Sunday, August 28, 2016

Sensitive Quotes in Hindi

संवेदनशील, संवेदनशीलता, संवेदना, समानुभूति, सहानुभूति उद्धरण. Sensitive Insensitive People Quotes in Hindi. Sensitivity, Insensitivity, Empathy, Sympathy.

Sensitive Quotes

  • व्यक्ति और घटनाओं पर चर्चा में हमेशा से ही आवश्यकता से अधिक रूचि नहीं रही। व्यक्तिगत जीवन में इसका प्रत्यक्ष नुकसान यह हुआ कि सामने वाले ने अपनी गलतियाँ छिपाकर कितनी ही मनगढ़ंत कहानियां बनाई और एक ही पक्ष को सुनकर निष्कर्ष निकाल बैठी दुनिया में मेरी अंतर्मुखता, संवेदनशीलता और कभी-कभी अपने हिस्से का अपराध बोध मेरा पक्ष प्रकट नहीं कर पाया। लेकिन इस प्रत्यक्ष नुकसान के कई अप्रत्यक्ष और आंतरिक लाभ भी होते हैं जिनके सामने ये अस्थायी नुकसान मायने नहीं रखते। हालाँकि किसी समय विशेष पर हमें चुप रहना है या बोलना है यह पूरी तरह से समझ और जागरूकता का विषय है लेकिन अनावश्यक अतिप्रचार और दुष्प्रचार तो कुंठित मन का ही काम होता है। इसके अलावा किसी घटना या व्यक्ति विशेष के प्रति ही हमारी संवेदना संवेदना कम भावुकता अधिक हो जाती है। क्योंकि जिस समाज में संवेदनशीलता होती है वहां दुर्घटनाएं कम ही होती है। विचारों और भावनाओं (जो कि घटनाओं का मूल है) उन्हें छोड़कर सिर्फ और सिर्फ घटनाओं और व्यक्तियों पर चर्चा होना ही हमारी संवेदनहीनता की ओर एक इशारा है। बाकी तो घटनाओं, किस्से और कहानियों की उपयोगिता सिर्फ इतनी ही है कि वे हमें उनकी जड़ों तक पहुँचने में मदद करे, जहाँ से उनकी उत्पत्ति होती है। और जड़ें कहीं बाहर नहीं होती। जड़ें भीतर ही होती है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • यूँ तो आदर्श दृष्टिकोण से किसी भी तरह का मोह,आसक्ति या जुड़ाव सही नहीं होता। लेकिन किसी गलत व्यक्ति, वस्तु, आदत...आदि से जुड़ाव की गलती चक्रवृद्धि ब्याज की तरह फलित होती ही रहती है। आपका एक बार कहा गया ’आ बैल मुझे मार’ बैल द्वारा हमेशा के लिए रिकॉर्ड करके भी रखा जा सकता है। ताकि बार-बार, हजार बार सुना और सुनाया जा सके। और फिर एक बार की गलती की सजा आपको न जाने कितनी बार भुगतनी होती है। किसी की परिस्थितिजन्य मामूली सी गलती जो भोलेपन और अनजाने में हो गयी है उसका बार-बार मखौल उड़ाकर उसे गंभीर अपराध सिद्ध करने वाले लोग काश यह समझ पाते कि वे कितनी बड़ी गलती और अपराध कर रहे हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हम ऐसे समाज में रहते हैं जहाँ किताबी और डिजिटल कहानियाँ पढ़ते-सुनते समय मुंह खुला रह जाता है, आँखें छलक पड़ती है, कानों में चीत्कारें गूँजने लगती है, पर यहीं आँखें, कान और मुंह असल कहानियों के सामने बंद हो जाया करते हैं। नैतिकता और संवेदनशीलता अब बस कागजों और कीबोर्ड को गीला करने के लिए ही बची है या फिर सिर्फ रोनी-धोनी स्माइली बनाने के लिए। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • धर्म का आधार होता है - अहिंसा, करुणा और समानुभूति। हमारे भीतर ऐसी संवेदनशीलता होनी चाहिए कि अगर कोई और व्यक्ति तकलीफ में हो तो उसकी पीड़ा का अहसास हमें भी हो। हमें अहसास होता तो है पर सिर्फ वहाँ जहाँ हमारा अनुराग होता है। किसी का अपना बच्चा बीमार हो गया तो उसे पीड़ा होगी लेकिन वही पीड़ा पड़ोसी के बच्चे के बीमार होने पर नहीं होगी।
    जहाँ सच में संवेदनशीलता होती है, अनुकम्पा होती है वहाँ तेरे-मेरे की दीवार नहीं होती। वहाँ अपनों के लिए वात्सल्य और परायों के लिए आत्मीयता का अभाव, ऐसा नहीं होता। लेकिन आज हमने अपनी नैतिकता और संवेदनशीलता को सिर्फ अपनों तक सीमित कर रखा है जिसकी सीमा हमारे स्वार्थ के अनुसार बदलती रहती है।

    आज जितनी भी आपराधिक घटनाएँ होती है, उसका मूल कारण संवेदनशीलता का अभाव है जिसकी वज़ह से मनुष्य दूसरों के दुःख, दर्द और पीड़ा का अनुभव नहीं कर पाता। इसलिए बहुत जरुरी है अपनी संवेदनाओं को जाग्रत करना। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • 'असंवेदनशीलता' समस्या बस यही है और कुछ भी नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अच्छा करने पर अच्छा होता है या नहीं, पता नहीं। बुरा करने पर बुरा ही होगा, ये भी नहीं जानती। पर हाँ इतना पता है कि एक संवेदनशील ह्रदय के लिए किसी भी अपराध बोध के साथ जीना बेहद मुश्किल होता है।...और आत्म संतुष्टि एक ऐसी चीज है जिसके सामने क्या मिल रहा है और क्या खो रहा है, मायने नहीं रखता। ~ Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views or more quotes about sensitivity via comments. 


Thursday, August 25, 2016

Poem on Krishna in Hindi

कृष्ण पर कविता, कृष्णा शायरी. Poem on Shri Krishna in Hindi for Kids. Lord Kanhaiya Shayari, Kanha Bhakti Kavita, Lines, Poetry, Rhymes, Slogans, Status.
 
Poem on Krishna in Hindi

हे कृष्णा!

हे कृष्णा!
तुमने कहा था न
जब-जब भी बढ़ेगा अन्याय और अधर्म
तब-तब लोगे तुम इस धरा पर जन्म!

आज अधर्म ने अपना जाल बिछा दिया है
और धर्म का नामो निशां मिटा दिया है
अन्याय सर चढ़ कर बोल रहा है
न्याय तो बस सूली पर डोल रहा है।

हे कृष्णा!
क्या तुम्हें नहीं सुनाई दे रही
दीन दुखियों की दर्द से भरी चीत्कारें
क्या तुम्हें नहीं दिखाई दे रही
हर तरफ खड़ी नफरत की दीवारें

अपने उस वादें को पूरा करने
एक बार आओ तो सही
निराश हृदयों में आशा की ज्योत
जलाओं तो सही।
भगवान मानकर पूजते हैं लोग तुम्हें
उनकी श्रद्धा को यूँ
झुठलाओं तो नहीं।

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views via comments about this poem on Krishna. 


Wednesday, August 24, 2016

Poem on Janmashtami in Hindi

कृष्ण जन्माष्टमी कविता. Poem on Happy Shri Krishna Janmashtami Festival in Hindi for Kids. Kanha par Kavita, Gokulashtami Shayari Lines, Sms, Quotes, Messages. 
Poem on Janmashtami in Hindi

मेरे ये नैन बस तुम्हे ढूंढ़ रहे हैं

हे कृष्णा!
सुना है आज तुम्हारा जन्मदिवस है
उल्लासमय हो रहा सारा जनमानस है।

खुश हूँ मैं ये जानकर कि लोग आज भी
महानायकों को पूजते हैं
महापुरुषों की जय जयकार के नारे
इस धरा पर आज भी गूंजते है।

पर दिल के एक कोने में न जाने क्यों
कुछ खटक रहा है
ख़ुशी के इस अवसर पर भी
मन जाने क्यूँ भटक रहा है।

शायद तलाश रही हूँ मैं तुम्हे
हर आते-जाते इंसान में
जो दिन रात करते हैं तुम्हारी पूजा
उनके चरित्र और ईमान में

तुम्हें तलाशते ये दो नैन
कुछ कहना चाह रहे हैं
बाहर से जो लगते हैं कृष्ण
भीतर से कंस क्यों नजर आ रहे हैं।

आराध्य को अगरबत्ती दिखाना ही
अब धर्म बन गया है
पूजा जा रहा है जिसे उसके विचारों का
कोई अर्थ नहीं रहा है।

हे कृष्णा!
हर गली, हर चौराहे आज कंस घूम रहे हैं
आताताइयों के बुलंद हौंसले गगन चूम रहे है
लोग मग्न है जन्माष्टमी उत्सव मनाने में
पर बैचेन मेरे ये नैन बस तुम्हे ढूंढ़ रहे हैं।

By Monika Jain 'पंछी'

 
Feel free to add your views via comments about this poem on Janmashtami. 


Sunday, August 21, 2016

Anmol Vachan in Hindi

अनमोल वचन, अमूल्य विचार, सुविचार कथन. Anmol Vachan in Hindi. Amulya Vichar, Baatein, Suvichar Kathan, Amrit Vani Lines, Gyan Shabd Quotes, Words, Status, Sms.

