am Poetry, Mysterious Girl Shayari, Enigmatic Woman Rhyme, Describe Yourself Lines, Puzzle Mystery.

Poem on About Me, Myself, I in Hindi

पहेली हूँ मैं

दुनिया की भीड़ में अकेली हूँ मैं
कोई न सुलझा पाए वो पहेली हूँ मैं।

आकाश कवि की कविता
दिशा विहीन एक सरिता
अदृश्य ख्वाबों की सहेली हूँ मैं
कोई न सुलझा पाए वो पहेली हूँ मैं।

पंख बिना ही उड़ने वाली
दिशा बिना ही बहने वाली
बिना राह की चलने वाली अलबेली हूँ मैं
कोई न सुलझा पाए वो पहेली हूँ मैं।

शब्द विहीन एक परिभाषा
सोयी आँखों की जागृत भाषा
खामोश जुब़ा की भाषा अनकही हूँ मैं
कोई न सुलझा पाए वो पहेली हूँ मैं।

By Monika Jain 'पंछी'


  To read the english version of this poem about me, myself and I click here.

Watch/Listen this poem in my voice : 



Sunday, November 13, 2016

Desire Quotes in Hindi

इच्छा, आकांक्षा, कामना, अभिलाषा, चाह. Desire Quotes in Hindi. Intention Status, Aspiration Sms, Requirement, Lust, Ambition, Fantasy, Wish, Will, Wants. 
Desire Quotes in Hindi
Desire Quotes

  • आज एक मित्र ने पूछा, ‘अगर कोई व्यक्ति द्वेष वश आपकी मृत्यु की कामना करता है। इसके लिए वह अक्सर अपने इष्ट से प्रार्थना भी करता है और आपको आग में झोंकने हेतु हवन, तंत्र, मंत्र आदि की साधना भी करता हो तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी?’ पहले तो सुनकर मुस्कुरा गई...फिर कहा, ‘ऐसा अगर कोई हो और इससे उसकी किसी समस्या का समाधान होता हो तो ईश्वर अवश्य जल्द से जल्द उसकी इच्छा पूरी करे। बस मेरी मृत्यु के बाद ईश्वर उसे जीवन जरुर दे। ऐसा जीवन जिसमें फिर द्वेष वश किसी की मृत्यु की कामना न हो। इसलिए नहीं कि मृत्यु बुरी है। जीवन या मृत्यु दोनों ही अच्छे या बुरे कुछ नहीं होते। अच्छे और बुरे का सम्बन्ध मात्र कामना से है।’ ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जीवेषणा नहीं जीवंतता की जरुरत है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • हर मनुष्य अनंत का आकांक्षी है। बस उसके रास्ते, साधन और उपलब्धियां इतनी सीमित है कि तमाम उम्र की दौड़ भी उसकी आकांक्षा को पूरा नहीं कर पाती। यही रास्ता जब भीतर की ओर पलट जाता है तो कुछ विशेष साधनों के द्वारा असीमित को पाया जा सकता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मनुष्य की आसक्ति की एक हाइट यह भी है कि वह मरने के बाद भी अपना नाम जिन्दा रखना चाहता है। स्वत: जिन्दा रहने और जिन्दा रखने की चाह में अंतर है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • पौधे की पत्तियां तोड़ने की उसकी तीव्र इच्छा को देखते हुए मैं उसे रोक तो नहीं पायी...पर मैंने कहा, 'बाबु, बस थोड़ी सी तोड़ना।' उसने पूछा, 'क्यों?' मैंने कहा, 'पौधे को भी दर्द होता है न!' ...और वह टूटी हुई पत्ती को वापस पौधे पर जोड़ने लगी। :) बच्चे तो शायद ऐसे ही होते हैं। लेकिन कुछ दृश्य कितना कुछ कह जाते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मैं यहाँ क्यों हूँ, कौन हूँ और क्या कर रहा/रही हूँ। ये प्रश्न ही अध्यात्म की ओर आकर्षित करते हैं। लेकिन चमत्कार दिखाने और चमत्कार अनुभव करने की तीव्र इच्छा इस मार्ग से भटकाने के लिए पर्याप्त है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दुनिया-जहाँ की घटनाएँ देखते-सुनते मन अक्सर सवाल करता है...आखिर इंसान पहुँचना कहाँ चाहता है? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मुझे हैरत होती है यह देख-देखकर कि लोग किन-किन तरीकों से किसी पर अपना नियंत्रण चाहते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • यदि महत्वकांक्षा से आपको ठेस नहीं लगती है तो आप महत्वकांक्षी हैं ही नहीं। ~ ए. मर्गोलेज 
  • इच्छाओं की पूर्ति का एकमात्र मंत्र उन्हें टाल देना है। ~ अज्ञात / Unknown 
  • तुम अपनी इच्छाओं को जितना कम करोगे उतने ही परमात्मा पद के निकट पहुँच जाओगे। ~ सुकरात / Sukrat 
  • अगर सारी दुनिया को हम पाना चाहते हैं तो पाओ अपने को देकर। ~ जैनेन्द्र कुमार / Jainendra Kumar 
  • जो अपने सुख की इच्छा से दूसरे जीवों की हिंसा करता है, उसे कहीं सुख नहीं मिलता। ~ गौतम बुद्ध / Gautam Buddha  
  • अपने दुश्मनों पर विजय पाने वाले की तुलना में मैं उसे शूरवीर मानता हूँ जिसने अपनी इच्छाओं पर विजय प्राप्त कर ली है क्योंकि सबसे कठिन विजय अपने आप पर विजय होती है। ~ अरस्तु / Arastu

