Thursday, June 30, 2016

Amazing Facts about Countries in Hindi

देशों के बारे में. Amazing Facts about Different World Countries in Hindi. Various Nations, Interesting Information, Fun, Weird, Random, Desh Ke Baare Mein.
 

  • 1386 ईस्वी में फ्रांस में एक सुअर को एक बच्चे के क़त्ल के अपराध में फांसी पर लटका दिया गया था। 
  • सेनफ्रांसिस्को में सड़क किनारे घोड़े के खाद का छह फीट ऊंचा ढेर लगाना गैरकानूनी है।  
  • कैलिफोर्निया में ड्राइवर रहित 60 मील / घंटा की रफ़्तार से अधिक वाहन को चलाना गैरकानूनी है।
  • ऊटाह में सड़क किनारे पेपर बैग में वायलिन कैरी करना गैरकानूनी है।  
  • ओमाहा नेब्रास्का में अगर चर्च में रहते हुए डकार या छींक ली जाती है तो इसे अपराध माना जाता है।  
  • न्यूजर्सी में किसी की हत्या करते समय बुलेट प्रूफ जैकेट पहनने की मनाही है।  
  • अलास्का में किसी भालू को नींद से जगाकर उसकी फोटो लेना सख्त मना है।  
  • मियामी में अगर कोई किसी जानवर की नक़ल करता है तो इसे कानूनन अपराध माना जाता है।  
  • वाशिंगटन के बेलिंगघम में नृत्य के समय महिला द्वारा तीन कदम पीछे लेना गैरकानूनी माना जाता है।
  • कैलिफ़ोर्निया में महिलाएं हाउसकोट पहनकर गाड़ी नहीं चला सकती।   
  • मिशिगन में मार्ग में चलते हुए अगर कीचड़ से भरा कोई गड्डा आ जाता है तो महिलाओं को अपनी स्कर्ट 6 इंच से ज्यादा ऊपर करने की अनुमति नहीं होती।  
  • इदाहो में किसी भी पुरुष द्वारा अपनी प्रेमिका को 50 पौंड से ज्यादा भारी कैंडी बॉक्स देने की अनुमति नहीं है।  
  • स्वीडन में अपार्टमेंट में रहने वाला आदमी रात 10 बजे के पश्चात् टॉयलेट में फ्लश नहीं कर सकता।
  • अलबामा में रेलवे ट्रैक पर नमक रखने की स्थिति में सजाये मौत तक दी जा सकती है।  
  • बायोमिंग में जून के माह में खरगोश की फोटो लेने की अनुमति नहीं है।  
  • टेक्सास में तार मोड़ने वाले औजार जैसे प्लास आदि रखना अपराध माना जाता है।  
  • कोलंबिया में गॉसिप करते पाए जाने पर अपराधी को 90000 डॉलर तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है।  
  • कैलिफ़ोर्निया के पैसिफिक ग्रोव में तितली को छेड़ने पर सजा भी हो सकती है।  
  • केटुंकी में साल में एक बार नहाना कानूनन आवश्यक है।  
  • स्टेट ऑफ़ अरकंसास में अगर राज्य के नाम गलत उच्चारित करना सख्त मना है।  
  • कंसास में नंगे हाथों से मछली पकड़ना कानूनन अपराध माना जाता है।  
  • यू एस के टेक्सास में अगर कोई किसी की गाय पर चित्रकारी करता है तो उसे सजा भी हो सकती है।
  •  स्वीडन में अगर कोई सील को नाक पर गेंद का संतुलन बनाने की ट्रेनिंग देते हुए पकड़ा जाए तो उसे सजा हो सकती है।  
  • फीनलैंड में अगर कोई व्यक्ति ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते पकड़ा जाता है तो उसकी आय के अनुपात में उसका जुर्माना तय किया जाता है।  
  • जॉर्जिया के अटलांटा में जिराफ को बिजली या टेलीफोन के खम्भे से नहीं बाँधा जा सकता है। इसे कानूनन अपराध माना जाता है।  
  • न्यूयार्क में ग्रीन पॉइंट रेस्तरां में खाने के दौरान बातचीत करना मना है। अगर कोई व्यक्ति बातें कर यहाँ का नियम तोड़ता है तो उसे बाहर जाना पड़ता है। लोगों को यह बहुत पसंद है और इसे वे मैडिटेशन केंद्र की तरह देखते हैं। यह रेस्तरां भारत में बोद्ध भिक्षुओं के भोजन के समय बात न करने से प्रेरित है।  
  • एक समय में स्विट्जरलैंड में जोर से अपनी कार का दरवाजा बंद करना गैरकानूनी था। 
  • चीन ने सिल्क बनाने की तकनीक को 3000 वर्षों तक राज बनाये रखा। अगर कोई इस तकनीक के बारे में बताता हुआ पाया जाता तो उसे देशद्रोही करार देकर मौत के घाट उतार दिया जाता था।  
  • ओकलाहोमा में अगर कोई किसी कुत्ते को चिढ़ाने की कोशिश करता है तो उसे हिरासत में ले लिया जाता है।
 
How are these facts and information about various countries of the world?


Wednesday, June 29, 2016

Jain Philosophy : Tattva Gyan Parichay in Hindi

जैन धर्म दर्शन का तत्त्वज्ञान, तत्त्व परिचय. Jain Dharma Philosophy Tattva Gyan in Hindi. Jainism Tatva Parichay, 7 Fundamental Principles & Truths, Siddhant.
 
जैन दर्शन : तत्त्व विवेचना 
Jain Dharma Philosophy Tattva Gyan Parichay In Hindi
तत्त्व से आशय वस्तु के वास्तविक स्वरुप या स्वभाव से है। जैन दर्शन में सात तत्त्व माने गए हैं।
  1. जीव (Living Beings or Soul)
  2. अजीव (Non Living Beings)
  3. आस्रव (Influx of Karmas)
  4. बंध (Bondage of Karmas)
  5. संवर (Stoppage of Karmas)
  6. निर्जरा ( Destruction of Karmas)
  7. मोक्ष (Salvation or Liberation)
जीव (आत्मा) : आत्मा, चेतना या प्राण को ही जीव कहा जाता है। सुविधा के लिए जगत की प्रत्येक वस्तु जिसमें चेतना या प्राण है उसे हम जीव कहेंगे। जैसे मनुष्य, पशु-पक्षी, कीड़े-मकोड़े, पेड़-पौधे आदि। वस्तुत: आत्मा और शरीर दो अलग-अलग तत्त्व हैं। जिसमें आत्मा जीव व शरीर अजीव है। आत्मा का पुनः उत्पादन नहीं होता है। आत्मा को अजर, अमर, अविनाशी व निराकार माना जाता है। मृत्यु के समय सांसारिक आत्मा पुराने शरीर को छोड़कर नए शरीर को ग्रहण करती है। इस आधार पर जीव दो प्रकार के होते हैं : मुक्त आत्मा (सिद्ध जीव) और अमुक्त आत्मा (संसारी जीव)। संसारी जीवों को पुनः इन्द्रियों के आधार पर (एकेंद्रिय से पंचेन्द्रिय) पांच भागों में विभाजित किया जाता है।

अजीव : जीव (आत्मा/चेतना) के अतिरिक्त जो भी जगत में विद्यमान है उसे अजीव कहते हैं। आत्मा के बिना हमारा शरीर भी अजीव ही है। वस्तुएं जैसे कंप्यूटर, टेबल, घड़ी, पेन आदि अजीव के उदाहरण हैं। अजीव पांच प्रकार के होते हैं : पुद्गल, धर्म, अधर्म, आकाश और काल।