Anmol Vachan
 
  • किसी भी शब्द, व्यक्ति, समूह, जाति, धर्म...से हम इतनी पहचान क्यों बनाये कि सत्य का सामना न कर सकें या उसे स्वीकार न कर सकें। क्योंकि एक सत्य यह भी है कि ये सारी की सारी पहचान उधार की है जो हमें बाहर से मिली है। हमारा खुद का इसमें कुछ भी नहीं है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जैसे-जैसे हम सापेक्षता को समझेंगे हम जानेंगे कि पूर्ण रूप से सही और गलत जैसा कुछ भी नहीं होता। तब बस एक ही चीज की जरुरत होती है – जागरूकता की कि इस समय क्या करना थोड़ा अधिक सही रहेगा और क्या करना थोड़ा कम गलत। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • भेदों को मिटाने का तरीका कहीं भेदों को मजबूत करने वाला न हो...ख़याल रहे। ~ Monika Jain ‘पंछी 
  • जितनी भी धार्मिक कट्टरता है वह 'भक्ति' और 'भक्ति के अभ्यास' का अंतर है। यह अंतर है सहज और कृत्रिम का। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • चेतना ही सबसे अधिक द्वंदों का सामना करती है। जड़ता तो बस एक प्रवाह में बह जाती है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • ज्ञान बाँटा जा सकता है...ग्रहणशीलता नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • सामान्यत: दुनिया में ऐसी कोई चीज नहीं होती जिसका अपवाद नहीं होता। इसलिए व्यर्थ की बहस करने से बेहतर है, अपवादों को हमेशा समाहित माना जाये। हर बार लिखना जरुरी नहीं न 'अपवादों को छोड़कर!' ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • शब्दों, वाक्यों, घटनाओं, संदेशों, शिक्षाओं, जीवन, मृत्यु, हर चीज के जब सही और गहरे अर्थ समझ में आने लगते हैं तो व्यक्ति खुद-ब-खुद ही बदलने लगता है। बाकी लोग बस इन्हें सतही तौर पर पकड़े हुए दूसरों को बदलने की कोशिश में लगे रहते है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • बाहर नैतिकता बचा सकते हो, कानून बचा सकते हो, व्यवस्था बचा सकते हो और संप्रदाय भी। लेकिन धर्म एक ऐसी चीज है जिसे बस भीतर ही बचाया जा सकता है...और कोई तरीका नहीं। पर हाँ, जब यह भीतर बचने लगता है तब बाहर स्वत: ही प्रतिबिंबित होने लगता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • विश्वास प्रेम के सदृश है, यह विवश नहीं किया जा सकता। जैसे बलपूर्वक प्रेम करना घृणा उत्पन्न करता है, वैसे ही धार्मिक विचारों में विवश करना अविश्वास पैदा करता है। ~ ऑर्थर शोपेनहावर / Arthur Schopenhauer  
  • संत के पास दिल और दिमाग से खाली होकर जाएँ, विनम्र बनकर जाएँ ताकि उनसे कुछ पा सके। ~ अज्ञात / Unknown  
  • परमार्थ का मार्ग व्यवहार से होकर जाता है। इसलिए व्यवहार को शास्त्र मर्यादा के अनुसार बनाओ। ~ ब्रह्मानंद सरस्वती / Brahmananda Saraswati  
  • जिस प्रकार बादल समुद्र का खारा पानी पीकर भी मीठा जल ही बरसाता है उसी प्रकार सज्जन किसी की कटु वाणी सुनकर भी सदा मधुर वाणी ही बोलता है। ~ अज्ञात / Unknown  
  • जो व्यक्ति आदतन अनिर्णय से ग्रस्त रहता है, उससे ज्यादा दयनीय कोई है ही नहीं। ~ विलियम जेम्स /William James  
  • प्रतिभा भगवान का दिया उपहार है। आप इसके साथ क्या करते हैं, वह भगवान को लौटाने वाला उपहार होगा। ~ लियो बुशकेजिलिया / Leo Buscaglia  
  • एक झूठ हजार सच्चाइयों को नष्ट कर देता है। ~ घाना की कहावत
 
Feel free to add more anmol vachan via comments.


Hypocrisy Quotes in Hindi

पाखण्ड, आडम्बर, ढोंग. Hypocrisy Quotes in Hindi. Religious Hypocrite, Double Dealing Standard, Pageantry, Pomp and Show, Dharmik Adambar, Pakhand, Dhong.

Hypocrisy Quotes

  • उसे नहीं पता था कि अच्छी किताबें सिर्फ मनोरंजन के लिए और अच्छे व्यक्तित्व सिर्फ पूजा के लिए होते हैं, अनुसरण के लिए नहीं। उसे नहीं पता था कि बड़ी-बड़ी बातें सिर्फ लिखने के लिए होती है, अमल करने के लिए नहीं। उसे नहीं पता था कि ऊपर से नीचे तक गहनों से लदी मूर्तियों के सामने फल और पकवानों से सजी थालियाँ लेकर पूजा करना हंसी का पात्र नहीं बनाता लेकिन आदर्शों, नैतिकता और मानवीय मूल्यों की बातें करना बना देता है। उसे नहीं पता था कि मूर्तियों के रूप में जिन आदर्शों की पूजा की जाती है, उन्हीं आदर्शों को वास्तविकता का जामा पहनाने वालों को मौत के घाट तक उतार दिया जाता है। सच! उसे नहीं पता था कि उसे कुछ भी नहीं पता। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कितने लोग ऐसे हैं जो इस युग में उनके महानायकों और पूज्य पुरुषों के आ जाने पर उनके साथ या पीछे कंधे से कन्धा मिलकर चल पायेंगे? कभी-कभी तो लोगों की कट्टरता और राजनीति देखकर लगता है कि उनका महानायक सामने खड़ा हो तो वे उसे एक कोठरी में बंद करके कहेंगे...तुम्हारी कोई जरुरत नहीं बाबा यहाँ। तुम बस तुम्हारे मंदिर/मस्जिद में जाकर पत्थर बनकर बैठो। हम तुम्हारे लिए बस इतना कर सकते हैं कि रोज तुम्हें पूजा करेंगे। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • जो चले गए...उनके नाम पर तो झगड़ना बंद करो। झगड़े के टॉपिक कम है क्या? जो चले गए उन्हें सही या गलत सिद्ध कर देने से...हम कभी सही सिद्ध नहीं हो जाते। उसके लिए सिर्फ हमारा ही पुरुषार्थ काम आने वाला है। हाँ एक ही काम अच्छा कर सकते हैं...उनके अच्छे विचारों का प्रसार। इतिहास बस सीख लेने जितना ही उपयोगी है...उससे ज्यादा जरा भी नहीं। करीब दो-तीन सालों पहले जब एक ग्रुप में किसी बन्दे ने महावीर पर भयंकर कटाक्ष किये, तब मेरी भी भावनाएं आहत हुई...तीव्र प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन मन खिन्न और उदास तो रहा ही कुछ समय। लेकिन सच यही था कि वह सिर्फ मेरा अहंकार था...मेरी पज़ेसिवनेस...उसे ही चोट पहुँची थी। लेकिन जब से महावीर को सही से जाना है तब से उन्हें कोई कुछ भी कह दे इतना फर्क नहीं पड़ता...पड़ना भी नहीं चाहिए। क्योंकि जो सच में महान थे उन्हें हमारी और से किये बचाव की रत्ती भर भी जरुरत नहीं है। बचाना है तो उनके विचारों को बचाओ। बाकी फर्जी का अनुयायी बनने से कोई लाभ नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • काल्पनिक कहानियों पर हमारे कीबोर्ड आंसुओं से भीग जाते हैं। खत्म हो चुकी असल दर्दनाक कहानियों पर भी हमारी पलकें भीग जाया करती है। लेकिन जो कहानियां जारी है...अपने दर्द, अपने संघर्ष, अपनी मजबूरियों के साथ...उनके सामने तो हम पत्थर को भी मात दे जाते हैं। कभी-कभी तो उस कहानी को भुगत रहे पात्र का सर फोड़ देने की हद तक...कैसे लोग हैं हम? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • आज 'विश्व जल दिवस' है। मैंने सोचा आज जल संरक्षण पर एक कविता लिखूं, पर फिर सोचा आज लिखने वाले बहुत से हैं। मैं किसी और दिन लिखूंगी। जब हम आज के दिन कही बातें भूल जायेंगे। ~ Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views or more quotes about hypocrisy via comments. 
 
 

Saturday, August 20, 2016

Ego Quotes in Hindi

घमंड पर विचार, अहंकार सुविचार, अभिमान. Ego Quotes in Hindi. Attitude , Egoism, Ahankar, Narcissism Sms, Pride Dialogues, Ghamand, Abhiman, Guroor Status.

