Wednesday, May 11, 2016

Cooking Tips in Hindi

Cooking Tips in Hindi. Khana Banane Pakane ke Upay, Tarika. Easy Daily Kitchen Tricks. Healthy, Tasty, Indian Vegetarian Food Making Methods, Preparation Ideas. खाना, रसोई पकाने के टिप्स, उपाय तरीके.
 
Cooking Tips
 
बहुत सत्य है कि खाना प्रेममय होकर बनाना चाहिए। उससे स्वाद पर गहरा असर पड़ता है। लेकिन लोगों को घंटों भूखा मारकर कुकिंग में आनंद लेते रहना आपके प्रेममय होने को तो नहीं दर्शाता, हाँ आपके अहंकार और असंवेदनशीलता को जरुर प्रदर्शित कर देता है। जिन्हें सिर्फ अकेजनल कुकिंग करनी हो वे रसोई में घंटों लगा सकते हैं। जिनका काम सिर्फ कुकिंग हो वे भी। लेकिन जिन्हें दिन में हजारों काम करने होते हों उन पुरुषों या महिलाओं को कुकिंग इस तरह करनी होती है कि वह स्वाद, सेहद, रंगत, विविधता सब को बरक़रार रखते हुए भी उपयुक्त समय के भीतर हो सके। किसी भी काम की सफलता का मुख्य कारक है एकाग्रता और वह कार्य सार्थक तभी है जब वह सही समय पर हो जाए। हर काम की तरह खाना बनाते समय भी मन को शामिल कर लेना सबसे जरुरी है। लेकिन बाकी सभी परिस्थितयों को ध्यान में रखना भी उतना ही जरुरी है। चलिए जानते हैं कुकिंग को खाने और बनाने वालों, सबके लिए लाभदायक बनाने के कुछ टिप्स :
 
  • जिनके लिए सारी सब्जियों की कुकिंग का मतलब होता है : अदरक का पेस्ट, लहसुन का पेस्ट, प्याज का पेस्ट और ऐसे ही तमाम पेस्ट...वे रोजमर्रा की कुकिंग को इतना कॉम्पलीकेटेड न बनाये। कम से कम प्रोसेसिंग और बिना ज्यादा चीजों की मिलावट के भी सब्जियां बहुत जायकेदार बनती है। इससे न केवल समय की बचत होती है, बल्कि जो मुख्य सब्जी आप बनाने जा रहे हैं उसका सहज स्वाद भी बरकरार रहता है। वरना तो रोज एक ही तरह की गंध और स्वाद के आप आदि हो चुके होते हैं और आपको पता भी नहीं चलता। खाने में सभी आवश्यक चीजों को शामिल कीजिये। लेकिन जहाँ तक संभव हो उसमें विविधता भी बनाये रखिये। 
  • हरी सब्जियों (टिंडे, भिन्डी, तुरई, लौकी आदि ) में ग्रेवी के लिए भुनी व छिलके उतरी हुई मूंगफली के पाउडर या कुछ विशेष सब्जियों जैसे पनीर, केर आदि में काजू के पाउडर का उपयोग किया जा सकता है। जिन्हें प्याज, लहसुन आदि से परहेज हैं, या जो इन्हें कच्चा उपयोग में लाना ज्यादा पसंद करते हैं या फिर कभी-कभी नवीनता के लिए भी मूंगफली या काजू के पाउडर का प्रयोग कर सकते हैं। इससे स्वाद भी बेहतर आता है। 
  • उपमा बनाते समय सबसे पहले सूजी को बिना घी/तेल के ऐसे ही भूनें। जब वह पूरी तरह से भुन जाए, उसे अलग ले लें और फिर पैन में घी/तेल गर्म कर बाकी सारी प्रोसेस करें। इससे उपमा खिला-खिला और अधिक स्वादिष्ट बनता है। 
  • हर सब्जी को टमाटर मत बनाईये। बेहतर रंगत, और स्वाभाविक स्वाद के लिए जहाँ-जहाँ संभव हो वहां हरी सब्जियों में नींबू या दही का प्रयोग और दालों में टमाटर का प्रयोग करना उत्तम रहता है। 
  • पोहा, करी, साम्भर को नारियल तेल में बनाकर ट्राई करें। बेहतर स्वाद आता है। 
  • हांडवो बनाते समय पैन में तेल गर्म कर उसमें राई, जीरा, तिल, सौंफ, करी पत्ता आदि डालकर घोल डालने की बजाय...राई, जीरा, तिल, सौंफ आदि को पहले ही जरा से घी/तेल में चटकाकर हांडवो के घोल में मिला सकते हैं। इसके बाद हांडवो घोल को सीधे पैन में तेल/घी डालकर बनाये। इससे राई जीरा आदि जलेगा नहीं और एक नया स्वाद भी मिलेगा। 
  • सब्जियों के पराठें कभी-कभी बदलाव के लिए बिना स्टफिंग के भी बनाये जा सकते हैं। जैसे लौकी का पराठा बनाना हो तो लोकी को किसकर आवश्यक सामग्री के साथ उसका मसाला छौंक लें। इसे थोड़ी देर पकने दें। अब इसमें आटा मिलाकर आटा लगा लें। इस तरह बिना स्टफिंग के पराठें बनायें। बच्चों को सब्जियां खिलाने का यह बेहतर तरीका है। इस तरह से मटर, पत्ता गोभी, मूली, प्याज, तुरई, मैथी, पालक आदि के पराठें बनाये जा सकते हैं।  
  • सब्जियों में धनिये के सूखे बीज के पाउडर के साथ-साथ सौंफ के पाउडर का प्रयोग भी करें। इससे सब्जियां स्वादिष्ट बनती हैं।
 
By Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add more cooking tips via comments.