आस्रव : कर्मों की आमद को आस्रव कहा जाता है। प्राणी के जन्म और मृत्यु के चक्र में भटकने का कारण उसके कर्मों को ही माना जाता है। फिर चाहे वे पूण्य हो या पाप। मन, वचन और काया तीनों ही स्तरों पर कर्मों की आमद होती है। यह आस्रव हर क्षण होता रहता है। आस्रव के दो भेद हैं : भाव आस्रव व द्रव्य आस्रव।

बंध : कर्मों का आत्मा के साथ जुड़ना बंध कहलाता है। जब तक इन कर्मों का फल प्राप्त नहीं होता तब तक ये आत्मा के साथ जुड़े रहते हैं। मुख्य रूप से किसी भी कर्म के साथ राग या द्वेष का भाव ही कर्मों के बंधन का कारण बनते हैं। कर्मों का फल केवल तभी मिलता है जब वे आत्मा के साथ जुड़ते हैं। बंध भी दो प्रकार का होता है : भाव बांध व द्रव्य बंध।

संवर : वह प्रक्रिया जिसके द्वारा नए कर्मों की आमद को रोका जाता है, संवर कहलाती है।

निर्जरा : वह प्रक्रिया जिसके द्वारा आत्मा के साथ बंधे कर्मों को नष्ट किया जाता है, निर्जरा कहलाती है। निर्जरा के दो भेद हैं : साविपाक निर्जरा (सकाम), आविपाक निर्जरा (अकाम)। इसी तरह भाव और द्रव्य निर्जरा भी होती है।

मोक्ष : संवर और निर्जरा द्वारा जब जीव के समस्त आठों कर्मों का क्षय हो जाता है, तब उसकी आत्मा जन्म-मरण के चक्र से मुक्त हो जाती है, इस अवस्था को मोक्ष कहा जाता है। सम्यक दर्शन, सम्यक ज्ञान और सम्यक चरित्र मिलकर मोक्ष का मार्ग बनाते हैं। इन्हें त्रिरत्न कहा जाता है। मुक्ति आत्मा का श्रेष्ठतम उद्देश्य माना जाता है।

तत्त्वों को हम एक उदाहरण से समझेंगे। एक जहाज है, जो समुद्र में तैर रहा है। जिसमें कई यात्री यात्रा कर रहे हैं। जहाज किसी जगह से क्षतिग्रस्त हो जाता है जिससे समुद्र का पानी उसमें आने लगता है। जहाज के क्षतिग्रस्त हिस्से को ठीक किया जाता है जिससे कि नया पानी न आ सके। जहाज के भीतर भरे पानी को बाहर निकाला जाता है, और जब जहाज में पानी बिल्कुल नहीं रहता तब यात्री समुद्र को पार कर लेंगे।

  • यहाँ पर जहाज अजीव (शरीर) और यात्री जीव (आत्मा) हैं। 
  • जहाज में समुद्र के पानी का आना आस्रव (कर्मों का प्रवेश) है। 
  • जहाज में जो पानी भर गया है, वह बंध कहलायेगा। 
  • जहाज के क्षतिग्रस्त हिस्से को ठीक करके पानी के आगमन को रोकना संवर (नए कर्मों की आमद को रोकना) कहलायेगा। 
  • जहाज में भरे पानी को बाहर निकालना निर्जरा (जमा कर्मों का क्षय) कहा जाएगा। 
  • यात्रियों द्वारा समुद्र को पार करना जीवात्मा द्वारा इस संसार सागर को पार कर मुक्त हो जाना (मोक्ष) कहलायेगा।

    सभी तत्त्वों की विस्तृत विवेचना हम आगे पढ़ेंगे।


Sunday, June 26, 2016

Hindi Essay on Unity in Diversity

अनेकता में एकता पर निबंध, भेदभाव. Hindi Essay on Unity in Diversity. Anekta mein Ekta, Inferiority Superiority Complex, Uniqueness, Discrimination, Exploitation.
 
मुक्ति भेदभाव से चाहिए अनूठेपन से नहीं
 
बात तब की है जब मैं कोई पांचवी या छठी क्लास में पढ़ती थी। एक बार मम्मी के साथ मैं कहीं रास्ते पर थी। हमें कहीं बाहर जाना था, बस का इंतजार हो रहा था और मम्मी मुझे एक जगह बैठाकर पास में किसी को बुलाने चली गयी। तभी वहां पर सफाई कर्मचारी की एक लड़की आई और आकर मेरे पास बैठकर मुझे बार-बार छूकर दूर चली जाती, और स्थानीय भाषा में कहती, 'देख! मैंने तुझे छू लिया...देख! मैंने तुझे छू लिया।' उसने यह पांच से छ: बार किया। मैं तटस्थ बैठी रही। उसका यह व्यवहार थोड़ा सा अजीब लगा पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी...तब बहुत ज्यादा अंतर्मुखी, शर्मीली और मासूम भी थी। लेकिन उसके जाने के बाद कुछ देर सोचा तो मन उसके प्रति दया से भर आया। क्योंकि मुझे चिढ़ाने और परेशान करने की कोशिश में वह खुद अपना ही अपमान कर रही थी। तब इतनी समझ तो नहीं थी कि उसे कुछ समझा पाती, पर आज भी इतना ही समझ पायी हूँ कि औरों को कुछ समझाने से पहले खुद को यह समझाना बहुत जरुरी है कि न मैं किसी से श्रेष्ठ हूँ और न ही किसी से कमतर।
 
अपनी कमियों को स्वीकार कर उनसे ऊपर उठना निश्चय ही जरुरी है लेकिन इसके लिए मन में हीनता से प्रेरित ईर्ष्या व द्वेष की कोई ग्रंथि रखने की आवश्यकता नहीं क्योंकि अवसर मिलने पर यही इन्फीरियरिटी कॉम्प्लेक्स सुपीरियरटी कॉम्प्लेक्स बन जाता है और ये दोनों ही कॉम्प्लेक्स कई अपराधों और समस्यायों की जड़ हैं। श्रेष्ठता के सारे मापदंड तो हमने ही निर्मित किये हैं। बाकी तो जितने भी जीवन इस धरती पर हैं वे बस अनूठे हैं...हीन या श्रेष्ठ नहीं।...और अगर हम चेतना को श्रेष्ठता का सबसे उपयुक्त मापदंड माने तब भी चेतना की श्रेष्ठता इसी में है कि वह किसी को हीन न समझे। सबमें स्वयं की अनुभूति एक आदर्श स्थिति है, पर पूर्ण आदर्श से पहले एक लम्बा रास्ता है और समाधान की दिशा यही है। बाकी तो कितनी भी क्रांतियाँ होती रहे, यह दुनिया नहीं बदलने वाली।
 
क्योंकि अक्सर जितनी भी क्रांतियाँ और आन्दोलन होते हैं वे बस शोषक को शोषित और शोषित को शोषक में रूपांतरित कर देने की कोशिश भर है। सामान्यतया कोई भी प्राणी शोषक और शोषित दोनों ही होता है। कई बार तो बात बस अवसर मिलने और न मिलने की हो जाती है। ऐसे में सबसे जरुरी है शोषक और शोषित के इस कुचक्र से ऊपर उठने के मार्ग पर बढ़ने की। इसके लिए जरुरी है कि भिन्नता को बस भिन्नता के तौर पर लिया जाए। उसे भेदभाव या किसी को नीचे और ऊपर समझने का आधार न बनाया जाए। पहले भिन्नता को भेदभाव का आधार बनाना और फिर समानता के लिए संघर्ष...आपको नहीं लगता कहीं कुछ चूक रहा है। क्योंकि समानता तो संभव है नहीं...और मुक्ति तो भेदभाव से चाहिए...अनूठेपन से नहीं। जब तक हम भिन्नता को एक अद्वितीयता के रूप में स्वीकार कर भेदभावों से ऊपर नहीं उठेंगे, तब तक क्रांतियाँ सिर्फ भेदभाव और शोषण के तरीकों और शोषक-शोषितों में बदलाव भर करेगी, इससे ज्यादा कुछ भी नहीं। इसलिए आवश्यक है समाधान के उस रास्ते पर बढ़ना जो विभिन्नता में एकता को महसूस कर सके।
 
By Monika Jain ‘पंछी’

How is this article about feeling unity in diversity?