Ego Quotes

  • भावुकता और जागरूक संवेदनशीलता का अंतर अहंकार और निरहंकारिता का अंतर है।~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अहंकार ध्यानाकर्षण चाहता है। इसलिए वह प्रेम-घृणा, मित्रता-शत्रुता दोनों के साथ सहज रहता है। लेकिन उदासीनता उसे असहज और बैचेन करती है। यही कारण है कि ध्यानमग्न महावीर के कानों में भी कीले ठोक दिए जाते हैं और अकारण मुस्कुराते बुद्ध के मुंह पर भी थूक दिया जाता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • एक पुरुष के अहंकार को कभी अनजाने में भी चोट पहुँच जाती है तो वह चोट पहुँचाने वाले के लिए फिर कभी पहले वाला पुरुष नहीं रहता। एक स्त्री का मन जब बुरी तरह छलनी हो जाता है तब वह किसी के लिए भी पहले वाली स्त्री नहीं रहती, खुद के लिए भी नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अपने अहंकार को ताक पे रखकर जब हम अपनी गलती स्वीकार करते हैं, उसकी जिम्मेदारी लेते हैं, उसे न दोहराने का संकल्प लेते हैं तो यकीन मानिए हम कुछ अच्छा बुन रहे होते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • देने का अहंकार कभी इतना ज्यादा न हो कि जो मिल रहा है उसका मूल्य ही समझ न आये। देने के साथ अहंकार शुन्यता और ग्रहण करने के साथ कृतज्ञता न हो तो दोनों ही महत्वहीन है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • 'मैं', 'मेरा', 'मुझे' सिर्फ एक भ्रम ही तो है, जिसमें गुजर जाती है सारी ज़िन्दगी। सोचकर देखें तो क्या अस्तित्व है अकेले 'मेरा', 'मैं' या 'मुझे' का? यूँ तो ये जीवन भी 'मेरा' नहीं। अकेले से बन सकता है किसी का जीवन भला? और ये शब्द...ये भी तो उधार के ही हैं। फिर भी 'अहम्' के मारे 'मैं', 'मेरा' और 'मुझे' पीछा नहीं छोड़ते। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • पता नहीं क्यों पर मुझे अच्छा नहीं लगता जब लोग अपनी जीत की बजाय सामने वाले की हार को सेलिब्रेट करने लग जाते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • 'मेरी पोस्ट पर लाइक और कमेंट ना करने वालों को फ्रेंडलिस्ट से बाहर कर दूंगा/दूंगी।' बड़े-बड़े लोगों के ये बच्चों वाले स्टेटस पढ़कर सच बहुत हँसी आती है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अहंकार न होने का अहंकार सबसे बड़ा अहंकार। बेहोशी कब किस रास्ते से प्रवेश कर जाती है पता भी नहीं चलता। होश में रहना इतना आसान काम नहीं। अपने हर शब्द, हर कार्य और हर विचार के प्रति सतर्क होना पड़ता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अक्सर कोई व्यक्ति किसी बात को उतना और उस तरह ही बताता है जिससे उसका स्वार्थ और अहंकार संतुष्ट हो सके। लेकिन हमेशा याद रखें...आधा सच...पूरा झूठ होता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • प्रेम ही समाधान है...और प्रेम के मार्ग की सिर्फ एक ही बाधा है ~ अहंकार (मैं का विस्तार)। काम, क्रोध, लोभ, मोह, ईर्ष्या, द्वेष...सभी अहंकार के ही उप उत्पाद हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जब तक भावनाएं आहत होती रहेगी तब तक सीखना बाधित रहेगा। जब तक महापुरुषों को हम अपनी-अपनी संपत्ति मानकर चलेंगे तब तक उनके विचारों की हत्या करते रहेंगे। जब तक शब्द-शब्द में, भाव-भाव में, कर्म-कर्म में हम अपने अहंकार की तुष्टि खोजते रहेंगे तब तक धर्म से दूर रहेंगे। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • छोटेपन में अहंकार का दर्प इतना प्रचंड होता है कि वह अपने को ही खंडित करता रहता है। ~ हजारी प्रसाद द्विवेदी / Hazari Prasad Dwivedi 
  • आज तक अहंकार ने जितना नरसंहार किया है, मनुष्य की किसी अन्य मनोवृति ने नहीं किया होगा। ~ चन्द्रप्रभ / Chandra Prabh

Feel free to add your views or more quotes about ego via comments.


Stop Rape Quotes in Hindi

बलात्कार, यौन शोषण, दुष्कर्म. Stop Rape Quotes in Hindi. Anti Sexual Abuse, Sexually Assault, Baltkar par Nibandh, Harassment, Slogans, Essay, Sms, Status.

Stop Rape Quotes

  • बलात्कार! बलात्कार! बलात्कार! आखिर कब तक सुनना पड़ेगा ये शब्द?...कब तक? जिस शब्द को सुनकर, देखकर और पढ़कर ही रूह काँप उठती है, उसे अंजाम देने वाले दरिन्दे कौनसी दुनिया से आते हैं? अब तो उन्हें कोई अपशब्द कहना उन शब्दों का भी अपमान लगता है। जिस तरह से ये बलात्कार शब्द हमारे जीवन में अन्य सामान्य से शब्दों की तरह घुलता जा रहा है...बहुत डर लगता है। कहाँ जा रहा है हमारा समाज? कोई तो अंत हो ऐसी घटनाओं का? कभी तो ऐसा दिन आये जब ये शब्द सुनने को ना मिले...कभी तो? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हर बलात्कार की घटना पूरी नारी जाति की स्वतंत्रता और सहजता के घेरे को छोटे से छोटा करती जाती है और कहीं न कहीं हमारी मासूमियत का खात्मा भी। खुद का कहूँ तो कुछ वर्षों पहले तक रात के 9-10 बजे भी अकेले घर से बाहर निकलने में कोई हिचक नहीं होती थी। पढ़ाई के दिनों में रात के 2-3-4 बजे भी छत पर अकेले पढ़ लेती थी। घर से दूर अनजाने शहर में कई जगह अकेले चले जाती थी। माँ-पापा के जरुरी काम से बाहर जाने कई बार अकेले घर पर रह चुकी हूँ। आवश्यक होने पर लड़कों से भरी क्लास में अकेले पढ़ चुकी हूँ। बाहरी दुनिया से इतनी अनजान कि कोई कुछ पूछे तो उसका सीधा-सीधा और सही जवाब देना ही आता था। कुछ छिटपुट घटनाएँ होती रही लेकिन उन्होंने तब तक कोई डर पैदा नहीं किया था। लेकिन अब जैसी घटनाएँ सुनने में आ रही है...कभी-कभी वह भी सोचना पड़ता है जो कभी नहीं सोचना चाहती थी। क्या स्त्री होना कोई अपराध है? या फिर समाज की नज़रों से परिभाषित तथाकथित स्त्री के तमगे को भूलकर एक इंसान की तरह जीने की ख्वाहिश कोई जुर्म? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • बहुत हो लिए हम सब शर्मसार! कितना शर्मसार होएँगे और कब तक होते रहेंगे? शर्म आने के लिए दुनिया में शर्म जैसी कोई चीज बची भी है? इस शब्द को कुछ दिन खूँटी पर टांगते हैं और सीधा मुद्दे पर आते हैं। आज से, और अभी से हम सब लोग अपने जीवन में या खुद से जुड़े लोगों के जीवन में ऐसा कौनसा बदलाव करने वाले हैं जिससे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इन घटनाओं में कुछ तो कमी आये? ये बलात्कारी आसमान से तो टपक रहे नहीं है। हमारे ही घरों में पैदा हो रहे हैं। या फिर ये बलात्कार पुरुषों के किसी नए फैशन के रूप में आया है, वैसे ही जैसे ये शर्मशार शब्द आजकल बड़ा चलन में है। जो भी हो पर मैं जानना चाहती हूँ, शर्मसार होने के अलावा हमारी और क्या-क्या भूमिका होनी चाहिए? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कल से देहली गैंग रेप पर कई पोस्ट्स पढ़ चुकी हूँ। हर बार कुछ भी पढ़ने के बाद बहुत कुछ होता है जो दिल से बाहर निकलना चाहता है, पर शब्दों के मामले में इतना असहाय खुद को कभी भी महसूस नहीं किया। किस अधिकार से कुछ भी कहूँ जबकि जानती हूँ कि कहने के अलावा क्या कर पाऊँगी मैं? अगर मेरा लिखा नहीं बदल सकता दूषित मानसिकताओं को तो ऐसा लिखना निरर्थक ही है न? ~ Monika Jain ‘पंछी’

Friday, August 19, 2016

Change Quotes in Hindi

परिवर्तन पर विचार, बदलाव उद्धरण. Quotes about Attitude Change in Hindi. Changing Yourself for Better, Parivartan, Life Transformation Status, Badlav Sms.

