Thursday, April 14, 2016

Poem on Relationship in Hindi

Poem on Relationship in Hindi. Rishta Kavita, Baby Friendship Lines, Soured Relation Poetry, Kids Love Shayari, Children Rhymes, Bitter Sms, Bitterness Quotes, Status. रिश्ता शायरी, रिश्ते कविता.

एक अनबना रिश्ता...
 
बनते-बनते रह गया। 
एक तीखी सी कड़वाहट, 
न आते-आते आ गयी।
 
मैं चाहती थी तुम्हें देखकर 
हमेशा कुछ यूँ मुस्कुराना... 
जैसे एक नन्हा बच्चा मुस्कुराता है 
अपने सामने बैठे 
दूसरे नन्हें को देखकर!

मैं चाहती थी तुम्हें देखकर 
यूँ शर्माना और छिप जाना... 
जैसे शर्माती है गुड़िया 
अरसे बाद मिलने आये 
किसी जाने-पहचाने 
अजनबी चेहरे को देखकर!
 
मैं छूना चाहती थी तुम्हें
बिल्कुल वैसे ही... 
जैसे छूता है कोई बच्चा 
सामने बैठे दूसरे बच्चे को 
बड़े कुतूहल और प्यार से!

जानकर उसे अपना ही प्रतिबिम्ब
वह आता है उसके निकट 
बड़ी ही उत्सुकता 
और दुलार से!

फिर दोनों हाथों से अपने मुंह को दबाये 
भरता है एक मीठी सी किलकारी! 
जैसे मिल गयी हो उसे 
इस ज़माने की खुशियाँ सारी!
 
एक बहुत प्यारा रिश्ता, 
बनते-बनते रह गया। 
न आते-आते आ गयी।

By Monika Jain ‘पंछी’