Poem on Feelings and Emotions in English

Poem on Mixed Feelings and Emotions in English. Sentiments Poetry, Sensation Rhymes, Mood Verses, Moody, Happiness Sadness, Joy Sorrow, Light Dark, Up Downs.

Sky Dwells in Heart

Sky dwells in heart
Shows different castes.
Clouds of pain rain sometimes
Stars of joy twinkle at times.

Sometimes fog covers the heart
At times light shoos the dark.
Birds of dreams fly with wings
Sometimes frustration too pings.

Sometimes pleasant air flows
At time windstorm blows.
Sometimes rainbow spread colors
At times problems make them blurred.

Up and downs are part of life
In all the odds we should survive.
Whether sorrow or enjoyment
None of these are permanent.

By Monika Jain 'Panchhi'

How is this poem about feelings and emotions? 


Interesting Facts in Hindi

Interesting Facts in Hindi. Amazing General Science Knowledge, Funny, Unknown, Strange, Cool, Incredible, Strange, Fun, Crazy, Knowledgeable, Mysterious Data.
 
Interesting Facts

  • स्टार पाथ्स एनवायरनमेंट फ्रेंडली पेवमेंट्स होते हैं जो कि अँधेरे में भी ग्लो करते हैं और नेचुरल लाइट के लेवल तक एडजस्ट हो जाते हैं। ऐसे में जिन सड़कों पर लाइट नहीं होती वे भी रात के वक्त दिखाई देने लगती है। 
  • सबसे पहला पैराशूट इटली के विख्यात वैज्ञानिक लियोनार्डो द विंसी ने लगभग 500 साल पहले बनाया था।  
  • आयरन गोल इंक, जो ओक एप्पल से मिलती है, कभी फीकी नहीं पड़ती। इसी वजह राजनेता आज भी इसे जरुरी कागजों पर हस्ताक्षर करने के लिए इस्तेमाल करते हैं।  
  • फिल्म गाँधी में महात्मा गाँधी के अंतिम संस्कार के दृश्य को फिल्माने के लिए 3 लाख लोगों को बुलाया गया था। इनमें से एक लाख को कुछ पारिश्रमिक दिया गया बाकि दो लाख ने निशुल्क काम किया था।  
  • गाय का दूध शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरुरी समझा जाता है। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में अधिकांश लोगों को गाय के दूध से ही एलर्जी होती है।  
  • सपनों में हम सिर्फ वही चीजें देख सकते हैं, जो हम पहले से देख चुके हैं।  
  • एक औसत हिमशैल का वजन लगभग दो करोड़ टन होता है।  
  • गर्म पानी ठन्डे पानी से पहले बर्फ में बदल जाता है।  
  • शहद एकमात्र ऐसा खाद्य पदार्थ है जो हजारों वर्षों तक भी ख़राब नहीं होता।  
  • अंग्रेजी अल्फाबेट में आई (i) के ऊपर आने वाली बिंदी को टिटल कहा जाता है।  
  • क्रिकेटर युवराज सिंह ने एनीमेशन फिल्म 'जंबो' में अपनी आवाज़ दी थी।  
  • ज्यादातर विज्ञापनों में घड़ी में दस बजकर दस मिनट का समय दिखाया जाता है।  
  • सबसे पहला कैमरा वर्ष 1894 में बना था। उससे अपनी फोटो खींचने के लिए उसके सामने 8 घंटे तक बैठना पड़ता था।  
  • कराटे का मतलब खाली हाथ होता है।  
  • जंगलों में आग लग जाने पर यह नीचे की बजाय ऊपर की ओर तेजी से बढ़ती है।  
  • औसत रूप से हर दिन जन्म लेने वाले 12 बच्चे किन्ही और माता-पिता को दे दिए जाते हैं।  
  • विश्व के अभी भी 30% लोग ऐसे हैं जिन्होंने कभी मोबाइल का प्रयोग नहीं किया।  
  • समुद्र की दस किलोमीटर गहराई तक पहुँचने के लिए एक भारी वस्तु को एक घंटे का समय लगता है।  
  • मसालों की निर्माता प्रसिद्द भारतीय कंपनी एम. डी. एच. का पूरा नाम महाशियाँ दी हट्टी है।  
  • अमेजन बेसिन सबसे वृहद् क्षेत्र है (लगभग 330075 वर्ग किमी.) जो कि वनों के अधीन है।  
  • सदी के अंत तक वर्तमान समय की 7 अरब आबादी 20 अरब तक पहुँच जायेगी।  
  • गाया जाने वाला सबसे आम गाना ‘हैप्पी बर्थडे’ है।  
  • भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, ईरान के साथ-साथ सभी अरब देशों में भी जलेबी बड़े ही चाव से खायी जाती है।  
  • किसी झंडे के खम्बे पर लगी गेंद को ‘truck’ कहा जाता है।  
  • 1904 ईस्वी में सबसे पहली घड़ी बनायी गयी थी।  
  • पेट्रोल के बाद कॉफ़ी एक ऐसी चीज है जिसका व्यापार सबसे अधिक होता है।  
  • बिजली गिरने से जो लोग मृत्यु को प्राप्त होते हैं, उनमें से 80 % पुरुष होते हैं।  
  • रात और दिन के तापमान में रेगिस्तान में काफी अंतर पाया जाता है।  
  • स्तनधारी जीवों सहित कई प्रजातियों के आवास का स्थल रेगिस्तान होते हैं।  
  • विश्व की लगभग 13 % जनसँख्या रेगिस्तानों में निवास करती है।  
  • चाँदी बहुत ही नर्म तत्व है। इसलिए चाँदी से गहने बनाने के लिए 92.5 % चांदी और 7.5 % तांबे का प्रयोग किया जाता है।  
  • 24 कैरेट का सोना पूर्ण शुद्ध नहीं होता। इसमें कॉपर की कुछ मात्रा होती है।  
  • एक जम्बों जेट में एक बार में भरे जाने वाले पेट्रोल की मात्रा से एक कार चार बार धरती का चक्कर लगा सकती है।
 
How are these facts? Did you find these interesting? 
 
 

Saturday, June 25, 2016

Amazing Facts about Animals in Hindi

जानवरों, पशुओं के बारे में जानकारी. Amazing Facts about Animals in Hindi for Kids. Interesting Creatures Information, General Knowledge, Funny, Fun, Weird.
 