Change Quotes

  • नौकर मालिक बन सकता है और मालिक नौकर। स्त्री पुरुष की जगह पा सकती है और पुरुष स्त्री की। सवर्ण दलित बन जायेंगे और दलित सवर्ण। लेकिन समानता हमेशा एक दिवा स्वप्न ही रहेगी।...तब तक, जब तक कि मालकियत और नियंत्रण की भावना खत्म नहीं हो जाती। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • किसी भी इमेज में सिर्फ इसलिए बंधकर रहना क्योंकि आपकी वह स्थापित छवि है...सही नहीं है। समय के साथ-साथ विचार बदलते हैं, धारणाएं बदलती है, हमारे सपने, हमारी रुचियाँ बदलती है और उसी के अनुसार बदलते हैं हम भी। और इन सब बदलावों के लिए हमें बाहर के शोर को नहीं अपने भीतर की आवाज़ को सुनना होता है, और यह भीतर तब तक रहता है जब तक हम रहते हैं। तो बदलने की प्रक्रिया भी तब तक जारी रहती है जब तक हमारा अस्तित्व है। तो खुद को इतनी सीमाओं में क्यों बाँधना? हाँ, बस अवसरवादी बनकर बार-बार रंग नहीं बदलना है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दूसरों की बजाय अपने विचारों, अपने व्यवहार और अपने कार्यों की निगरानी रखना हमनें जिस दिन से शुरू कर दिया, त्वरित बदलाव की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुछ क्रूरताओं पर शब्द गुम हो जाते हैं।...ठहर कर सोचना जरुरी है शायद इसलिए। शर्मिंदा होना समाधान नहीं है। क्योंकि जिस समाज का हिस्सा हैं हम उस पर कुछ नियंत्रण तो हमारा भी है। हम अपने हिस्से के शर्मिंदा न हो उतना भी काफी होगा न? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • शब्दों की विचार परिवर्तन में अहम् भूमिका है। हम जो पढ़ते हैं, सुनते हैं, उनका हमारे विचारों पर प्रभाव पड़ता है। वैसे तो हम कुछ सोचे उसके लिए भी किसी भाषा की जरुरत तो होती ही है। रही बात संकीर्णता की, तो जैसा हम सोचेंगे, जो हमारे विचार होंगे वही हमारे व्यवहार और कार्यों में भी परिलक्षित होंगे। तो यह सोचना कि कहने से क्या होगा, गलत है। सही दिशा में सोचना भी जरुरी है, कहना भी और करना भी। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • लोग कहते हैं लिखने से क्या होता है? बिल्कुल लिखने से कुछ नहीं होता पर पढ़ने से होता है, बिल्कुल होता है। और अगर दुनिया की 7 अरब की आबादी में से 1 इंसान की सोच भी अगर कुछ पढ़कर सकारात्मक दिशा में बढ़ती है तो लिखना सार्थक है। शत प्रतिशत सार्थक है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कई बार मैंने पढ़ा है कि दूसरों के लिए खुद को नहीं बदलना चाहिए। मुझे समझ नहीं आता कि अगर बदलाव जरुरी हो और अच्छे के लिए हो तो खुद को बदलने में बुरा क्या है? हम पत्थर नहीं है जीवित हैं, इसलिए अच्छे बदलाव के लिए हमें हमेशा तैयार रहना चाहिए। क्योंकि सच तो यह है कि हम सिर्फ खुद को बदल सकते है दूसरों को नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दुनिया वैसी ही है, जैसा हम इसके बारे में सोचते हैं। हम अपने विचार बदल लें, तो दुनिया बदल सकते हैं। ~ एच एम टॉमिलसन / H M Tomlinson 
  • हम जो हैं, वही बने रहकर वह नहीं बन सकते, जो हम बनना चाहते हैं। ~ मैवस डेप्री / Max Depree 
  • या तो परिस्थितियों को जैसी हैं, वैसी ही स्वीकार करें अन्यथा उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व पूरा करें। ~ डेविड बेटले / David Battley 
  • एक सफल क्रांति के लिए सिर्फ असंतोष का होना पर्याप्त नहीं है, जिसकी आवश्यकता है वो है न्याय एवं राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों में गहरी आस्था। ~ डॉ भीम राव अम्बेडकर / Dr Bhim Rao Ambedkar

Feel free to add your views or more quotes about change via comments.

Wednesday, August 17, 2016

Human Nature Quotes in Hindi

मानव प्रकृति, मानवीय स्वभाव, व्यवहार. Human Beings Nature Quotes in Hindi. Humanity, People Behavior Philosophy, Temper, Manav Swabhav, Manviya Vyavahar.

Human Nature Quotes

  • प्रारब्ध वृत्तियों का निर्माण करते हैं और वृत्तियाँ फिर से प्रारब्ध का। सम्यकत्व मार्ग है इस कुचक्र को तोड़कर सिर्फ अपनी प्रकृति में शेष रह जाने का। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • बारिश के बाद पेड़-पौधों की ख़ुशी देखते ही बनती है। पत्ते-पत्ते से झलकता है प्रकृति का अनुपम सौन्दर्य!... तिस पर इस सौन्दर्य को चार चाँद लगाती कोयल की स्वर लहरियां और मयूरों का अद्भुत नृत्य; नदियों, झीलों, पोखरों में भर आये स्वच्छ जल की कल-कल और पहाड़ों की निराली छटा…! ऐसा लगता है मानों प्रकृति का कण-कण प्रेम से अभिभूत होकर आसमां की ओर अपनी कृतज्ञता प्रकट कर रहा हो। बस यहाँ-तहाँ हम मनुष्यों द्वारा फैलाये गए कूड़ा-करकट, प्लास्टिक, पॉलीथिन आदि यह संकेत जरुर देते नज़र आते हैं कि हम मनुष्य प्रकृति की सबसे नालायक औलादें हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जब तक ईश्वरत्व सम्मुख रहता है तब तक उसे पत्थर मारे जाते हैं, जहर दिया जाता है, सूली पर चढ़ाया जाता है, और जब वह अदृश्य हो जाता है तब उसकी प्रतिमाएं बनाकर उसको पूजा जाता है। अज़ब है न?...पर सच भी तो है। सोचो! कहीं तुम अपने अहंकार को तो नहीं पूजते? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • मैंने यहाँ सिर्फ विरोधी और समर्थक देखे हैं...निष्पक्ष बहुत कम। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सहज उपलब्ध भी अनमोल होता है कई बार। बस पहचानने और सहेजने का हुनर चाहिए। पर पहुँच से दूर के पीछे दौड़ते-दौड़ते हम अक्सर उसे खो देते हैं जो सहजता से उपलब्ध था कभी। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • व्यक्ति एकांत क्यों चुनता है? जब उसे पता चलता है कि आसपास जो लोग हैं उनसे उसके विचार नहीं मिलते। जब उसे ना किसी पर नियंत्रण करने की इच्छा है और ना ही वह खुद पर किसी का नियंत्रण चाहता है। जब वह व्यर्थ की बहस, विवादों, लड़ाई-झगड़ों से खुद को दूर रखना चाहता है।...पर समस्या यह है कि जब आप एकांत और तटस्थता चुनेंगे, तब भी आप लोगों की आँखों में चुभेंगे। क्योंकि यहाँ हर कोई सिर्फ नियंत्रण चाहता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • कुछ लोगों को कैलकुलेटर बनना चाहिए था इंसान नहीं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • पाप में पड़ना मानव स्वभाव है। उसमें डूबे रहना शैतान स्वभाव है। उस पर दुखित होना संत स्वभाव है और सब पापों से मुक्त होना ईश्वर स्वभाव है। ~ एच डब्ल्यू लॉगफैलो / Henry Wadsworth Longfellow 
  • हम अपने आपको अपने इरादों और दूसरों को उनके कर्मों से आंकते हैं। ~ स्टीफन आर कोवी / Stephen R Covey 
  • यदि आप अपने आप से मिलें तो क्या आप खुद को पसंद करेंगे? ~ अज्ञात / Unknown 
  • जो आपके साथ गप्प लगाते हैं। वे आपके बारे में दूसरों के साथ भी गप्प लगायेंगे। ~ अज्ञात / Unknown 
  • जैसे-जैसे मशीनें, इंसानों की जगह ले रही है, इंसान मशीनों जैसा होता जा रहा है। ~ जे. क्रुच / J. Krutch 
  • मनुष्य जितना स्वार्थी होता है उतना ही अनैतिक भी होता है। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • हम वस्तुओं को जैसी हैं वैसे नहीं देखते हैं। हम उन्हें वैसे देखते हैं, जैसे कि हम हैं। ~ टालमड / Talmud 
  • मानव के सभी गुणों में साहस पहला गुण है, क्योंकि यह सभी गुणों की जिम्मेदारी लेता है। ~ Winston Churchill ‘विंस्टन चर्चिल’
 
Feel free to add your views or more quotes about human nature via comments.


Tuesday, August 16, 2016

Raksha Bandhan Shayari in Hindi

रक्षाबंधन शायरी, राखी त्यौहार, भाई बहन. Raksha Bandhan Shayari in Hindi for Brother Sister. Rakhi Kids Poetry, Lines, Slogans, Quotes, Sms, Messages, Status. 
 
Raksha Bandhan Shayari in Hindi
 
राखी

कच्चे धागों से बनी पक्की डोर है राखी
प्यार और मीठी शरारतों की होड़ है राखी।

भाई की लम्बी उम्र की दुआ है राखी
बहन के प्यार का पवित्र धुँआ है राखी।

भाई से बहन की रक्षा का वादा है राखी
लोहे से भी मजबूत एक धागा है राखी।

जांत-पांत और भेदभाव से दूर है राखी
एकता का पाठ पढ़ाती नूर है राखी।

बचपन की यादों का चित्रहार है राखी
हर घर में खुशियों का उपहार है राखी।

रिश्तों के मीठेपन का अहसास है राखी
भाई-बहन का परस्पर विश्वास है राखी।

दिल का सुकून और मीठा सा ज़ज्बात है राखी
शब्दों की नहीं पवित्र दिलों की बात है राखी।

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views via comments about these shayari on Raksha Bandhan. 
 

Poem on Rakhi in Hindi

राखी का त्योहार कविता, रक्षाबंधन शायरी. Poem on Rakhi Festival in Hindi for Kids. Happy Brother Sister Day Kavita, Shayari, Wishes Rhymes, Greetings Lines. 
 
Poem on Rakhi in Hindi
 
राखी लाये खुशियाँ पूरी

कुमकुम रोली और मिठाई
राखी की थाली सज आई
बहन आज फूली न समाई
संग राखी खुशियाँ घर आई।

बांध हाथ राखी का धागा
और लिया भैया से वादा
भैया मुझको भूल न जाना
जीवन भर तुम साथ निभाना।

भैया बोला बहना प्यारी
तू है मेरी राजदुलारी
आंच ना आने दूंगा तुझपे
ये मेरा है वादा तुझसे।

बना रहे ये प्यार सदा
रिश्तों का अहसास सदा
कभी ना आये इसमें दूरी
राखी लाये खुशियाँ पूरी

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views via comments about this poem on festival Rakhi. 
 