Feel free to add your views about these quotes on desire. 



Friday, November 11, 2016

Moral Quotes in Hindi

नैतिक मूल्य शिक्षा, नैतिकता पर विचार, सुविचार. Moral Values Quotes in Hindi. Morality Slogans, Status, Messages, Sentences, Sms, Sayings, Proverbs, Quotations.
 Moral Quotes in Hindi
Moral Quotes

  • सरलता, मासूमियत और संवेदना को चोटों से डरकर खोने की जरुरत नहीं होती। सरलता को खोना एक पायदान नीचे उतर जाना है, जड़ बन जाना है। जरुरत है सरलता और निर्दोषिता को इतना परिष्कृत कर देने की कि फिर चोट हम तक पहुंचे लेकिन हमें लगे ही नहीं। यूँ चोट सामान्यत: जड़ता तक भी नहीं पहुँचती पर वह चोट देना सीख जाती है। लेकिन वह मृतप्राय स्थिति है। हमें तो इतना जीवंत होना है कि चोट जो हम तक पहुँचे वह भी रूपांतरित होकर प्रेम की फुहारों सी लौटे। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हम संवाद करें, विवाद नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सत्य तर्कातीत है। वह सभी विरोधाभासों को खुद में समाहित कर लेता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हारना गलत नहीं है पर हार से सबक ना लेना गलत है। ~ अज्ञात / Unknown  
  • शिक्षा सबसे सशक्त हथियार है, जिससे दुनिया को बदला जा सकता है। ~ अज्ञात / Unknown  
  • अपना चेहरा हमेशा सूर्य की रोशनी की ओर रखें, फिर काली छाया आपके पीछे ही रहेगी। ~ वाल्ट व्हिटमैन / Walt Whitman 
  • अप्रिय शब्द पशुओं को भी नहीं सुहाते। ~ गौतम बुद्ध / Gautam Buddha 
  • नेक बात चाहे किसी धर्म की हो, किसी आदमी की हो, उसे अवश्य गृहण करो। ~ जवाहरलाल नेहरु / Jawaharlal Nehru 
  • अगर आप 100 लोगों की मदद नहीं कर सकते तो केवल एक की ही मदद कर दें। ~ मदर टेरेसा / Mother Teresa 
  • मीठे बोल बोलने में संक्षिप्त और आसान हो सकते हैं, लेकिन इनकी गूँज सचमुच अनन्त होती है। ~ मदर टेरेसा / Mother Teresa 
  • कल तो चला गया, आने वाला कल अभी आया नहीं। आपके पास सिर्फ आज है। आइये शुरुआत करें। ~ मदर टेरेसा / Mother Teresa 
  • मैंने कर्म से ही अपने को बहुगुणित किया है। ~ नेपोलियन बोनापार्ट / Napoleon Bonaparte 
  • वहां मत जाइए जहाँ रास्ता ले जाए, बल्कि वहां जाइए जहाँ कोई रास्ता नहीं है और अपने निशान छोड़ आइये। ~ रॉल्फ वाल्डो इमर्सन / Ralph Waldo Emerson 
  • एक रत्ती भर कर्म भी मन भर बात के बराबर है। ~ रॉल्फ वॉल्डो इमर्सन / Ralph Waldo Emerson 
  • सुनो अधिक से अधिक, बोलो कम से कम। ~ विलियम शेक्सपीयर / Shakespeare 
  • हमारी शंकाएं हमारे साथ विश्वासघात करती हैं और हमें उन अच्छाइयों से वंचित रखती हैं, जिन्हें हम प्रयास से पा जाते। ~ विलियम शेक्सपीयर / Shakespeare 
  • तुम्हारी पोशाक उतनी कीमती होनी चाहिए जितनी बनवाने की तुम्हारी योग्यता हो। वह बहुमूल्य तो हो लेकिन भड़कीली न हो। ~ विलियम शेक्सपीयर / Shakespeare 
  • जितने दिन जिंदा हो, उसे गनीमत समझो और इससे पहले कि लोग तुम्हें मुर्दा कहें नेकी कर जाओ। ~ शेख सादी / Sheikh Saadi 
  • विद्वान देखता है, जो विद्या उसे आनंद देती है, वह संसार के लिए भी आनंदप्रद होती है और इसलिए वह विद्या को और भी चाहने लगता है। ~ Saint Thiruvalluvar / तिरुवल्लुवर 
  • श्रेष्ठ व्यक्तियों का सम्मान करके उन्हें अपना बना लेना दुर्लभ पदार्थों से भी अधिक दुर्लभ है। ~ Saint Thiruvalluvar / तिरुवल्लुवर 
  • यदि तुम्हारे एक शब्द से भी किसी को पीड़ा पहुंचती है तो अपनी सब नेकी खत्म हुई समझो। ~ Saint Thiruvalluvar / तिरुवल्लुवर 
  • नेकी से विमुख हो जाना और बदी करना निस्संदेह बुरा है, मगर सामने हंस कर बोलना और पीछे चुगलखोरी करना उससे भी बुरा है। ~ Saint Thiruvalluvar / तिरुवल्लुवर 
  • निराशा को काम में व्यस्त रहकर दूर भगाया जा सकता है। ~ वाल्तेयर / Voltaire
 