Amazing Facts about Animals

  • लकड़ी खाने के मामले में दीमक का कोई जवाब नहीं, पर मजेदार तथ्य यह है कि हर तरह की लकड़ी खा जाने की कुवत रखने वाली दीमक स्वयं इसे पचा भी नहीं सकती। इसे पचाने के लिए दीमक को दूसरे सूक्ष्म जीव के साथ पार्टनरशिप करनी पड़ती है, जो इसके साथ इसी की आँतों में बसा रहता है। इस पार्टनरशिप में दीमक का काम सिर्फ लकड़ी को चबाकर इसे निगल लेना भर होता है और आँतों में बैठे दूसरे पार्टनर, जो प्रोटोजोअंस कहलाते हैं, इस लकड़ी की लुगदी को भोजन में बदल देते हैं, जिस पर दोनों अपना जीवन निर्वाह करते हैं। 
  • पिस्सू अपनी लम्बाई के 350 गुने ऊँचाई तक कूद सकता है।
  • शुतुरमुर्ग पर 80 साल के सर्वे के दौरान ऐसा कोई केस नहीं पाया गया जब उसने अपना सर रेत में न दफनाया हो।  
  • टाइगर्स अपना खाना शेयर करते हैं। मादा और बच्चों को पहले खाने देते हैं। जबकि लायन अपने किये हुए शिकार को खाने के लिए एक दूसरे से लड़ पड़ते हैं। लगभग 90 % मादा शेर शिकार करती हैं।  
  • घोड़ों के दांतों को गिनकर नर और मादा की पहचान की जा सकती है। अधिकतर नरों के दांत 40 जबकि मादा के दांत 36 होते हैं।  
  • सामान्यतया एक कुत्ते की आँखों की रौशनी मानव से अच्छी होती है लेकिन उतनी रंगदार नहीं। 
  • कुत्ते और बिल्लियाँ मनुष्य की तरह लेफ्ट या राइट हैंडेड होते हैं।  
  • चूहों की संख्या बहुत तीव्र गति से बढ़ती है। एक जोड़ा एक साल में लाखों संतानें पैदा कर सकते हैं। 
  • चूहों की याददाश्त बहुत अच्छी होती है। वे एक बार कोई रास्ता देख लेते हैं तो उसे दोबारा नहीं भूलते। 
  • एक चूहा 5 मंजिला इमारत से गिरने पर भी चोट नहीं खाता।  
  • एक ऊँट की तुलना में एक चूहा ज्यादा लम्बे समय तक बिना पानी के जिन्दा रह सकता है।  
  • मगरमच्छ अपनी जीभ को बाहर नहीं निकाल सकता। इसके अतिरिक्त इसका पाचक रस इतना तेज होता है कि यह एक लोहे की कील को भी पचा सकता है।  
  • अधिक गहराई तक जाने के लिए मगरमच्छ अपने पेट में पत्थर निगल लेता है। 
  • आस्ट्रेलिया में पायी जाने वाली नन्हीं डकबिल अपने गालों में विशेष थैलियों के कारण लगभग 600 कीड़ें स्टोर कर सकती है।  
  • शारीरिक तौर पर सूअरों के लिए आकाश की ओर देखना असंभव है।  
  • एक साही का दिल एक मिनट में औसतन 300 बार धड़कता है।  
  • फिलिपींस में मुर्गों की लड़ाई का एक बाज़ार है जहाँ पर 500000 मुर्गों को एक ही समय में लड़ाया जाता है।  
  • चमगादड़ों के सुनने की क्षमता बहुत ज्यादा होती है। वे एक बाल की हरकत को भी सुन सकते हैं।  
  • केंचुआ अपने वजन से दस गुना अधिक वजन खींच सकता है।  
  • दक्षिण अफ्रीका के जंगलों में जहरीली त्वचा वाले मेंढक पाए जाते हैं। आदिवासी इनके जहर को बाणों में लगाकर शिकार करते हैं, इसलिए इन्हें एरो मेंढक कहा जाता है।  
  • नीला रंग मच्छरों को किसी अन्य रंग की अपेक्षा ज्यादा आकर्षित करता है।  
  • गिलहरी का एक दांत हमेशा बढ़ता रहता है।  
  • छिपकली का दिल 1 मिनट में एक हजार बार धड़कता है।  
  • समुद्री केकड़े का दिल उसके सिर में होता है।  
  • धरती पर चींटियों का भार सारे मनुष्यों के भार के बराबर है।  
  • तितली स्वाद का पता अपने पैरों से लगाती है।  
  • साँपों की लगभग 5000 प्रजातियाँ होती है। जिनमें से 725 में विषदंत पाये जाते हैं और 250 ऐसी होती है जिनके एक ही दंश में मानव को मार देने की क्षमता होती है।    
  • बिच्छू की कोई 2000 प्रजातियाँ पायी जाती है। न्यूजीलैंड और अन्टार्कटिका को छोड़कर ये विश्व के सभी भागों में पायी जाती है।

How are these facts about animals?


Poem on Mother's Day in English

Kids Poem on Happy Mother’s Day in English from Daughter, Son. Mother Nursery Rhymes, Mom Poetry, Mommy Birthday Verses, Mummy B’day Lines, Maa Slogans.

You’re Most Beautiful & Divine

Mother!
You are God on earth.
You are creator of universe
who gives birth.

You are like tree
who gives shadow to birds.
You are like sun
who gives light to the world.

You are like soil
who gives life to plants.
You are most unique
we can't live without.

You are like rain shower in summer
You are like spring in autumn of life.
You always protect us from dangers
You are most beautiful and divine.

By Monika Jain 'Panchhi'

To read the hindi version of this poem about mother and mother's day click here.


Friday, June 24, 2016

Nature Quotes in Hindi

प्रकृति पर नारे, कुदरत, सृष्टि, पृथ्वी, ब्रह्माण्ड. Nature Quotes in Hindi. Prakriti Slogans, Mother Earth, Kudrat, Srishti, Universe, Cosmos, Prithvi, Brahmand.

Nature Quotes

  • मनुष्यों द्वारा सिर्फ कानून/नैतिक व्यवस्था हो सकती है न्याय नहीं। असल न्याय तो प्रकृति के हिस्से ही है और उसी के हिस्से रहेगा। एक सीमाहीन, आत्मानुशासित विश्व निसंदेह एक श्रेष्ठतम कल्पना है। यह कल्पना मुझे भी बेहद पसंद है। लेकिन एक सच यह भी है कि यह आदर्श व्यक्तिगत स्तर पर संभव हो सकता है...समूह पर लागू नहीं किया जा सकता। क्योंकि जहाँ-जहाँ लागू करने की बात आई वहां आत्म-अनुशासन रहा ही कैसे? यह तो चेतना के स्तर का विषय है, जिसे एक जैसा कोई कैसे बना सकता है? व्यक्तिगत रूप से सभी को एक जैसा अनुभूत करना निसंदेह संभव है...लेकिन इसे सभी अनुभव करे ही करे यह उद्देश्य लेकर चलना उस आदर्श विश्व के सिद्धांत का ही खंडन है। इसलिए समूह के हाथ में व्यवस्था है एक देश के रूप में, एक समाज के रूप में, कानून के रूप में... बाकी का काम हर एक व्यक्ति को अपने स्तर पर करना है - नैतिकता की बजाय अपनी चेतना को निखारने का काम, जिसमें सहयोगी निसंदेह हम सब लोग हो सकते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • यहाँ लोगों की लाउड स्पीकर वाली भक्ति ने प्रकृति से पंछियों की सुरीली चहचहाहट के साथ शुरू होने वाली सुबहों को भी छीन लिया। कहीं तो, कभी तो, कुछ तो प्राकृतिक रहने दिया होता, प्रकृति के सबसे बुद्धिमान (?) प्राणी! ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • प्रकृति के मूल तत्व से जुड़े बिना भेद समाप्त हो ही नहीं सकते। एक जगह से धुंधले होंगे तो दूसरी जगह उभर आयेंगे। बाहर की क्रांतियाँ कभी-कभी ठीक होती है, लेकिन उससे पहले जरुरत भीतरी क्रांति की है। भीतर जो बदलेगा वह स्वाभाविक और स्थायी होगा। केवल बाहर जो बदलेगा वह बस रूप बदलेगा। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • यहाँ एक ओर परंपरा, धर्म और संस्कृति का शोर सुनाई देता है जो मात्र दिखावा बनकर रह गये हैं, तो दूसरी ओर वेस्टर्न कल्चर हावी है, जो मात्र भ्रम लगता है। इन दोनों से इतर कोई प्रकृति की बात क्यों नहीं करता? कितना आकर्षित करती है वह! ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कहते हैं कि प्रकृति तीन गुणों से मिलकर बनी है...तम, रज और सत्व। सबमें ये गुण अलग-अलग समय में अलग-अलग मात्रा में होते हैं, जिन पर कई कारकों का प्रभाव पड़ता है और इस त्रिगुण प्रकृति को माया कहा जाता है। जो इन तीनों गुणों से ऊपर उठ जाता है (त्रिगुणातीत), वह अपनी वास्तविक प्रकृति (निर्गुण) को पा लेता है। अर्थात् अपने मूल रूप में हम सभी एक ही हैं। आंशिक ही सही कभी-कभी यह अनुभूति होती भी है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हम जब प्रकृति के संरक्षण की बात कहते हैं तो हम अपने ही संरक्षण की बात कह रहे होते हैं। बाकी मनुष्य रहे न रहे...प्रकृति या इस पूरे ब्रह्माण्ड को रत्ती भर भी फर्क नहीं पड़ने वाला। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • प्रकृति अपनी प्रगति एवं विकास में रुकना नहीं जानती और हर अकर्मण्यता पर अपने शाप की छाप लगाती जाती है। ~ गेटे 
  • जो बसे हैं, वे उजड़ते हैं, प्रकृति के जड़ नियम से। पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है? है अँधेरी रात पर दिया जलाना कब मना है? ~ हरिवंश राय बच्चन / Harivansh Rai Bachchan 
  • विवाह के मंत्र कर्त्तव्य बुद्धि दे सकते हैं, भक्ति दे सकते हैं किन्तु माधुर्य देने की शक्ति उनमें नहीं है। यह शक्ति केवल प्रकृति के दिए नियम पालन में है। ~ शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय / Sarat Chandra Chattopadhyay
 