 

Raksha Bandhan Poem in Hindi

रक्षाबंधन पर कविता, राखी भाई बहन का त्यौहार. Poem on Raksha Bandhan Festival in Hindi. Rakhi Kavita, Brother Sister Rhymes, Bhai Behan ka Tyohar Verses, Lines.

Raksha Bandhan Poem in Hindi

रहे न बचपन के अहसास

रहे ना बचपन के अहसास
रही ना अब रिश्तों में मिठास
रक्षाबंधन का पर्व रहा ना
पहले जैसा खास।

भाई है अब व्यस्त बहुत
बहना को रही ना फुर्सत
राखी के कच्चे धागों की
अब ना किसी को जरुरत।

रहे ना रिश्तों में ज़ज्बात
रही ना पहले जैसी बात
रक्षाबंधन अब ना लाता
खुशियों की सौगात।

रफ़्तार भरा है ये जीवन
पल भर भी ठहरना नामुमकिन
राखी आती जाती रहती
पर ना थमते भाई-बहन

लौटा दो बचपन का वो प्यार
रक्षाबंधन का त्यौहार
खट्टी मीठी नोंक-झोंक और
प्यार भरी तकरार।

By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views via comments about this hindi poem on Raksha Bandhan. 
 

Monday, August 15, 2016

How to Celebrate Raksha Bandhan

रक्षाबंधन कैसे मनाये, राखी का त्यौहार. How to Celebrate Raksha Bandhan in Hindi for Kids. Rakhi Celebration Ideas. Brother Sister Festival Gifts Tips, Article.
 
How to Celebrate Raksha Bandhan in Hindi

Rakshabandhan Celebration Ideas

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को सेलिब्रेट करने का त्यौहार है रक्षाबंधन! इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी का पवित्र धागा बांधती है और उसकी लम्बी उम्र, सफलता और खुशियों की ईश्वर से प्रार्थना करती है। वहीँ भाई जीवन पर्यंत अपनी बहन की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेता है। राखी का यह पवित्र धागा लोहे की जंजीर से भी ज्यादा मजबूत माना जाता है। राखी का त्यौहार तो आने वाला है, तो आप इसे कैसे सेलिब्रेट करने जा रहे हैं? कृपया इस त्यौहार को एक औपचारिकता की तरह मत मनाईये। मेरा तो मानना है कि हर एक त्योहार इस तरह से मनाया जाना चाहिए कि यह हमारे जीवन में कुछ यादगार लम्हों की गहरी छाप छोड़ जाये, ताकि जब भी हम इन लम्हों को याद करें तो मुस्कुराये बिना न रह पायें। वैसे भी आजकल की भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में अपनों के लिए समय निकालना भी कितना मुश्किल हो गया है। ऐसे में राखी एक अवसर है अपने सिब्लिंग्स के साथ अपने रिश्तों को मजबूत बनाने का। रक्षाबंधन मनाने के कुछ टिप्स और आइडियाज यहाँ देने जा रही हूँ। अगर आपको पसंद आये तो इन्हें अपनाकर इस राखी को यादगार बनाये।
  • अगर आप सच में कुछ यूनिक और स्पेशल करना चाहते हैं तो इस बार राखी किसी अनाथालय या वृद्दाश्रम में मनाइए। सभी को राखी बांधिए और बंधवाइए और कुछ मिठाईयाँ, फल, तौहफे वितरित कीजिये। इससे मिलने वाली ख़ुशी कुछ अलग ही होगी। 
  • हैण्ड मेड राखी और ग्रीटिंग कार्ड्स से बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता और ये सब करना इतना मुश्किल भी नहीं है। अगर आपका भाई एक किड है तो आप कार्टून फिगर्स का उपयोग करके राखी और ग्रीटिंग कार्ड्स बना सकती हैं। ग्रीटिंग कार्ड में भाई के लिए कुछ प्यारे-प्यारे सन्देश और कवितायेँ लिखिए और रंगीन कागजों, कागज़ के फूलों, मोतियों, ग्लिटर, कार्टून चित्र आदि से इन्हें सजाइये।  
  • भाई-बहन के साथ अपनी बचपन की यादों को समेटता हुआ एक फोटो कोलाज या वीडियो बना सकते हैं। बचपन से लेकर अब तक की सभी पिक्चर्स को इसमें शामिल कीजिये। अपने भाई या बहन को गिफ्ट कीजिये। यह सच में सरप्राइजिंग होगा। 
  • बहन या भाई एक दूसरे की पसंद की कुछ डिशेज बना सकते हैं या फिर सभी सिब्लिंग्स मिलकर बाहर एक लंच या डिनर पार्टी का आयोजन कर सकते हैं।  
  • सभी सम्बन्धियों के लिए आप एक छोटा सा फंक्शन भी प्लान कर सकते हैं। नाच-गाना, गेम्स, जोक्स आदि को इस उत्सव का हिस्सा बनाईये और एन्जॉय कीजिये। फॅमिली पिकनिक भी प्लान किया जा सकता है।  
  • गिफ्ट्स किसी भी त्यौहार में चार-चाँद लगा देते हैं। यह जरुरी नहीं है कि अपने बजट से बाहर जाकर आप कोई महंगा सा गिफ्ट खरीदें। तौहफा जो भी दें अपने दिल से दें क्योंकि उसके पीछे जो भावनाएं हैं वह सबसे ज्यादा मायने रखती है और जिसे गिफ्ट दे रहे हैं उसकी पसंद का ख़याल भी रखें। अपने छोटे से भाई के लिए आप गेम्स, खिलौने, कपड़े, चॉकलेट्स, स्पोर्ट्स वाच आदि चुन सकते हैं और अपने बड़े भाई के लिए शर्ट्स-जीन्स, घड़ी, मोबाइल, पोर्टफोलियो बैग, नॉवेल, जैकेट, पर्स, बेल्ट, टाई आदि। अपनी छोटी सी बहन के लिए आप टेडी बीयर, चॉकलेट्स, बार्बी डॉल, फ्रॉक्स आदि ले सकते हैं और अपनी बड़ी बहन के लिए ज्वेलरी जैसे ब्रेसलेट, एंकलेट, एअरिंग्स, नेकलेस और फैंसी टॉप्स या कुछ पारंपरिक परिधान आदि ले सकते हैं।  
  • अगर आपके बहन या भाई काफी लम्बे समय से कुछ खरीदने की प्लानिंग कर रहें हैं पर अभी तक खरीद नहीं पाए हैं तो इस राखी आप वही चीज़ उन्हें गिफ्ट कर सकते हैं। It will be a great surprise for her/him. 
आज के व्यस्त जीवन में त्यौहार हमारे घर खुशियाँ लाते हैं इसलिए कुछ ऐसा करें कि ये खुशियाँ चौगुनी हो जाये। मैं कामना करती हूँ की राखी का ये त्यौहार आपके लिए मंगलमय और खुशियों से भरपूर हो। आप सभी को दिल से रक्षाबंधन की शुभकामनायें।
 
By Monika Jain 'पंछी'

Feel free to add your views or more ideas about celebrating raksha bandhan via comments.

Poem on Sister in Hindi

बहन के जन्मदिन पर कविता, भाई दूज शायरी. Poem on Sister from Brother in Hindi. Bhai Dooj Kavita, Behan Bhaiya Shayari, Siblings Birthday Poetry, Lines, Slogans.

बहन धरा पर ना हो तो

बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा
ना होगा ममता का आँचल
ना निश्छल नेह-दर्पण होगा।
बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा।

तुम गंगा की पावन धारा
तुमसे हर हिस्से मैं हारा
कितना भी झगडूं तुमसे मैं
फिर भी मैं आँखों का तारा।
पाकर बस सान्निध्य तुम्हारा
निर्मल सबका तन-मन होगा
बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा।

तुममें जीवन की आशा है
तुमसे हर इक परिभाषा है
जिसे मिला ना साथ तुम्हारा
पूछो वो कितना प्यासा है।
हो ज्योतिर्पुंज जहाँ तुम्हारा
आलोकित वो आँगन होगा
बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा।

हर सफ़र में साये सी, तुम मिलती हो
ज़ख्म पे मरहम कर, तुम सिलती हो
हो जाये पतझड़ जब ये जीवन मेरा
किसी मधुमास सी, तुम खिलती हो।
तुम किलकारी बन गूंजो जिसमे
वो घर कितना पावन होगा
बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा।

सुनो समाज के लोगों तुम
एक सिफ़ारिश तुमसे है
ना समझो बहनों को अबला
एक गुज़ारिश तुमसे है।
होगा समाज संपन्न तभी
जब सुख इनके दामन होगा
बहन धरा पर ना हो तो
दोज़ख़ जैसा जीवन होगा।

By Malendra Kumar

Feel free to add your views via comments about this poem for a sister from a brother. 
 
 

Sunday, August 14, 2016

Poverty Quotes in Hindi

निर्धनता, गरीब, गरीबी पर विचार. Poverty Quotes in Hindi. Help Poor People Status, Anti Hunger Sms, Helping the Needy Slogans, Nirdhanta, Gareebi, Garib.

