Sunday, May 15, 2016

Gender Equality Essay in Hindi

Gender Equality Essay in Hindi. Sex Discrimination. Rise above Limitations, Feminist, Feminism, Boys and Girls are Equal, Inequality, Ling Bhed Nibandh. लिंगभेद निबंध.
 
सीमाओं से परे... : फेसबुक पर हुई एक चर्चा

 
Raja Ravi : यही हमारी भी पहल रही है। नारियों के प्रति अलग दृष्टिकोण क्यों? पता नहीं क्यों मुझे लगता है नारी सशक्तीकरण के तथाकथित प्रयासों से बस नारी अबला ही सिध्द होती है। कोई व्यर्थ प्रयास नहीं, बस सामान्य मानवता का दृष्टिकोण ही नारियों के हित में श्रेयस्कर है।

Pankaj Kumar : आपने तो समझ लिया और इन सबसे ऊपर भी उठ गयी। लेकिन दमदार लेखनी दूसरों को समझाती है, ऊपर उठाती है, अँधेरे से बाहर निकालती हैं। और आपकी लेखन क्षमता रेयर ही है।

Vinod Singhi : नारीवाद पुरुषवाद के परे हमारी संवेदना मानवता के एक ऐसे कुचले और शोषित पक्ष के एहसास को महसूस कर सकती है और अपनी अनुभूतियों को शब्द भी दे सकती है। यह भी एक समानुभूति का ही उपक्रम होता है। हाँ, विषयों का चुनाव लिखनेवालों का अपना prerogative होता है। मैंने मोनिका जी को बहुत नहीं पढ़ा लेकिन उनके इस आलेख में उनकी संवेदना को महसूस कर पा रहा हूँ। मेरा अपना मानना है कि उन्होंने नारी को अपनी कलम का विषय जरूर बनाया होगा। यह स्वागत योग्य है कि 'वाद' की छोटी बात में वे नहीं उलझ रही।

Khanindra Talukdar : Creatures created by God are divided by ignorant man in various species. Man has praised himself recommending as the best of all. Then we fools have divided ourselves in different sects calling hindu, muslim and so on. No, we are at all satisfied with these division, we need more. So let us be ST SC OBC and so on. Now it’s turn to be male and female. Feminism, racism etc. western theories are imposed on us. We adore them because these have come from foreign brain. Yes, they are superhuman but we have left no man.

Monika Jain 'पंछी' : जी, सही है। इसके अलावा कई विभाजन सिर्फ सुविधाओं के लिए किये गए, लेकिन उन्हें पहचान समझ लिया गया। 

Khanindra Talukdar : Identity crisis :) of predestined man but full of egotism. 
 
Ritu Rajvanshi : You could be true and it is your prerogative to pick and pen your thoughts and experiences upon any subject of your liking you wish to or wish not to. Nobody has authority to question this. But let me ask you or rather better to say raise an objection when you say "जब आप वाकई में जीवन को समझने लगते हैं, तो आप स्वत: ही पक्षपात और भेदों से ऊपर उठने लगते हैं। " I would say how is it possible to rise above the basis identity of gender one has got? Can a man rise above or forget his manhood or a woman her's? Or do you imply that talking of narivad is some sort of bhedbhav against another sex? I am sorry to say, but this is not the correct definition of feminism however most men mock feminism understanding it this only. Feminism is neither discriminatory nor reverse discrimination to revenge the historical deficit women have faced. It is just a social theory which aims to bring equal status of both the sexes. Some man too think it too be just any male-bashing negative agenda but in reality it is not so. It is totally moral and just demand to bring woman at equal pedestal with men. Just it.

Monika Jain 'पंछी' : ऋतु, आपने स्टेटस को सही से नहीं लिया। जेंडर क्या हर एक सीमा से ऊपर उठना बिल्कुल संभव है, लेकिन वह अंतिम स्थिति होती है। उससे पहले लम्बा चौड़ा रास्ता है। जिस पर हम सब कहीं न कहीं होते हैं। मैंने यह नहीं कहा है कि जो नारी हितों पर लिखते हैं वह गलत करते हैं। मैंने यह कहा है कि जो जीवन को समझने लगते हैं वे नारी क्या किसी के भी साथ इरादतन गलत नहीं करेंगे। जीवन में सब कुछ इतना सम्बंधित है कि जब आप केवल प्रेम या अहिंसा की बात करते हैं तब भी वह बात कितने व्यापक रूप से लागू हो जाती है। इसलिए यह जरुरी नहीं है कि कोई किसी विषय विशेष पर लिख रहा हो सिर्फ तभी वह उस विषय के प्रति संवेदनशील है।