How are these quotes about nature?


Misunderstanding Quotes in Hindi

ग़लतफ़हमी. Misunderstanding Quotes in Hindi. Galatfahmi Status, Misconception Sms, Fallacy Messages, Misinterpretation Quotations, Sayings, Slogans, Proverbs.
 
Misunderstanding Quotes

  • बड़ी समस्या है...भाषा की सीमाएँ नहीं कर पाती मंतव्य को पूरी तरह स्पष्ट और फिर कई बार होने लगते हैं अर्थ के अनर्थ। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • भाषा की सीमायें जो नहीं समझते...उनके पास तर्काभासों का ढेर होता है...और यहाँ भाषा की सीमा का आशय केवल भाषा की शिष्टता व मर्यादा से नहीं, कुछ भी अभिव्यक्त कर पाने में भाषा की कमियों से भी है। ऐसे में मुख्य बात होती है भावार्थ तक पहुँच पाना। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • फेसबुक के कुछ नेगेटिव इफेक्ट्स में से एक जो मुझे सबसे बुरा लगता है, वह है गलतफहमियों को बढ़ावा देना। जितने भी सालों से फेसबुक पर हूँ एक चीज कई बार महसूस की है कि पोस्ट क्या सोचकर लिखी जाती है लेकिन क्या समझकर ले ली जाती है। सिर्फ एक सामान्य विचार को कई बार व्यक्तिगत आक्षेप समझकर ले लिया जाता है। यह अनुभव सभी लोगों का होगा? जहाँ तक मेरा सवाल है व्यक्तिगत टिपण्णी करने वाली पोस्ट सामान्यत: मैं नहीं करती, जो भी लिखती हूँ वह लम्बे समय का ऑब्जरवेशन या अनुभव होता है, जो इत्तेफाक़न कभी-कभी उस समय भी शब्द रूप में आ जाता है जब वैसी ही कोई बात फिर दोहराई गयी हो। लेकिन नफरत, द्वेष या किसी को नीचा दिखाना उसका उद्देश्य बिल्कुल नहीं होता। व्यक्तियों से कोई समस्या सामान्यतया नहीं होती इसलिए ही अनफ्रेंड या ब्लॉक करने की जरुरत भी बहुत कम पड़ती है। लेकिन यह गलतफहमियों को बढ़ावा मिलते देखना और आपसी मनमुटाव और द्वेष का बढ़ना एक अच्छा संकेत नहीं है। विचारों को बस विचारों की तरह लीजिये। उनसे प्रभावित होते हैं तो उन्हें अपनाइए...और पसंद न आये तो अपने विचार बताइये या इग्नोर कीजिये, लेकिन गलतफहमियां मत पालिए। फेसबुक अगर नफरत बढ़ाने का कारण बनता है तो फिर इसके होने का कोई औचित्य नहीं रह जाता। इसे प्रेम बढ़ाने का साधन बनाइये, नफरत फ़ैलाने का नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • उफ़! ये अकाउंट डीएक्टिवेट करो, तो दस लोग सोचने लगते हैं कि हमें ब्लॉक कर दिया। इतने दिन से पढ़ रहे हैं पर इतना सा नहीं जानते?...और मुझ पर भरोसा नहीं तो न सही, कम से कम खुद पर तो भरोसा हो। ~ Monika Jain ‘पंछी’

How are these quotes about misunderstanding? 
 
 

Poem on Self Confidence in English

Poem on Self Confidence in English. Courage, Sailor, Determination, Bravery, Adventure, Boldness Rhymes, Move On Poetry, Faith Quotes, Hope Verses, Sms, Lines.

O Sailor!

O sailor!
Don't frighten with storms
Waves will come and go
You just move on.

Don't afraid of fire
Don't fear of thorns
Your self confidence
will defeat all storms.

If truth and courage are your weapons
Have faith, nothing bad will happen
If hope resides in your eyes
You can win all the fights.

Your dreams will come true
You will reach to destination
You will light up the whole world
with your courage and determination.

By Monika Jain 'Panchhi'

How is this poem about courage and self confidence?


Thursday, June 23, 2016

Indian Quotes in Hindi

भारतीय, हिन्दुस्तानी, भारतवासी. Indian Quotes in Hindi. India, Bharat, Hindustan, Indians, Hindustani, Bharatiya, Bharatwasi, Sms, Status, Sayings, Slogans.
 
Quotes about Indians

  • हमारे देशवासियों की सबसे बड़ी समस्या यह है कि बिना अपना दिमाग इस्तेमाल किये वे बस भेड़ चाल का हिस्सा बन जाते हैं। ईश्वर ने कान दिए हैं सुनने के लिए, आँखें दी है देखने के लिए और दिमाग दिया है सुने और देखे हुए पर सोचने के लिए...पर सोचने का काम तो हमें करना ही नहीं। कोई बात सुनी नहीं कि बस अंधविश्वासियों की भीड़ उमड़ पड़ी। नमक की कमी की अफ़वाह फैली तो लोग 150 और 300 रुपये किलो पर नमक खरीदने पहुँच गए। सुनी सुनाई बातों पर भरोसा करने का ही दुष्परिणाम है कि हमारे देश में हत्यारे, बलात्कारी, रिश्वतखोर, चोर, भ्रष्टाचारी और मानवता को शर्मशार कर देने वाले लोग भी भगवान की उपाधि पा लेते हैं और भगवान की तरह पूजे भी जाते हैं। किसी देश के नागरिकों के लिए इससे ज्यादा शर्म की बात और क्या हो सकती है? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हम भारतीय बाहरी संस्कृतियों से भी कचरा लेते हैं और अपनी संस्कृति से भी कचरा ही...और उस कचरे को बचाने के लिए जान लेने और देने को उतारू भी रहते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अब तक सब कहते आये हैं 'हमें भारतीय होने पर गर्व है।' मुझे उस दिन का इंतजार है जब भारत हम पर गर्व महसूस करेगा। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • पता है हमारी सबसे बड़ी समस्या क्या है? पाखण्ड, दोहरा आचरण! अब इससे बड़ा इसका और क्या सबूत हो कि आरक्षण मांगने वालों से ही सुरक्षा और बचाव की जरुरत पड़ जाए। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • लोकतंत्र पश्चिम का विचार नहीं है, जिसे भारत ने अपना लिया, बल्कि इसकी जड़ें तो हमारे वेदों में काफी पहले से ही मौजूद हैं। ~ अमर्त्य सेन / Amartya Sen 
  • मैं भविष्य नहीं देखता, न ही जानने की चिंता करता हूँ...पर एक दृश्य मैं अपने मनः चक्षुओं से स्पष्ट देख रहा हूँ, यह प्राचीन मातृभूमि एक बार पुनः जाग गयी है और अपने सिंहासन पर आसीन है, पहले से कहीं अधिक गौरव से प्रदीप्त! ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • अगर भारत को जानना है तो विवेकानंद को पढ़िए, उनके विचारों में केवल सकारात्मकता है। नकारात्मकता कुछ भी नहीं।’ ~ रवीन्द्रनाथ टैगोर / Rabindranath Tagore
 