Poverty Quotes

  • सामान्यत: जितने भी कदम उठाये जाते हैं वे आर्थिक विषमता को बढ़ावा देने वाले ही होते हैं। आर्थिक समानता का सपना क्या कभी साकार हो पायेगा? आर्थिक विषमता की खाइयों से उपजे विकास का खोखलापन किसी को नज़र आता क्यों नहीं? ~ Monika Jain ‘पंछी'
  • जिसके पास दूसरों के लिए प्यार नहीं होता, जो अपने सिवा किसी और के बारे में नहीं सोच सकता। उससे ज्यादा गरीब और कोई नहीं होता। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जहाँ भी पुरुषों, महिलाओं को भयानक गरीबी में रहने को मजबूर किया जाता है, वहां मानवाधिकारों का उल्लंघन होता है। ~ जोसेफ व्रेंसिस्की / Joseph Wresinski 
  • गरीब वह नहीं है, जिसके पास बहुत कम है, गरीब तो वह है जो ज्यादा के लिए मरा जा रहा है। ~ रोमन दार्शनिक 
  • पीड़ा तो अवश्यम्भावी है, लेकिन निर्धनता वैकल्पिक है। ~ टिम हैंसेल / Tim Hansel 
  • जब तक लाखों लोग भूखे और अज्ञानी हैं, तब तक मैं उस प्रत्येक व्यक्ति को गद्दार मानता हूँ, जो उनके बल पर शिक्षित हुआ और अब वह उनकी ओर ध्यान नहीं देता। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • महात्मा वही है जिसका ह्रदय गरीबों के लिए रोता है, अन्यथा वह तो दुरात्मा है। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • ऐ भारत के गरीबों, दलितों! तुम्हारा उद्धार इस बात में है कि तुम अपने हितों की रक्षा करने वाले काम करो ना कि इस बात में है कि तुम तीर्थयात्रा करते रहो या व्रत और पूजा में अपना समय गंवाते रहो। धर्मग्रंथों के समक्ष माथा टेकते रहने से या उनके अखंड पाठ करते रहने से तुम्हारे बंधन, तुम्हारी आवश्यकताएं तथा तुम्हारी निर्धनता कभी दूर नहीं हो सकती। तुम्हारे बुजुर्ग इन कामों को सदियों से करते आ रहे हैं पर क्या तुम्हारी निर्धनता पर इसका कुछ भी असर पड़ा। ~ डॉ भीम राव अम्बेडकर / Dr Bhim Rao Ambedkar

Feel free to add your views or more quotes about poverty via comments.


Saturday, August 13, 2016

Save Animals Essay in Hindi

पशु-पक्षी निबंध, वन्य जीव संरक्षण लेख. Save Animals Birds Essay in Hindi. Domestic, Endangered Wildlife Conservation Paragraph, Stop Cruelty Article, Speech.

Save Animals Essay in Hindi

(1)
 
अपनी ढपली अपना राग

हिंदुत्व श्रेष्ठ है इसलिए हिंदुत्व ही बचना चाहिए।
इस्लाम श्रेष्ठ है इसलिए इस्लाम ही बचना चाहिए।
इंसान श्रेष्ठ है इसलिए इंसान ही बचना चाहिए।
सारी मिथ्या घोषणाएं हमारी! बिल्कुल अपनी ढपली...अपना राग की तर्ज पर। और इन सारी घोषणाओं के पीछे जो चीज प्रमुखता से चलती है वह है : राजनीति, मालकियत, सत्ता, अहंकार, नियंत्रण और अपने विस्तार की भावना। लेकिन पानी पी-पीकर हमें अगर किसी चीज को कोसना है तो वह है धर्म! खैर...अमूर्त चीजों पर अपना गुस्सा निकालना हर हाल में बेहतर है। कम से कम इस क्रोध की अग्नि में कोई मारा तो नहीं जाता। बाकी इंसान कितना ज्यादा श्रेष्ठ है इसका पता भी तब ही चल सकता है जब इंसान और किसी जीवन के बिना इस धरती पर बच सके। बाकी जिसे सच में जीव हत्या से आपत्ति हो वह न तो गाय के मारे जाने का समर्थन कर सकता है और न ही गाय को मारने वाले इंसान को मार डालने का समर्थन कर सकता है। वैसे ये जबरन किसी को भी माता-पिता, भाई-बहन बनाने वाले इंसान भी किसी चमत्कार से कम नहीं। स्वार्थ को रिश्तों का जामा पहनाना कोई हमसे सीखे। जब तक गाय घोषणा नहीं कर देती कि मैं तुम्हारी माता हूँ, तब तक हमारे लिए यही बेहतर है कि हम अपनी भावनाओं को अपने नियंत्रण में रखे और उसे अपने बछड़े की माता ही बने रहने दें। ~ Monika Jain ‘पंछी’

(2)

प्रेम : एक सर्वव्यापी भाषा
 
घर में मेरी सबसे फेवरेट जगह होती है छत। कुछ दिन पहले छत पे ही खड़ी थी तभी पास ही के एक खाली प्लाट से नेवलों का एक प्यारा सा जोड़ा एक के पीछे एक गुजर रहा था। पीछे वाले को जाने कैसे इतनी ऊपर मैं नजर आ गयी। वह सर ऊंचा कर मुझे देखने लगा/लगी। थोड़ी दूर चलता...फिर मुंह ऊपर करके देखता, फिर कुछ दूर चलता फिर ऊपर देखता। अब आगे बढ़ चुका था, तब भी उसका पीछे मुड़कर और सर ऊंचा कर देखना जारी रहा। ऐसे ही आज नीचे एक गाय का बछड़ा खड़ा था। वह भी सर ऊपर करके लगातार 10 मिनट तक बड़ी क्यूरोसिटी से देखता रहा। मैंने प्यार से पलके झपकाई इस तरह ^_^ तो बदले में उसने भी झपका दी। :) 
उस दिन भी और आज भी मेरा इतना मन हुआ उनसे बात करने का। बार-बार यही सोच रही थी काश! मुझे उनकी या उन्हें मेरी भाषा समझ में आती तो कितनी सारी बातें करते हम लोग। लेकिन दुनिया में एक भाषा और भी तो होती है ~ प्रेम की भाषा, जो कि सर्वव्यापी है। जिसके आगे सारे शब्द बोने हो जाते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’

(3)

गर आप वह पंछी होते...

एक अंकल जी कहीं पर बोलते दिखे, 'इन तोतों के लिए मैंने इतना बड़ा पिंजरा इसलिए ही बनावाया है ताकि इनकी आज़ादी में कोई खलल न पड़े।' (इत्ता बड़ा अहसान :o)

प्यारे अंकल जी,

आकाश को नापने वाले पंछियों के लिए कोई कितना बड़ा पिंजरा बनवा सकता है भला? पंछी पिंजरे में रहने को होते तो उनके पंख क्यों होते? कैदखाना स्वर्ण महल हो तब भी एक बंदिशों से रहित झोपड़ी से बदतर होता है...महसूस करके देखिये। परिंदों की आज़ादी पर यह फैसला लेने का हक़ आपको किसने दिया? उनकी आज़ादी का निर्णय उन पर ही छोड़ दीजिये न!...और भी बहुत कुछ है कहने को...पर बस आप एक पल को सोचिये - गर आप वह पंछी होते तो? ~ Monika Jain ‘पंछी’

Feel free to add your views via comments about these short paragraphs on saving animals and birds.

Self Confidence Quotes in Hindi

आत्मविश्वास पर विचार, आत्मनिर्भरता उद्धरण. Self Confidence Quotes in Hindi. Reliance Sms, Dependency Lines, Atmavishwas Proverbs, Sayings, Slogans, Status.

Self Confidence Quotes
 
  • ईर्ष्यावश दुष्प्रचार का हासिल क्या है? अपने स्तर से थोड़ा नीचे जाकर उस पर प्रतिक्रिया देने का भी कोई अर्थ नहीं। लेकिन मेरे विश्वास पर जो गहरे आघात करते हैं, वे नहीं जानते कि वे मुझे कितना भी दर्द दें लेकिन वे मेरे खुद पर विश्वास की गहराई को बढ़ा जाते हैं। पूर्णता हासिल करने के लिए बस एक इसी चीज की तो जरुरत है...और कुछ कहाँ? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • आसाराम की सच्चाई सामने आने के बाद एक मित्र का ईमेल आया। जिसमें उन्होंने बताया कि उनका एक परिचित आसाराम का बहुत बड़ा भक्त है और उसने सारे कुव्यसन छोड़ रखे हैं, लेकिन आसाराम की सच्चाई सामने आने के बाद उसकी श्रद्धा तार-तार हो गयी है और अगर ऐसा ही होता रहा तो लोगों का धर्म पर से विश्वास ही उठ जाएगा। यह पढ़ते ही स्वामी विवेकानंद का कहा हुआ कुछ याद आया और मैंने दोहराया : क्या इस बात की चिंता करना जरुरी है कि महावीर, गौतम बुद्ध, महात्मा गाँधी, मुहम्मद या जीसस अच्छे थे या बुरे? अगर इनमें से कोई बुरा भी हो तो क्या उससे हमारी अच्छाई में परिवर्तन आना चाहिए? क्या हम अपने स्वयं के लिए और अपनी जिम्मेदारी पर अच्छे नहीं बन सकते? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हर किसी को अपना आदर्श मत बनाओ। जब तुम एक पाखंडी को अपना आदर्श बनाते हो तो शोषण की संभावनाएं बहुत बढ़ जाती है। जब एक सच्चे और ईमानदार व्यक्ति को अपना आदर्श बनाते हो जिसने अभी यात्रा शुरू ही की हो तो उस पर अपेक्षाओं और जिम्मेदारियों का बहुत बड़ा बोझ डाल देते हो। आदर्श ऐसे व्यक्ति को बनाओ जो अपनी मंजिल पा चुका हो या पाने वाला हो, वरना अपने साथ-साथ तुम उसके भी भटकने का कारण बन सकते हो। वैसे निर्भरता, श्रद्धा या आस्था की दृष्टि से यह सबसे मुश्किल समय है। यहाँ किसी ऐसे का मिलना जो पार लगा दे बहुत मुश्किल है। यहाँ विश्वास और निर्भरता बाहर नहीं भीतर खोजने की जरुरत है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जीवन में आशा और आत्मविश्वास ही वह वस्तुएं हैं, जो हमारी शक्तियों को जाग्रत करने का काम करती हैं। ~ स्वेट मॉर्डन / Swett Marden
  • लोगों को आत्मविश्वास दिलाना सबसे जरुरी काम है जो मैं कर सकता हूँ, क्योंकि तब वे खुद कर्म करेंगे। ~ जैक वेल्च / Jack Welch
  • आत्मविश्वास सरीखा दूसरा मित्र नहीं। स्वयं पर विश्वास ही भावी उन्नति का मूल पाया है। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda

Feel free to add your views or more quotes about self confidence via comments.