Feel free to add your views about these moral quotes.


Friday, November 4, 2016

Love Memories in Hindi

यादें, प्यार के किस्से, प्रेम कहानी. Love Memories in Hindi. Remembrance of Old Days, End of College Life, Nostalgia, Memorable Short Stories, Tales, Memoirs. 

Love Memories in Hindi

यादों के झरोखों से

(1)

वो गर्मियों की एक अँधेरी रात थी। हर रोज की तरह उस दिन भी हम उसी सुनसान रास्ते पर घूमने निकले थे, जिस पर चलते-चलते हर रोज हमारे कदम एक मंदिर तक आकर रुक जाते थे। उन दिनों कभी-कभी मंदिर जाना अच्छा लगता था। वहां बहुत चहल-पहल रहती थी। मंदिर में दर्शन के बाद वहीँ बाहर बने चबूतरे पर हम कुछ देर बैठते और फिर वैसे ही लम्बी सैर कर अपने-अपने ठिकाने लौट आते।

उस दिन रास्ते में चलते-चलते अचानक सामने एक बाइक आकर रुकी जिस पर चार लड़के सवार थे। हममें से कोई उन्हें नहीं पहचानता था। पर उन्हें देखकर लग रहा था कि वे नशे में धुत्त हैं। वे चारों बाइक से नीचे उतरे और उनमें से एक तुम्हें मारने लगा। अचानक हुए इस घटनाक्रम से घबराई मैं तुम्हारा नाम पुकारते हुए तुम्हारी ओर आने लगी तो दूसरे लड़के ने मेरा हाथ पकड़ लिया और तीसरे ने चाक़ू भी निकाल लिया। मेरा हाथ पकड़कर खड़े लड़के ने अचानक मेरी आँखों में गौर से देखा तो डर के मारे मेरे मुंह से बस एक ही शब्द निकला, ‘मम्मी!’ पता नहीं उसे अचानक क्या हुआ और उसने एकदम मेरा हाथ छोड़ दिया और अपने सारे दोस्तों को इकट्ठा किया और वे सब उस बाइक पर सवार होकर उसी रफ़्तार से चले गए जैसे आये थे। उस समय तो दिमाग इस अजीब से वाकये को लेकर सुन्न हो गया था और हम घर लौट आये थे। लेकिन अगले ही दिन सब कुछ सामान्य भी हो गया और हमारा घूमना बदस्तूर जारी रहा। :)

(2)