What do you think about these quotes on we Indians?


Wednesday, June 22, 2016

Poem on Self Respect in English

Poem on Self Respect in English. Dignity Poetry, Confidence Rhymes, Esteem Quotes, Respecting Yourself Verses, Honor Status, Regard, Faith Proverbs, Sayings.

Self Respect

Don't waste a single tear for the people
Who don't deserve your care.
Be strong, Be determined
Never be undermined.

Those who break your trust
Get them out from your life first.
Those who hurt your emotions
They deserve only rejection.

Don't loose your self respect for the people
Who never respect your emotions.
Don't weaken yourself for the people
Who never understand your perception.

Those who love you truly
Never hurt them even inadvertently.
Those who are with you in odds
In your life they are like god.
 
By Monika Jain 'Panchhi'

How is this poem about self respect? 
 
 

Tuesday, June 21, 2016

George Bernard Shaw Quotes in Hindi

जॉर्ज बर्नार्ड शॉ के विचार. George Bernard Shaw Quotes in Hindi. Life Quotations, Philosophy, Sayings, Facts, Famous Statement, Thoughts, Thinking, Words.
 
George Bernard Shaw Quotes in Hindi

George Bernard Shaw Quotes

  • आप कुछ देखते हैं, तो कहते हैं, ‘क्यों?’ लेकिन मैं असंभव से सपने देखता हूँ और कहता हूँ, ‘क्यों नहीं?’ 
  • ऐसा नहीं है कि आप अपने भविष्य को नहीं बदल सकते। आप अपनी आदतों को तो बदल ही सकते हैं तथा यह सुनिश्चित मानिये, आपकी आदतें आपका भविष्य बदल देंगी।  
  • पुस्तक प्रेमी सबसे धनवान व सबसे सुखी होता है। सम्पूर्ण रूप से त्रुटिहीन पुस्तक कभी पढ़ने लायक नहीं होती।  
  • किसी पुरुष या महिला के पालन-पोषण की आजमाइश तो एक झगड़े में उनके बर्ताव से होती है। जब सब ठीक चल रहा हो तब अच्छा बर्ताव तो कोई भी कर सकता है।  
  • विश्व के उत्तम सुधारक वे हुए हैं, जिन्होंने यह काम अपने आप से शुरू किया।  
  • मेरी मानो अपनी नाक से आगे न देखा करो, तुम्हें हमेशा मालूम होता रहेगा उसके आगे भी कुछ है और यह ज्ञान तुम्हें आशा और आनंद से मस्त रखेगा।  
  • आप प्रसन्न हैं या नहीं, यह सोचने के लिए फुरसत में होना ही दुखी होने का रहस्य है और इसका उपाय है व्यवसाय।  
  • सबसे कम खर्चीला मनोरंजन होता है श्रेष्ठ पुस्तकों का अध्ययन। सबसे बड़ी बात तो यह है कि यह स्थायी भी होता है।  
  • जीवन खुद को खोजने के बारे में नहीं, बल्कि अपना निर्माण करने के बारे में है।  
  • मेरे लिए मनुष्य की मुक्ति ज्ञान में ही निहित है।  
  • आज अध्ययन करना सब जानते हैं, पर क्या अध्ययन करना चाहिए यह कोई नहीं जानता।  
  • कमायें बगैर धन का उपभोग करने की तरह ही ख़ुशी दिए बगैर ख़ुश रहने का अधिकार हमें नहीं है।
  • सुखी जीवन व्यतीत करने का उपाय यह है कि मनुष्य तन्मय होकर मनोनुकूल कार्य में अपने को लगाये रखे और इस बात को के लिए बिल्कुल भी समय न दे कि वह सुखी है या नहीं।
 
जॉर्ज बर्नार्ड शॉ / George Bernard Shaw

How are these quotes of George Bernard Shaw?

Humorous Quotes in Hindi

हास्य विनोद, व्यंग्य विचार, चुटकुले. Humorous Quotes in Hindi. Humor, Fun, Funny Jokes, Comedy, Comic, Hasya Vyangya Vichar, Chutkule, Laughter Sms, Messages.
 
Humorous Quotes

  • बुआ (चूंचूं के हाथ में मेहंदी बनाते हुए ) : यार! ये कैसा कोण है - चलता है तो रुकने का नाम नहीं लेता और रुकता है तो चलने का नाम नहीं लेता।   चूंचूं : हाँ यार बुआ, ये अंकल ने भी कैसी मजाक वाली मेहंदी दी है। :)

    ( बुआ चूंचूं को खाना खिला रही है। लास्ट में थोड़ा सा और खाने में चूंचूं आनाकानी कर रही है।)

    चूंचूं की मम्मा चूंचूं से : अपनी फॅमिली में जितने भी सारे छोटे बेबीज हैं उन सबकी तरफ से एक-एक गस्सा और खा ले। अच्छा, अब सबसे छोटे वाले बेबी का नाम बता?

    चूंचूं : मम-मम बुआ। :p
    ( बुआ 6.5 साल की चूंचूं को उसके 2 साल के फोटोज दिखाते हुए )
    चूंचूं : मम-मम बुआ, आप पहले तो मुझे हमेशा गोदी में उठाये रखते थे। अब क्यों नहीं रखते हो?
    बुआ : :p
  • डिअर स्माइली! तुम अलग-अलग स्क्रीन पर अलग-अलग से मत दिखा करो। 
  • तवे पर गोलगप्पे सी फूलती रोटियां कितनी क्यूट लगती है न? 
  • अंतहीन विमर्श वाले विमर्शकारों के विमर्श से जितना जल्दी हो सके निकल लेना चाहिए। :p और पहले से पता हो तो विमर्श में पड़ना ही नहीं चाहिए। :p 
  • कुकिंग पसंद है। नए-नए एक्सपेरिमेंट्स करना, आसान तरीके खोजना और विशेष अवसरों की कुकिंग अच्छी लगती है। लेकिन रोजमर्रा वाली कुकिंग इतनी नहीं पसंद। कुछ सालों पहले तक वो गेहूं का आटा लगाने का काम बहुत बुरा लगता था। वह जिस तरह हाथों पर चिपकता है वह पसंद नहीं आता... तो कभी खाना बनाना होता था तो आटा हमेशा मम्मा से लगवा लेती थी। :p और मम्मा का वही डायलॉग...जब अकेले को बनाना होगा तब क्या करेगी? और मैं कह देती, करना तो सब आता ही है, जब करना होगा कर लेंगे...और सर्दियों में कभी-कभी जब मैं बाजरे की रोटी बना रही होती थी तो सोचती...काश! गेहूं का आटा भी बाजरे जैसा होता। बिना किसी तामझाम के कितना जल्दी सब हो जाता। :p  
  • फेसबुक का 'On This Day' बताता है कि पहले मैं बहुत क्रांतिकारी पोस्ट्स लिखती थी। :o :p 
  • गणित के सवाल कितने आसान है, पर शाम होते ही माँ का पूछना - खाने में क्या बनाना है?...उफ़! कितना जटिल प्रश्न है यह। :o O:) 
  • कभी-कभी कोई फेसबुक टाइमलाइन पर अचानक ' लाइक (Y) ' की बारिश कर देता है...पर अभी हो रही ये ' हाहा :D ' की बारिश? :o 
  • निष्कर्ष और सुझाव...पोस्ट पूरी पढ़ लेने के मोहताज नहीं। इनफैक्ट कभी-कभी आधी पढ़ लेने के भी मोहताज नहीं। :p ;) सुनने और देखने का भी यही हाल है। 
  • कई बार लिखते समय 'मैं', 'तुम', 'वह' सब इतना मिक्स हो जाते हैं कि एक सामान्य बात भी लव स्टोरी लगने लगती है...और वह भी मेरी। :p 
  • कुछ स्टीकर इतने क्यूट होते हैं कि उनके साथ खेलने का मन करता है। :p 
  • मौसम का आलम यह है कि अचानक मुझे ख़याल आया...आज मैं नहाई भी या नहीं। :p
By Monika Jain ‘पंछी’