Friday, August 12, 2016

Self Improvement Quotes in Hindi

आत्म सुधार. Self Improvement Quotes in Hindi. Personal Development Tips, Growth Ideas, Self Help Status, Sayings, Thoughts, Sms, Messages, Slogans, Proverbs.

Self Improvement Quotes

  • विरोधाभास (द्वंद्व /द्वैत) के बिना भौतिक अस्तित्व शायद संभव नहीं : समष्टि का भी और व्यष्टि का भी। सकारात्मक और नकारात्मक दोनों में से एक भी अगर पूर्ण रूप से खत्म हुआ तो यह दृश्य नहीं रहेगा। सब कुछ सिमटकर दो शब्दों/छोरों के बीच समा सकता है यह तो हम जानते हैं। पर ये दो शब्द भी सिमट कर जिस शून्य/अदृश्य तक पहुँचते हैं, उसे हम नहीं जानते। उसे जानना ही शायद वास्तव में जानना या पूर्ण जानना है। ऐसे में अगर हम सिर्फ दूसरों के (बाहरी) विरोधाभासों को ही चिह्नित करने में लगे रहे तो कुछ भी नहीं हाथ आने वाला। अंतत: जानने का रास्ता भीतर ही जाता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • समस्त प्रयासों के बाद भी जब हम किसी को न समझ पायें तो उसे समझ पाने की इच्छा और प्रयत्न को छोड़कर हमें खुद को समझने में लग जाना चाहिए। इसके बाद सबको समझने लगेंगे। :p :) ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • कोई भी प्रथा, कोई भी नियम, कोई भी कानून कितने भी अच्छे उद्देश्य से बनाया जाए मनुष्य उसका दुरूपयोग ढूंढ ही लेता है। यह हमेशा से होता रहा है, यह हमेशा होता रहेगा। क्योंकि सारी बीमारियाँ भीतर की है, अब यह भीतर चाहे किसी का भी हो। बाहर समाधान कभी मिलेंगे, मुश्किल लगता है। सिर्फ शोषण का चाबुक एक हाथ से दूसरे, दूसरे से तीसरे और तीसरे से चौथे में घूमता रहेगा। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • धर्म आत्मसुधार के लिए होता है, समाज सुधार के लिए नहीं। हाँ, आत्म सुधार जरुर समाज सुधार का मार्ग प्रशस्त करता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • सीखना हो ऐसा...कि अतीत बन जाए कहानी किसी और की। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • जब तक सिर्फ समर्थन और विरोध चलता रहेगा, तब तक सिर्फ समर्थन और विरोध ही चलता रहेगा। नतीजा...सिफर! ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • किसी भी अच्छे भले व्यक्तित्व का नाम लो तो कुछ लोगों का सबसे पहला काम उसके जाति, धर्म, संप्रदाय, क्षेत्र की खबर लेना रहेगा। इनमें कुछ अनुकूल न मिला तो कुछ लोग आलोचना के बहाने खोजने लगेंगे और कुछ विरले लोग इन सबसे बेखबर उस व्यक्तित्व के गुणों की ओर आकृष्ट होंगे। यह पूरी तरह से हमारी चेतना के स्तर और ग्राह्यता पर निर्भर करता है कि हम किसी बेहतर व्यक्तित्व में अपने स्वार्थ और अहंकार को पोषित करने वाले तत्व खोजते हैं या फिर आत्म सुधार और आत्म विकास का मार्ग प्रशस्त करने वाले तत्व। ~ Monika Jain ‘पंछी’  
  • यदि आप शांति चाहते हैं तो दूसरों के दोष देखना बंद करिए और अपने दोष देखिये। ~ अज्ञात / Unknown  
  • तृष्णा के वशीभूत होकर व्यक्ति विवेकहीन हो जाता है। अतः तृष्णा पर लगाम लगायें। ~ अज्ञात / Unknown  
  • परिस्थितियां मानव नियंत्रण से बाहर है लेकिन हमारा आचरण हमारे ही नियंत्रण में है। ~ बेंजामिन फ्रेंकलिन / Benjamin Franklin  
  • आत्मा से भिन्न सभी दृश्यमान पदार्थ नश्वर है, क्षण भंगुर है, विनाशशील है और नाशवान है अतः आत्मा की चिंता करो। ~ अज्ञात / Unknown  
  • जीवन की दीर्घता की अपेक्षा जीवन की गुणवत्ता ज्यादा महत्वपूर्ण होती है। ~ अज्ञात / Unknown  
  • स्वयं को स्वयं का चौकीदार बनाने में लाभ ही लाभ है। ~ अज्ञात / Unknown  
  • यदि आप खुद को जवाब देते हैं, तो आपको किसी को जवाब देने कि जरुरत नहीं। ~ अज्ञात / Unknown
 
Feel free to add your views or more quotes about self improvement.

Thursday, August 11, 2016

Simplicity Quotes in Hindi

सादगी उद्धरण, सरलता, सहजता, सरल. Simplicity of Life Quotes in Hindi. Simple Living is Being Beautiful, Saadgi Sms, Saralta Status, Innocence, Simpleness.

Simplicity Quotes

  • जितनी सरलता...उतनी स्वतंत्रताजितनी सहजता...उतनी सुन्दरता...~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जिसे इसका भान हो कि उसके ज्ञान की सीमा क्या है और यह स्वीकारने में कोई हिचक न हो कि यह उसे आता है और यह नहीं आता है, ऐसे लोग मुझे बेहद अच्छे लगते हैं। उनके प्रति अनायास ही सम्मान और विश्वास की भावना आ जाती है। विशेषज्ञ/विद्वान होने के बावजूद भी कुछ मामलों में कोई गलत/अज्ञानी हो सकता है...और यह स्वीकार कर पाने का साहस ही व्यक्ति को महान बनाता है। पर अक्सर अहंकार लोगों को अपनी सीमाएँ देखने ही नहीं देता और अपने अहंकार के शोर में वे दूसरों को सुन या समझ नहीं पाते। और फिर लोग इतने ईमानदार भी तो नहीं होते। कुछ सब गोलमोल कर देंगे पर स्वीकार कभी नहीं करेंगे। बड़े पदों पर पहुँचने के बाद भी अगर ईमानदारी, स्वीकारोक्ति, सरलता और विनम्रता का यह गुण बरकरार रहे तब तो सोने पर सुहागा है। भले ही अपनी समस्या का समाधान मिले न मिले, पर मैं जब भी ऐसे लोगों से मिलती हूँ, मुझे बहुत ख़ुशी होती है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जितने अधिक आप सरल व स्पष्ट बनेंगे...उतने ही लोग आपके लिए अधिक जटिल बनते जायेंगे। लेकिन सरलता की असल परीक्षा भी यही है कि वह उस स्तर तक पहुँच सके जहाँ वह लोगों की जटिलता को भी सरलता से स्वीकार कर सके। :) ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सहजता और सरलता सबसे अधिक सरल और सहज ही है। यह बस हमारे मन की ग्रंथियां हैं जो सबसे सरल को सबसे मुश्किल और सबसे जटिल को सबसे आसान मान लेती है। किसने कहा झूठ बोलना आसान है? कोई उससे जाकर पूछे जिसने सहज सत्य का सुख चख लिया हो। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सरलता के पास सारे समाधान है, पर लोग जटिलता में उलझे हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हर जगह शब्दों की जादूगिरी से काम नहीं चलता। कुछ चीजे सीधी कहे जाना और सीधे समझे जाना जरुरी होता है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दिखावे की कीमत होती है, मन की शांति...और इसका परिणाम होता है, जन की ईर्ष्या। बहुत घाटे का सौदा है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • दूसरों की जासूसी छोड़कर जिस दिन से हम अपनी जासूसी करने लगेंगे...जीवन सरल से सरलतम होने लगेगा। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • प्रतीकात्मक शब्दों का अतिप्रयोग अर्थ के कितने अनर्थ करता है यह धर्मों के सन्दर्भ में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। इसलिए जरुरी है 'सीधी बात नो बकवास'। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • सरलता ही सबसे अधिक होती है प्रभावी, गोलमोल पर होती है सिर्फ वाहवाही। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जिसने जीवन की जटिलता को जितना अधिक जाना, वह उतना ही सरल हुआ। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • अत्यंत सरल विचार केवल क्लिष्ट मस्तिष्कों की पहुँच में होते हैं। ~ आर डे गरमॉंन्ट 
  • सरलतापूर्वक कहे गए वचन को अन्यथा नहीं समझना चाहिए। ~ अश्वघोष / Ashvaghosha 
  • सादगी का मतलब है सीमित बिस्तर के साथ ज़िन्दगी का सफ़र तय करना। ~ चार्ल्स वार्नर / Charles Warner

Feel free to add your views or more quotes about simplicity via comments. 
 