उदास लम्हों में...इधर-उधर की बातें, किस्से, तस्वीरें, आवाजें और कोलाहल सब जब छितर जाता है तो हर बार दूर खड़े सिर्फ तुम ही नज़र आते हो। कॉलेज का वह आखिरी दिन जब तुम्हारा साथ और यादों का वह शहर लगभग छूट रहा था तब आँसू मेरी आँखों में भी थे और तुम्हारी में भी। पहली बार तुम्हें अपने सामने रोते देखा था और तब मेरी रुलाई और भी जोरों से फूट पड़ी थी। भीगी पलकों के साथ एअरपोर्ट पर दूर जाते तुम...मोड़ आते ही पलट कर देखा था तुमने...तब हाथ खुद-ब-खुद ही 'ऑल द बेस्ट' कहने को ऊपर उठ गया था। पूरे छह महीने के बाद उसी शहर में जब तुम वापस आये...तब तुमसे मिलने आई मैं...इंतजार का एक-एक पल इतना उत्साह से भरा था कि पांच मिनट में पांच बार उठकर दूर तक नज़रें तुम्हें ढूंढने लगती थी...और फिर करीब आधे घंटे बाद तुम्हारे नज़र आते ही धड़कनों के थम जाने और ख़ुशी की एक लहर रोम-रोम में दौड़ पड़ने का वह अहसास आज भी कहीं किसी कोने में जिंदा है शायद। कुछ देर बाद वहां आई मेरी सखी जो सारे किस्से से बेख़बर है, उसकी उपस्थिति में जानबूझकर सामने खड़े लगातार रूमानी आँखों से मुझे देखते तुम...पलकें ऊपर उठाना भी मुश्किल कर दिया था तुमने। नहीं याद इस तरह से कब फिर शर्माई होऊँगी। -_-

(3)

त्योहारों के तार यादों से जुड़े होते हैं...उन यादों से भी जिनका इस दिन से कोई सम्बन्ध होता ही नहीं। वरना क्यों अचानक याद आता मुझे वह आसमानी और नारंगी रंगों पर बनी सफ़ेद बंधेज वाला दुपट्टा, जो तुम्हें इतना पसंद था कि सालों तक तुम्हें उसके रंग याद रहे और एक दिन अचानक तुमने पूछा, ‘क्या अब भी पहनती हो वह दुपट्टा?’ मैं कैसे बताती तुम्हें कि जैसे सांझ से विदा हो जाते हैं उसके रंग...कुछ ऐसे ही विदा हो गए मेरे जीवन से एक और सिमट कर दूसरी ओर लहराते वो खूब लम्बे-लम्बे दुपट्टे!

By Monika Jain ‘पंछी’

Wednesday, November 2, 2016

Relationship Quotes in Hindi

रिश्ते पर सुविचार, सम्बन्ध अनमोल वचन. Relationship Quotes in Hindi. Relation Status, Rishte Sms, Relatives Messages, Bond Thoughts, Kinship Sayings, Lines.
Relationship Quotes in Hindi
Relationship Quotes

  • हममें से कई लोगों को शिकायत होती है जब कोई वर्तमान के किसी क्षण के परिचय, अच्छे से बातचीत होने और कम्पेटिबिलिटी को भविष्य के अच्छे सम्बन्ध और मित्रता के विकास के रूप में नहीं सोचते। मतलब परिचय को बढ़ाने और स्थायी मित्रता में रूचि नहीं लेते।
    खैर! संबंधों या मित्रता में न पड़ने के किसी के कोई भी कारण हों, मुझे लगता है किसी के प्रति आत्मीयता महसूस करने और अच्छे से बातचीत करने के लिए भूत की पृष्ठभूमि या भविष्य की कोई आशा की आवश्यकता नहीं है। वर्तमान क्षणों को पूर्णता से जी लेना भी पर्याप्त है। माध्यम जो भी हो हम वर्तमान क्षण में अच्छे से सम्बंधित हो, अधिक जरुरी यह है। ~ Monika Jain ‘पंछी’
     