How are these humorous quotes?

Friendship Quotes in Hindi

मित्रता पर विचार, दोस्ती सुविचार, मैत्री. Happy Friendship Day Quotes in Hindi. Mitrata par Vichar, True Friends, Dosti, Maitri, Friendly Status, Slogans, Sms.

Friendship Quotes in Hindi

Friendship Quotes

  • हम खुद ही अपने सबसे अच्छे मित्र होते हैं। हम खुद ही अपने सबसे बुरे शत्रु भी होते हैं। यह हम पर ही निर्भर है कि हम अपने मित्र बनते हैं या शत्रु। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दोस्तों! तुमसे ही है हर पल और तुमसे ही है हर साल! जाने कितनी बार दिल ने कहा...मैत्री से बेहतर कोई भावना होती ही नहीं। इसलिए प्यारे दोस्तों! तुम्हें ढेर सारा प्यार। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • वह जिससे कभी बात ही नहीं करनी, उसे अब भी दोस्तों में गिन जाती हूँ। मैं भुलक्कड़ कितना कुछ भूल जाती हूँ। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुछ दोस्तों को यह शिकायत है कि मैं कुछ शेयर नहीं करती। :) आप मुझसे बहुत कुछ शेयर करते हैं, मुझ पर इतना भरोसा करते हैं, मुझे बहुत अच्छा मेंटर भी मानते हैं। अगर वाकई में आपकी परेशानियाँ दूर होती है तो यह मेरे लिए ख़ुशी की बात है। कोई मुझसे कुछ शेयर करे इसका औचित्य भी मैं तभी मानती हूँ जब उसे कोई राहत मिलती हो। मैं ज्यादा कुछ शेयर नहीं करती इसके बहुत से कारण हैं :
    पहला तो यह मेरा जन्मजात गुण है. किसी से बहुत अधिक जुड़ाव हो या कभी बहुत जरुरी हो तो अपवाद हो सकता है।
    दूसरा यह कि जिसे लोग मेंटर की संज्ञा दे, कम से कम उसे खुद का मेंटर तो होना ही चाहिए।
    तीसरा : डिपेंडेंसी पसंद नहीं है।
    चौथा : जो इतना सब कुछ लिखने लगते हैं, उन्हें व्यक्तिगत शेयरिंग की जरुरत नहीं रहती।
    पांचवा : शेयरिंग के मेरे अनुभव अच्छे नहीं है। ( अब सब मेरे जैसे नहीं होते :p )
    छठा : जीवन ने इतना कुछ दिखा दिया है कि अब कुछ भी शॉक देने जैसा लगता ही नहीं। :)
    सातवाँ : मैं यह नहीं बताना चाहती कि मैं कितनी बड़ी पागल हूँ। :D (हालाँकि सबको पता होगा. ;) )
    बाकी आपको इस बात से ख़ुश होना चाहिए कि आपका कोई दोस्त ऐसा है जो आपको सुनता है, बस अपनी ही अपनी सुनाता नहीं। :) इसलिए शिकायतों में समय व्यर्थ मत गंवाइये। हंसिये और हंसाइये! :) 
  • मित्र वे दुर्लभ लोग होते हैं जो हमारा हाल पूछते हैं और फिर उत्तर जानने के लिए रुकते भी हैं। ~ एड कनिंघम / Ed Cunningham 
  • दोस्ती निस्संदेह रूप से निराश प्रेम की कसक के लिए उत्तम मरहम है। ~ जेन ऑस्टिन / Jane Austen 
  • दोस्त वह है जो आपको अपनी तरह जीने की पूरी आज़ादी दे। ~ जिम मॉरिसन / Jim Morrison 
  • ज्ञानी दोस्त जिंदगी का सबसे बड़ा वरदान है। ~ यूरीपिडीज 
  • मित्रता आनंद को दोगुना और दुःख को आधा कर देती है। ~ मिस्र की कहावत 
  • लोग इसलिए अकेले होते हैं क्योंकि वे मित्रता का पुल बनाने की बजाय दुश्मनी की दीवारें खड़ी कर लेते हैं। ~ जोसेफ कोर्ट न्यूटन

How are these quotes about friendship?


Monday, June 20, 2016

Criticism Quotes in Hindi

आलोचना, आलोचक, विरोधी, विरोध. Criticism Quotes in Hindi. Alochana, Being Judgemental, Criticize, Critical Analysis, Criticizing, Condemnation, Opposing, Opponent.