इसके अलावा एक चीज और है। जैसे कोई महिलाओं के साथ होने वाली घरेलु हिंसा पर कुछ लिखता है। हो सकता है किसी डर से, कानून की वजह से, नाम ख़राब हो जाने या किसी और वजह से कोई मारपीट करना छोड़ दे। लेकिन उसके मन या चेतना में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है तो उसके भीतर की हिंसा किसी और रूप में निकलेगी, लेकिन निकलेगी जरुर। निशाना कोई और हो सकता है। लेकिन जो जीवन को वास्तव में समझेगा उसकी चेतना में परिवर्तन जरुर होगा और ऐसे में हिंसा का रूप नहीं बदलेगा बल्कि वह रहेगी ही नहीं। तो यहाँ बात लिखने वालों की नहीं है, यहाँ बात ग्रहण करने वालों की है।

नारी पर मैंने भी बहुत लिखा है। लिखा जाना ही चाहिए। लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो इन अलग-अलग तरह के वाद के जरिये अपनी राजनैतिक आकांक्षाओं की पूर्ति भर करते हैं। नारीवादियों में कई छद्म नारीवादी मिलेंगे आपको जो बातें बहुत बड़ी-बड़ी करेंगे लेकिन उनके मन में नारी एक शरीर से ज्यादा भर कुछ नहीं है।

Ritu Rajvanshi : You say that it is quite possible to rise above every limitations (seema, your word), I ask if, being a woman is some kinda limitation? Or conversely being man is in some way limiting oneself to any border? Yeah, sure, I understand, you are saying it in metaphysical or spiritual sense, as I can guess as I have read your past posts too. Even in that sense and not in worldly sense, is it possible to forget or rise above our gender? Or the sex one is born in? Religious scriptures too (of all religions) are too heavily biased against women in terms of the status they give to women in not just worldly affairs but in liberatory sense as well. Bhagwad Geeta puts the blame of future generation getting rotten to 'adulterous' women. What to say of semitic religious where the status of woman is nothing more than that of a commodity, a thing, a piece of property. Tulsidas wants women and low born people to be beaten heavily. Our whole sociological construct is anti-women, and misogynistic. Even women due to this conditioning have become increasingly anti women. My point of contention is this too - if the whole world around you is adamant of making you realize that you are a woman and you should do this and not that, if you do this you become a bitch, if you don't wear that, you become a slut. The ever increasing sense of insecurity of getting targeted if left alone at that particular hour of night, the constant stigma of a single woman raising a kid and the lusty eyes threatening one of sexual violence.

Forgive me if I sound too pessimistic but tell me, if is it possible for a woman in a country like ours to rise above her gender, where she is constantly reminded every time in all possible ways that she is a woman? It's really a sad state of affairs.

Manuj Jain : Without contesting any of the points you have raised here I would like to see what are the established facts.

Are women ill-treated here in this nation? Yes. If women are ill treated in the world? Yes. If religious scriptures sanction this? Not sure but let's for the sake of argument assume that they do. Okay. Tulsidas say this and Vedvyas says that is of no relevance here because when we talk of spirituality, it is independent of the 'religion' we follow. Religion and Spirituality are too different concepts all together. It is quite possible that religious people are non-spiritual in their outlook as per my experiences. Let's come back to the original point, otherwise I being myself run the risk of delving or sidetracking the main issue. Coming to your question, Is it possible for a woman to forget that she is a woman? 'Forget' is not appropriate word here, 'rising above the gender' could carry more weight but still this too is not fully appropriate. Let's just for the sake of convenience put a more appropriate meaning of this term 'rising above'. Nobody is saying you to 'forget' your sex. Also it is nobody's assertions that you somehow lose memory and cease to know about your gender. Also it does not mean that you start pretending to be a man. Narivad is, as you defend is not a male-bashing agenda but a way to harmonize the social construct embedded in misogyny. I support this view that it is wrong/ terminological inexactitude to say women are inferior to men. It is blatant idiocy to say something of this sense. But thinking the other way and saying 'men and women are equal' is also another extreme. Men and women are not equal, never equal but that does not imply that either of the two sexes is inferior to other. Men have their own especially endowed gifts from nature so do women have. Thus rising above the gender means making those differences nature has made up in the sexes irrelevant/non consequential. They don't bother you, they simply cease to exist.