 

Soul Quotes in Hindi

आत्मा, अंतर्मन, रूह, साक्षी, चेतना, दृष्टा, मन, शरीर. Soul Quotes in Hindi. Spirit Sms, Mind, Conscience Status, Aatma Suvichar, Atma, Antarman, Self, Body.

Soul Quotes

  • शरीर के तल पर, मन के तल पर और आत्मा के तल पर जीने वालों के सच और क्षमताएं अलग-अलग होते हैं। हम जब तक अगले तल तक या उसके निकट कभी पहुँचे ही नहीं...तब तक आध्यात्म, आत्मा, ब्रह्मचर्य, अंतर्ज्ञान, परस्पर भाव बोध...ये सब कुछ हमें बकवास, अप्राकृतिक और झूठ ही लगेगा। प्रेम, अहिंसा और करुणा आत्मा का स्वभाव है और ध्यान/सामायिक या सजगता उस मूल स्वभाव तक पहुँचने के साधन। यह सिर्फ वह ध्यान/सामायिक नहीं जो एक घंटे बैठकर कर लिया जाए। यह जागरूकता हर क्षण वाली है। जैसी परिस्थितयां हमने बना दी हैं उसमें सबसे लम्बी और सबसे मुश्किल यात्रा खुद तक पहुँचने की ही होती है। कितना अजीब है न...चाँद और मंगल तक पहुँच जाने वाले हम विकसित प्राणी अपनी आत्मा से कितना दूर होते हैं। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • वह कोई भी कार्य साहस, निर्भयता या पराक्रम नहीं हो सकता जो हमारी आत्मा को पतन के मार्ग पर धकेलता हो। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • हम समानता या विषमता की ओर आकर्षित नहीं होते...पूरक की ओर आकर्षित होते हैं...वह जो हमें पूर्ण बनायें। हालाँकि बाहर पूर्णता की यह तलाश अंतत: निरर्थक ही सिद्ध होती है, बिल्कुल कस्तूरी मृग की तरह। इसलिए जिस प्राणी का पर की ओर आकर्षण जितना कम होता है वह स्वयं में उतना ही पूर्ण होता है।...और यहाँ 'पर' से आशय सिर्फ स्त्री या पुरुष से नहीं, हर उस चीज से है जो हमारी आत्मा से परे है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • समस्याएं 'मैं' से शुरू होती है और समस्याएं 'मैं' पर ही आकर खत्म होती है। पहला 'मैं' है सिर्फ खुद को 'मैं' मानना...और दूसरा 'मैं' है सब को 'मैं' मानना। और इन दोनों 'मैं' के बीच दूरी बस 'मैं' जितनी ही है। ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • एक ही चीज है जो बहुमत को नहीं मानती और वह है मनुष्य की अंतरात्मा। ~ हार्पर ली / Harper Lee 
  • शरीर को बचाने के लिए बहुत उद्यम करता हूँ, आत्मा को पहचानने के लिए करता हूँ क्या? ~ महात्मा गाँधी / Mahatma Gandhi 
  • कोई तब तक सचमुच महान नहीं हो सकता जब तक वह आत्मज्ञान न पा जाए। ~ जिमरमन / Zimmerman 
  • मैं कौन हूँ यह जानने से पूर्व मैं क्या नहीं हूँ यह देखो। तब असलियत का पता चल जाएगा। ~ ब्रह्म चैतन्य / Brahma Chaitanya 
  • अराजकता मानव समस्या का हल नहीं। समाजी चेतना बदलने का सवाल है। ~ अमृतलाल नागर / Amritlal Nagar 
  • तप की साधना करने से पाप नष्ट हो जाते हैं और ज्ञान की आराधना करने से 'आत्मा की अनंतता' प्राप्त होती है। ~ मनु स्मृति / Manusmriti 
  • आत्म संयम द्वारा ही आत्मा का विकास करो, कुत्सित प्रवृतियों द्वारा आत्मा को विषाद मत पहुंचाओं। ~ Geeta / गीता  
  • किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को नहीं पहचानना है और यह केवल आत्मज्ञान प्राप्त करके ही ठीक की जा सकती है। ~ महावीर / Mahavira 
  • हर व्यक्ति की आत्मा अमर होती है लेकिन जो व्यक्ति नेक होते हैं उनकी आत्मा अमर होने के साथ-साथ दिव्य भी होती है। ~ सुकरात / Socrate
 
Feel free to add your views or more quotes about soul via comments.


Wednesday, August 10, 2016

Teachers Day Quotes in Hindi

शिक्षक दिवस विचार, गुरु पूर्णिमा सुविचार, अध्यापक. Teachers Day Quotes in Hindi. Guru Purnima Status, Shikshak Diwas Sayings, Teaching Sms, Adhyapak Messages.

Teachers Day Quotes

  • 'गुरु' शब्द बहुत विस्तृत है। देखा जाए तो सारा अस्तित्व ही गुरु है और यह सीखना सामान्यतया कभी खत्म ही नहीं होता। अब यह हम पर निर्भर करता है कि हम किससे क्या सीखते हैं। किसी की अच्छाई के योगदान को तो नकारा जा ही नहीं सकता, लेकिन अक्सर किसी की बुराई ने भी सिखाया है बेहतर बनना। क्योंकि जो हम अपने लिए किसी से नहीं चाहते वह हम किसी और के लिए कैसे हो सकते हैं? ~ Monika Jain ‘पंछी’ 
  • जो रास्ता दिखाते हैं, उन्हें भटकने का अधिकार नहीं होता। ~ मोनिका जैन / Monika Jain 
  • एक शिक्षक के लिए सफलता का सबसे बड़ा संकेत, यह कह पाना है कि बच्चे अब ऐसे काम कर रहे हैं, जैसे कि मेरा कोई अस्तित्व ही ना रहा हो। ~ मरिया मोंटेसरी / Maria Montessori 
  • एक अच्छा शिक्षक आशा को प्रेरित कर सकता है, कल्पना को प्रज्ज्वलित कर कर सकता है और सीखने के प्रति प्रेम पैदा कर सकता है। ~ ब्रैड हेनरी / Brad Henry 
  • सपने की शुरुआत उस शिक्षक के साथ होती है जो आपमें यकीन करता है, जो आपको खींचता है, धक्का देता है और आपको अगले पठार तक ले जाता है, कभी-कभार ‘सच’ नामक तेज छड़ी से ढकेलते हुए। ~ डैन रायर / Dan Royer 
  • विद्यार्थी कोई चार्ट नहीं बल्कि एक चित्र है जिनके व्यक्तित्व और मस्तिष्क में रंग एक शिक्षक भरता है। ~ अज्ञात / Unknown 
  • कषाय रहित गुरु का एक वचन ही मोक्ष प्रदान करने में समर्थ हो सकता है। ऐसी स्थिति में शेष सभी विद्याएं विडम्बना रूप ही है। ~ गरुड़ पुराण 
  • जो समाज गुरु द्वारा प्रेरित है, वह अधिक वेग से उन्नति के पथ पर अग्रसर होता है, इसमें कोई संदेह नहीं। किन्तु जो समाज गुरु विहीन है, उसमें भी समय की गति के साथ गुरु का उदय तथा ज्ञान का विकास होना उतना ही निश्चित है। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • एक शिक्षक का काम है, छात्रों में जीवनशक्ति देखते हुए उन्हें शिक्षित करना। ~ जोसफ कैंपबेल / Joseph Campbell 
  • शिक्षक हमारे जीवन व समाज के वे महत्वपूर्ण सदस्य हैं, जिनके प्रोफेशनल प्रयास का असर धरती के भाग्य पर भी पड़ता दिखाई देता है। ~ हेलन कल्डीकॉट / Helen Caldicott 
  • शिक्षक केवल जीवन के द्वार खोलने में मदद कर सकते हैं, लेकिन उस राह पर चलना या न चलना यह तो व्यक्ति विशेष पर निर्भर करता है। ~ रवीन्द्रनाथ टैगोर / Rabindranath Tagore 
  • कोई तुमको न सिखा सकता है, न आध्यात्मिक बना सकता है। तुम्हारी आत्मा के सिवाय और कोई गुरु नहीं है। ~ स्वामी विवेकानंद / Swami Vivekananda 
  • आपको शिक्षकों से मदद मिल सकती है लेकिन आपको बहुत कुछ अपने आप ही सीखना होगा। किसी कमरे में अकेले बैठकर। ~ डॉ. स्युस / Dr Seuss 
  • अध्यापक मार्गदर्शन का काम करते हैं, चलना आपको खुद ही पड़ता है। ~ एक चीनी कहावत 
  • निस्संदेह, यह आवश्यक है कि पहले अध्यापक स्वयं समझना आरम्भ करे। उसे निरंतर चौकन्ना रहना चाहिए तथा स्वयं अपने विचारों और भावनाओं के प्रति जागरूक रहना चाहिए। जागरूकता से प्रज्ञा आती है। ~ जे. कृष्णमूर्ति / J. Krishnamurti 
  • मैं जीने के लिए अपने पिता का ऋणी हूँ, पर अच्छे से जीने के लिए अपने गुरु का। ~ एलेग्जेंडर महान / Alexander The Great 
  • शुद्ध ह्रदय से बढ़कर हमारे लिए अच्छा उपदेशक और कोई हो ही नहीं सकता। ~ कबीर / Kabir

Feel free to add your views or more quotes about teachers day via comments.