Criticism Quotes

    • शब्दों से इतना भी क्या प्रेम कि किसी बात का विरोध हम वही बात कहकर कर दें, बस जरा से शब्दों के हेर-फेर के साथ। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • यदि आपकी किसी जाति, गौत्र या धर्म विशेष (सामान्यतया जो आपको जन्म से मिला है) के प्रति आसक्ति, गहरा लगाव या कट्टरता है तो आप एकतरफा आलोचना के शिकार हो सकते हैं...लेकिन यदि नहीं है तो आप दो तरफ़ा आलोचना के शिकार होते हैं। :) ~ Monika Jain ‘पंछी’
    • हमारा अहंकार इतना घनीभूत है कि वह बुद्ध पुरुषों को भी पलायनवादी कह देता है। :) ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • कोई किसी एक अच्छे स्तर तक अच्छा है, समझदार है...तो उस पर और अधिक अच्छा और समझदार बनने की अपेक्षाओं और आलोचनात्मक दृष्टिकोण का इतना ज्यादा बोझ और फ़िल्टर मत डालिए कि उसके लिए जीना ही मुश्किल हो जाए। फिर आप ही में से कोई कहते मिलेगा : अच्छे लोगों को भगवान अपने पास इतना जल्दी क्यों बुला लेते हैं? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • कोई भी व्यवस्था परफेक्ट नहीं हो सकती समय के अनुरूप उसे बदलने के लिए आवश्यक फेल्क्सिबिलिटी होनी ही चाहिए लेकिन किसी भी व्यवस्था पर हम सवाल उठाये उससे पहले हमारे पास उससे बेहतर और स्पष्ट विकल्प होना चाहिए, या फिर चर्चाएँ उस बेहतर विकल्प को खोजने के लिए हो सकती है लेकिन जब सब बाँवरे होकर बस शिकायतें, आलोचना और व्यंग्य करने लगते हैं तो वे बस जो है उसे भी बिगाड़ने में योगदान दे रहे होते हैं समाधान चाहिए तो समस्या से ज्यादा समाधानों पर बात करना जरुरी है।...और समाधानों पर बात करने के लिए व्यक्तिगत हितों से थोड़ा ऊपर उठना ही पड़ेगा ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • कुछ लोग तो बड़े ही अद्भुत होते हैं - लड़के पे लिखा तो कहते हैं लड़की पे क्यों नहीं लिखा, लडकियाँ भी तो ऐसा करती है। लड़की पे लिखा तो कहेंगे लड़के के बारे में क्यों नहीं लिखा, लड़कों के साथ भी तो ऐसा होता है हिन्दू-मुस्लिम वाली बात तो आप सबको पता ही है किसी राजनैतिक पार्टी विशेष पर लिख देने की गलती अभी तक हुई नहीं, वर्ना उसके भी परिणाम पता है अब मैं उन्हें कैसे समझाऊं कि सारे ब्रह्माण्ड के इश्यूज मैं एक 4-5 लाइन्स के स्टेटस में नहीं डाल सकती गागर में सागर भरना आ भी जाए...पर ये सागर के साथ-साथ व्हेल, डॉलफिन, मगरमच्छ, कछुएँ, जलपरी, समुद्री घोड़ा आदि-आदि इन सबको कैसे डालूँ? और इनको भी डाल दिया तो कहेंगे कि हाथी, अजगर, हिरन, शेर, मोर, बकरी...आदि इन सबको क्यों छोड़ दिया? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • प्रतीकात्मक आलोचना करते समय बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि होता यूँ हैं कि प्रतीकों के इतने अर्थ निकलते हैं कि कोई एक अर्थ खुद आलोचक पर ही फिट बैठ जाता है :p ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • वह जो सिर्फ असहमतियों के लिए प्रकट होता था
      वह जो सिर्फ आलोचना की गुंजाइश देखता था
      वह जो सिर्फ विरोध के अवसर ढूंढता था
      उसका विरोध विचारों से नहीं मुझसे था। (बहरहाल आलोचनाएँ हँसा भी सकती है।) ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
    • मौसम से हम एक सीख ले सकते हैं, वह आलोचना पर कभी ध्यान नहीं देता ~ नॉर्थ डिकाल्ब / North Dekalb 
    • विरोधियों के प्रति उदार बनें ~ रेकी दर्शन


    Feel free to add your views or more quotes about criticism via comments. 


    Poem on Female Foeticide in Hindi

    Poem on Stop Female Foeticide in Hindi for Kids, Feticide, Fetus Abortion Cry, International Foetus Day, Killing Unborn Baby Slogans, Poetry, Rhymes, Kavita.
     
    Poem on Female Foeticide in Hindi

    कलियों को खिल जाने दो

    कलियों को खिल जाने दो
    मीठी ख़ुशबू फ़ैलाने दो
    बंद करो उनकी हत्या अब
    जीवन ज्योत जलाने दो।

    कलियाँ जो तोड़ी तुमने तो
    फूल कहाँ से लाओगे?
    बेटी की हत्या करके तुम
    बहु कहाँ से लाओगे?

    माँ धरती पर आने दो
    उनको भी लहलाने दो
    बंद करो उनकी हत्या अब
    जीवन ज्योत जलाने दो।

    माँ दुर्गा की पूजा करके
    भक्त बड़े कहलाते हो
    कहाँ गयी वह भक्ति जो
    बेटी को मार गिराते हो।

    लक्ष्मी को जीवन पाने दो
    घर आँगन दमकाने दो
    बंद करो उनकी हत्या अब
    जीवन ज्योत जलाने दो

    By Monika Jain 'पंछी'

    How is this poems about female foeticide? To read the english version of this poem click here.

    Sunday, June 19, 2016

    Poem on Father in Hindi

    पिता दिवस पर कविता, पापा, बाप, वालिद शायरी. Poem on Father in Hindi from Daughter Son. Pita Diwas Kavita, Baap Walid Shayari, Daddy Quotes, Dad Messages, Poetry.

     

    Poem on Father in Hindi

    पिता

    ईश्वर का एक रूप पिता है
    पावन सी एक धूप पिता है
     
    स्नेह भरा संबल पिता है
    खुशियों का नभतल पिता है
     
    सूर्य का प्रकाश पिता है
    बच्चों का आकाश पिता है
     
    घने पेड़ की छाँव पिता है
    तूफानों में नाव पिता है

    बल, विवेक, बुद्धि पिता है
    साहस की वृद्धि पिता है

    धैर्य का सागर पिता है
    ज्ञान का गागर पिता है

    अनुशासन का भान पिता है
    सही मार्ग का ज्ञान पिता है

    सख्त, कठोर, गरम पिता है
    कोमल, तरल, नरम पिता है

    गगन पिता है, पवन पिता है
    यज्ञ पिता है, हवन पिता है।

    By Monika Jain 'पंछी'

    How is this hindi poem about father?

    Poem on Papa in Hindi

    पापा के जन्मदिन पर कविता, पिता शायरी. Poem on Papa in Hindi from Daughter, Son. Daddy’s Birthday Poetry, Dad Rhymes, Pita par Kavita, Father Shayari, Pa Sms.

    Poem on Papa in Hindi

    अच्छे पापा

    चलना हमें सिखाते पापा
    सच्ची राह दिखाते पापा
    पढ़ना हमें सिखाते पापा
    हमको योग्य बनाते पापा

    गाड़ी पर हमें घुमाते पापा
    हमको खूब खिलाते पापा
    नये खिलौने लाते पापा
    हमको खूब हँसाते पापा

    गलती पर डाँट लगाते पापा
    शिक्षक भी बन जाते पापा
    अनुशासन हमें सिखाते पापा
    अपना फ़र्ज़ निभाते पापा

    कंधों पर हमें चढ़ाते पापा
    घोड़ा भी बन जाते पापा
    बच्चों के संग बच्चे पापा
    अच्छे पापा सच्चे पापा।

    By Monika Jain 'पंछी'

    How is this hindi poem on papa?


    Father's Day Poem in Hindi

    फादर्स डे कविता, पिता, पितृ दिवस शायरी. Happy Father’s Day Poem in Hindi from Daughter Son. Pita par Kavita, Pitru Diwas Shayari, Poetry, Slogans, Lines, Rhymes.

     
    वो पिता ही है श्रीमान्

    पूरे घर की संभाले कमान
    बात मन की जो ले जान
    अपनी खुद की सुध छोड़
    जो रखे सबका पूरा ध्यान
    वो पिता ही है श्रीमान्!

    पल-पल हर पल
    अपनों की खुशियों की खातिर
    अंगारों पे चल-चल
    करता रहता जो श्रम संधान
    वो पिता ही है श्रीमान्!

    मांगे सबकी वह पूरा करता
    पर कभी न आँहें भरता
    सबके चेहरे पर लाता जो
    एक प्यारी-सी मुस्कान
    वो पिता ही है श्रीमान्!

    गम का घूँट पीया अकेले
    सबकी मुसीबत जो अपने सर ले ले
    टूटता जुड़ता संभलता
    हर दिन देता नया इम्तिहान
    वो पिता ही है श्रीमान्!

    बूँद नहीं आंसू के आँखों पर
    अन्दर उमड़ रहा समंदर
    सुना न पाए सबको अपनी
    जो व्याकुल मन की गान
    वो पिता ही है श्रीमान्!

    अनिल कुमार बिहारी
    ट्यूब बारीडीह, जमशेदपुर

    How is this poem about father on the occasion of father’s day?