Say for an example - A woman is beaten brutally by her in-laws for dowry or for 'producing' female kids and I as a man is sympathizing with her then, as per rising above the gender implies, I should not be required to undergo 'परकाया प्रवेश' in order to feel her pain. It shall be coming out of me naturally and with सहजता. If a woman is fighting for any maltreatment melted out at men, it ought not be mandatory for her to undergo a sex change surgery. It shall be coming out of her with sheer compassion for humanly. So when she says सीमाएँ, in my opinion she implies not boundaries or borders, she talks of human-made constructs like language, state, religion or nation. In general sense, it could also mean of 'non-requirement' of any immediate identity of being a man or woman. That's it. How so ever, it is my personal belief that any -ism, being it feminism, black-ism, dalit-ism, which has roots in negativity is bound to die and create disturbances in harmony of the society, howsoever noble your aims be. I am not saying that feminism is a negative agenda, because for any person it has got different definitions altogether. But for the general public the 'filtered' definition which comes from west, is very very regressive and has negative connotations attached with it. Therefore it is also the duty of feminists to present it in true forms. By the way thanks for opening another facet of feminism.

Monika Jain 'पंछी': आध्यात्म जीवन से कोई अलग चीज नहीं है। हाँ सुविधा के लिए इसे हम एक अलग विषय मान लेते हैं, लेकिन यह किसी के भी जीवन से अलग है नहीं। यह बस जीवन जीने का एक तरीका है। जो किसी न किसी मात्रा में सामान्यत: सबके जीवन में शामिल होता ही है। नारी के साथ होने वाले किसी भी भेदभाव का मैं समर्थन कहाँ कर रही हूँ? न ही मैं ऐसा कह रही हूँ कि आपने जो कहा है वैसा कुछ हमारे चारों ओर नहीं होता है। बल्कि खुद एक बार मैंने यह स्टेटस डाला था : "बस इतनी सी आज़ादी दोगे कि हमेशा यह याद न रखना पड़े कि मैं स्त्री हूँ।" इसलिए आपकी इन बातों से मेरा विरोध है ही नहीं। सीमाओं से ऊपर उठ जाने की बात भी केवल नारी के लिए नहीं है। मुख्य रूप से तो यह आवश्यक ही उनके लिए है जो भेदभाव करते हैं। मैंने जिसके साथ अन्याय हो रहा है उसकी बजाय जो अन्याय कर रहा है उसके सीमाओं से ऊपर उठने के हम सब के प्रयासों की बात की है। और ऐसे ही प्रयासों के परिणाम स्थायी हो सकते हैं जो व्यक्ति को वास्तव में सीमाओं से ऊपर उठाये। जो नारी को नारी से पहले एक इंसान की तरह देखना सिखाये। मेरा विरोध नारी के लिए कुछ लिखने, करने किसी से भी नहीं है। जो प्रयास जरुरी है वह होने ही चाहिए। मैंने बस एक विचार रखा था कि किसी भी समस्या का समाधान केवल उस विषय विशेष पर बात या कार्य करने से ही हो यह जरुरी नहीं है। क्योंकि कई फैक्टर शामिल होते हैं।

बाकी यह सही है कि कोई व्यक्ति विशेष अपने भीतर आध्यात्मिक उत्थान से हर सीमा तोड़ सकता है। बाहरी बाधाएं तो हमेशा रहेंगी ही। लेकिन उससे भी ज्यादा भीतरी बाधाएं होती है। कहाँ क्या लिखा है उस पर मैं नहीं जाऊँगी, क्योंकि कुछ चीजें अनुभव करने की होती है। कई बातों के सन्दर्भ बिल्कुल अलग होते हैं। इसी तरह कोई भी बात इसलिए सच नहीं हो जाती या धर्म/आध्यात्म नहीं हो जाती क्योंकि वह किसी धार्मिक पुस्तक में लिखी है। लिखने वाले पक्षपाती हो सकते हैं। लिखने वालों का मंतव्य कुछ और हो सकता है। ऐसे में अनुभव ही मायने रखता है।