  • शरीर के तल पर हो या मन के तल पर अधिकांशत: सांसारिक संबंधों के मूल में व्यापार या सौदेबाजी ही होती है। वह तो बस हम चमत्कारी शब्दों की कारीगरी से व्यापार और लेन-देन को भी बहुत पवित्र नामों से नवाज देते हैं। अब ईश्वर को ही ले लो। शब्द भले ही भक्त और धर्म जैसे हो पर ज्यादातर तो ईश्वर लोगों के लिए उनकी इच्छाओं की पूर्ति, उनके दु:खों के निवारण और उनके मनोरंजन का साधन मात्र ही है। शाब्दिक, वैचारिक और भावनात्मक कारीगरी के बल पर हम खुद और दूसरों को कितना सलीके से मुर्ख बना लेते हैं। :) ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • Whether you are proportional or inversely proportional...you are related. राग की भर्त्सना कर द्वेष को पकड़ लेने से कुछ खास बदलता नहीं, सम्बन्ध तो बना रहता है।...बस और भी पतित हो जाता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • जहाँ आत्मीयता का स्थान दिखावा लेने लगता है, वहां रिश्तों का क्षरण होने लगता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • कभी नीम-नीम कभी शहद-शहद...कुछ ऐसे ही तो होते हैं हमारे रिश्तें। जहाँ प्यार का मीठा शहद होता है तो तकरार वाले नीम की कड़वाहट भी। कभी-कभी हम इन दोनों के बीच वाली अवस्था में भी पहुँच जाते हैं। जब सब कुछ फीका-फीका सा हो जाता है। स्वादहीन, उदासीन, बेरंग! रिश्तों में उदासीनता की यह स्थिति लम्बे समय तक होना अच्छा नहीं। हम खूब लड़ लें, झगड़ लें पर बातचीत बंद नहीं होनी चाहिए। जो बातचीत बंद हुई तो समझो नीम की कड़वाहट से शहद की मिठास तक पहुँचने के सारे रास्ते भी बंद हो गए। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • अनुष्का और विराट के रिलेशनशिप, ब्रेकअप इन सबके बारे में ज्यादा नहीं पता। लेकिन कुछ ज्यादा ही विचित्र 'हास्य बोध' रखने वाले प्राणियों को दिए विराट के जवाब को पढ़कर ख़याल आया...रिश्ते ऐसे हों कि गर टूट भी जाए तब भी इस बात को लेकर हम कभी शर्मिंदा न हो या खुद को न कोसे कि हमने ऐसे रिश्ते बनाये ही क्यों थे। कोई दिल से भले ही निकल जाए लेकिन दिमाग से न उतरे। बल्कि हम टूटने के बाद भी उस रिश्ते पर फक्र कर सकें और उस व्यक्ति का सम्मान भी। क्योंकि वह व्यक्ति रिश्ता टूट जाने पर भी ससम्मान सही बात का समर्थन और गलत बात का विरोध करना जानता है...और इसके लिए उसे कभी उस अतिविचित्र 'हास्य बोध' की जरुरत नहीं पड़ती जो कुंठा से उपजता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुछ गलतियाँ जैसे कभी निष्फल नहीं होती। किसी महाशक्की इंसान से कुछ समय के लिए भी जुड़ने से बेहतर है...जन्म-जन्मान्तरों तक अकेले रहना। ~ Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views about these quotes on relationship.

Wednesday, October 26, 2016

Break Up Poem in Hindi

Break Up Poem in Hindi. Breaking Love Kavita, Broken Relationship with Boyfriend Poetry, Marriage Breakup Shayari for Him, Story, Sms, Status, Lines, Messages.

Break Up Poem in Hindi

क्यों बदल गयी ये कहानी? 

एक दौर था जब
हर बात मेरी
तारीफ तेरी पा जाती थी
एक दौर था जब…...

फूलों से भी ज्यादा मेरी
ख़ुशबू तुझको भाती थी
कोयल से भी ज्यादा मीठी
मेरी बोली तुझे लुभाती थी
एक दौर था जब…...

मोती बिखर पड़े हो जैसे
मेरी हंसी तुझे यूँ रिझाती थी
जैसे चंदा ने बरसाई चांदी
मुस्कान मेरी यूँ लुभाती थी
एक दौर था जब……

आँखों में मेरी एक गहरा सा
तुझे सागर नज़र जो आता था
घंटो देखा करता मुझको
और मुझमे डूब जाता था
एक दौर था जब……

मेरा गुस्सा, मेरा ताना
तेरा हँसना और मनाना था
मेरी चुप्पी, मेरा गाना
हर बात का तू ही दीवाना था

क्यों बदल गया है दौर वो अब?
क्यों बदल गया है पानी?
क्यों बदल गया है तू बिल्कुल?
क्यों बदल गयी ये रवानी?

तेरा ख्वाब हुआ करती थी मैं
क्यों वहां रही न ये दीवानी?
कुछ भी न रहा पहले जैसा
क्यों बदल गयी ये कहानी?

By Monika Jain 'पंछी'

Listen or watch the video of this poem about break up in my voice.